वायरल हो रहे वीडियो व तस्वीर वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलन की नहीं है।

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

वर्तमान में देश में अलग-अलग जगहों पर कृषि विधेयक (२०२०) को लेकर हो रहे किसान आंदोलन के चलते, सोशल मंचो पर कई वीडियो, तस्वीरें व संदेश वाईरल होते चले आ रहे है। फैक्ट क्रेसेंडो ने पहले भी किसान आंदोलन के संबन्ध में वाईरल खबरों की सच्चाई आप तक पहुँचाई है। वर्तमान में सोशल मंचों पर एक वीडियो व तीन तस्वीरों का संकलन वाईरल हो रहा है। पोस्ट के साथ जो दावा वायरल हो रहा है उसके मुताबिक ये वीडियो व तस्वीरें वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलन से संबन्धित है। पोस्ट के शीर्षक में लिखा है, 

पानीपत में उमड़ा किसानों का ये सैलाब बता रहा है, भाजपा के अंतिम विसर्जन का समय आ चुका है। कुछ ही समय मे हम दिल्ली की ओर कूच करेंगे, जितना जोर है सरकार लगा ले, हम रुकेंगे नहीं। #standwithfarmerschallenge

फेसबुक | आर्काइव लिंक 

इस पोस्ट को सोशल मंचों पर काफी तेजी से साझा किया जा रहा है।

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

वायरल हो रहे पोस्ट में एक वीडियो व तीन तस्वीरों का संकलन होने के कारण हमने चारों की जाँच अलग – अलग की।

  1. वायरल हो रहा वीडियो :
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest1.png

उपरोक्त वीडियो की जाँच हमने इनवीड टूल के माध्यम से रीवर्स इमेज सर्च के ज़रिये की, तो हमें कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर यह वीडियो पोस्ट किया हुआ मिला। इस वीडियो को 21 फरवरी 2019 को ट्वीट किया गया था। ट्वीट के साथ जो शीर्षक है उसमें लिखा है, 

“#KisanLongMarch पुलिस द्वारा अनुमति देने से इनकार करने के बावजूद नासिक से मुंबई की ओर जा रहा है। #KisanMarchesAgain #BJPBetraysKisans”

इससे हम यह अनुमान लगा सकते है कि वाईरल हो रहा वीडियो वर्तमान का नहीं बल्कि 2019 का है। जाँच के दौरान हमें कई समाचार लेख मिले जिनमें 2019 में महाराष्ट्र में हुए किसान आंदोलन की जानकारी प्रकाशित की गई थी। 

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest18.png
स्क्रोल. इनआर्काइव लिंक
हिंदुस्तान टाइम्सआर्काइव लिंक
न्यूज़ 18आर्काइव लिंक

इस वीडियो से संबंधित और जानकारी हासिल करने के लिए व इसकी सच्चाई पता लगाने के लिए हमने सी.पी.आई (एम) के नेता व अखिल भारतीय किसान सभा के अध्यक्ष अशोक ढ़वले से संपर्क किया तो उन्होंने हमें बताया कि 

वायरल हो रहा वीडियो 2019 में हुए किसान मार्च का है। असल में उस मार्च के चलते किसानों ने नाशिक से मुंबई तक जाने का तय किया था परंतु वह मार्च नाशिक से 35-40 किलोमीटर पर ही बर्खास्त कर दिया गया था, इसका कारण यह था कि महाराष्ट्र के कृषि मंत्री गिरीश महाजन ने खुद आंदोलन के स्थान पर जाकर किसानों की मांगों पर लिखित मंज़ूरी दे दी थी। दरअसल किसान मार्च 2018 में भी हुआ था। किसानों की कुल मिलाकर चार मांगे थी जैसे किसानों के लिए कर्ज माफी, उत्पादन लागत का 1.5 गुना एम.एस.पी, वन जनजाति अधिनियम लागू करना, सूखा राहत आदि। ये किसान मार्च हमारे नेतृत्व में हुए है। 

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest2.png

आर्काइव लिंक

  1. पहली तस्वीर
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest8.png

हमारे द्वारा इस तस्वीर की जाँच यांडेक्स रीवर्स इमेज सर्च के ज़रिये करने पर, हमें कई समाचार लेख मिले जिनमें वायरल हो रही इस तस्वीर के अलग-अलग ऐंगल से खिंची हुई तस्वीरों को प्रकाशित किया गया था। जो तस्वीर वाईरल हो रही है उस तस्वीर को मार्च 2018 में यौर स्टोरी नामक एक वैबसाइट के एक समाचार लेख में प्रकाशित किया गया है। इस तस्वीर को सुजेश के नामक एक फोटोग्राफर ने खींचा था। इस तस्वीर के संबन्ध में जो जानकारी दी हुई है उसमें लिखा है, 

“भूमिहीन और आदिवासी किसानों ने मुंबई के आज़ाद मैदान तक 180  किलोमीटर की दूरी तय की, जिससे भारत में कृषि समुदाय के संकट और क्षेत्र के कट्टरपंथी बदलाव की जरूरत पर प्रकाश डाला गया है।“

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest19.png

आर्काइव लिंक

इस तस्वीर को कई अन्य कई समाचार पत्रों ने प्रकाशित किया था।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest22.png
द इंडियन एक्प्रेसआर्काइव लिंक
द इंडियन एक्प्रेसआर्काइव लिंक
  1. दूसरी तस्वीर 
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest4.png

उपरोक्त तस्वीर की जाँच हमने गूगल रीवर्स इमेज सर्च के माध्यम से की, तो हमें एक फेसबुक पोस्ट मिला जिसमें इस तस्वीर को साझा किया गया है। वह फेसबुक पोस्ट सितंबर 2017 में पोस्ट किया हुआ है। इस पोस्ट के साथ जो शीर्षक है उसमें लिखा है, 

ये भीङ सीकर में राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के शव यात्रा की है। सरकार की अर्थी बंध चुकी हैं और कंधे भी तैयार हो चुके हैंयुवा शक्ति 2018 का इंतजार कर रही हैं। पूरा राजस्थान महारानी के कुराज से तंग आ चुका है।

#Mission2018किसानमुख्यमंत्री

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest5.png

फेसबुक | आर्काइव लिंक

उपरोक्त फेसबुक पोस्ट के शीर्षक को ध्यान में रखते हुए हमने कीवर्ड सर्च के माध्यम से जाँच की तो हमें यही तस्वीर विकीपिडिया पर प्रकाशित मिली। उस तस्वीर से संबन्धित एक अनुच्छेद प्रकाशित किया हुआ है जिसमें लिखा है, 

अखिल भारतीय किसान सभा (ए.आई.के.एस) के नेतृत्व में किसान ऋण माफी, न्यूनतम समर्थन मूल्य और अन्य मांगों को बढ़ावा देने के लिए 1 सितंबर 2017 को राजस्थान में एक बड़े किसान आंदोलन की शुरूवात हुई। किसान सभा के अध्यक्ष अमरा राम, पूर्व विधायक पेमाराम, हेतराम बेनवाल, पवन दुग्गल, मंगल सिमग यादव, भागीरथ नेतर, सागर मल खाचरिया और अन्य लोग आंदोलन का नेतृत्व कर रहे थे। सीकर आंदोलन का केंद्र था इसलिए इस आंदोलन कोसीकर किसान आंदोलनके नाम से जाना जाता है। हज़ारों किसान सीकर मंडी में इकट्ठा हुए थे।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest6.png

इसके पश्चात हमें कीवर्ड सर्च के ज़रिये इस तस्वीर से संबंधित और पुख्ता सबूत पाने की कोशिश की तो हमें द लॉजिकल इंडिया द्वारा प्रसारित एक समाचार लेख मिला जिसमें वायरल हो रही इस तस्वीर को प्रकाशित किया गया है। इस समाचार लेख में भी 2017 में सीकर में हुए किसान आंदोलन की जानकारी दी हुई है। आपको यह बता दें कि द लॉजिकल इंडिया का यह समाचार लेख 13 सितंबर 2017 को प्रकाशित किया हुआ है।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest7.png

आर्काइव लिंक

  1. तीसरी तस्वीर (पाँच तस्वीरों का संकलन)
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest9.png

उपरोक्त तस्वीरों का अनुसंधान हमने अलग-अलग किया है। 

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest9.png

उपरोक्त तस्वीर की जाँच हमने गूगल रीवर्स इमेज सर्च के ज़रिये की तो हमें कई समाचार लेख मिले जिनके मुताबिक यह तस्वीर 2018 की है जब महाराष्ट्र में हज़ारों की तादात में किसान आंदोलन के तौर पर मुंबई गये थे। तस्वीर में दिख रही वृद्ध महिला के जैसे ऐसे कई किसान थे जिनके पैर पैदल चलने की वजह से छिल गए थे।

इस तस्वीर को कई समाचार लेखों में प्रकाशित किया था।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest25.png
साक्षी. कॉमआर्काइव लिंक
आनंदबज़ारआर्काइव लिंक
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest16.png

इस तस्वीर को समाचार लेखों द्वारा प्रतिनिधित्व के तौर पर महाराष्ट्र में सालों से पड़ रहे सूखे को दर्शाने के लिए इस्तेमाल किया था।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest26.png
द गार्डियनआर्काइव लिंक
इंडिया टूडेआर्काइव लिंक
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest17.png

उपरोक्त तस्वीर को किसानों की बुरी व्यथा दर्शाने के लिए समाचार पत्रों द्वारा प्रतिनिधित्व के लिए इस्तेमाल किया गया था।

लोकमत द्वारा इस तस्वीर को महाराष्ट्र के अहमदनगर में हुई बेमौसम वर्षा के कारण फसलों के नुकसान से किसानों की परेशानी को दर्शाने के लिए प्रतिनिधित्व तस्वीर के रूप में छापा गया था ।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest27.png

आर्काइव लिंक

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest28.png

उपरोक्त तस्वीर को भी किसानो की बुरी व्यथा को दर्शाने के लिए समाचार पत्रों द्वारा प्रतिनिधित्व के तौर पर इस्तेमाल किया जाता रहा है।

द ट्रिब्यूनआर्काइव लिंक
द ट्रिब्यूनआर्काइव लिंक
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Farmers' bill protest31.png

उपरोक्त दिख रही तस्वीर प्रतिनिधित्व तस्वीर है जिसे किसानों से संबन्ध रख रहे किसी भी लेख के साथ इस्तेमाल किया जाता रहा है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त दावे को गलत पाया है। वाईरल हो रहा वीडियो व तस्वीरों के संकलन का वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलन से कोई संबन्ध नहीं है, और न ही ये प्रकरण हरियाणा के पानीपत से है ।

Avatar

Title:वायरल हो रहे वीडियो व तस्वीर वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलन की नहीं है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •