क्या केरल के सदियामंगलम जंगल में रामायण के दिव्य जटायु पक्षी को देखा गया? जानिए सच…

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मंचों पर एक वीडियो काफी चर्चा में है, इस वीडियो में आप एक बहुत बड़े पक्षी को उड़ान भरते हुए देख सकते है और उस पक्षी के आस-पास आपको कई लोग उसकी तस्वीरें खिंचते हुए नज़र आएंगे। वीडियो के साथ जो दावा वाईरल हो रहा है उसके मुताबिक वीडियो में दिख रहा पक्षी रामायण का पक्षी जटायु है जो केरल के जंगल में पाया गया है। वीडियो के साथ जो शीर्षक है उसमें लिखा है, 

यह विशाल पक्षी जटायु है। जटायु, रामायण का दिव्य पक्षी बहुत कम ही देखा जाता है। हाल ही में, यह केरल के सदियामंगलम जंगल में देखा गया था।“

आपको बता दें कि यह वीडियो फैक्ट क्रेसेंडो को हमारे वॉट्सऐप नंबर 9049053770 पर एक उपभोक्ता ने सत्य पड़ताल के लिए भेजा था।

इस वीडियो को विभिन्न सोशल मंचों पर भी तेजी से साझा किया जा रहा है।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Jatayu Bird9.jpg

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरूआत हमने इनवीड टूल के माध्यम से रीवर्स इमेज सर्च करके की तो हमें इंटरनेट पर कई समाचार लेख मिले जिन्होंने वायरल हो रहे वीडियो की जानकारी प्रकाशित की है। उन समाचार लेखों में से हमने द डोडो नामक एक समाचार लेख को पढ़कर इस वीडियो की जानकारी हासिल करने की कोशिश की। समाचार लेख के मुताबिक वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहा पक्षी एंडियन कोंडोर है। उस पक्षी का नाम सयानी है और वीडियो अर्जेंटिना से है। 

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Jatayu Bird4.jpg

द डोडो के समाचार लेख के मुताबिक वीडियो में दिख रहा प्रकरण 28 मार्च 2014 का है जब सयानी नामक यह पक्षी लगभग 16 महिनों बाद फिर से उड़ान भर रहा था जिसके चलते उसका बचाव दल व अन्य लोग अर्जेंटिना के कैटामार्का में एक पहाड़ की चोटी पर इकट्ठा हुए थे। दरअसल दिसंबर 2012 में अर्जेंटिना के कैटामार्का में सयानी (एंडियन कोंडोर) को जहर दिया गया था जिसके बाद उसकी मौत की संभावना बढ़ चुकी थी। तदनंतर स्थानीय पुलिस और अधिकारियों की मदद से सयानी को एक साल से अधिक समय तक इलाज के लिए ब्यूनस आयर्स चिड़ियाघर (Buenos Aires Zoo)  भेजा गया था। जिसके बाद वह पक्षी 16 महीनों बाद मार्च 2014 में बिलकुल ठीक हो गया था।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Jatayu Bird5.jpg
C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Jatayu Bird6.jpg

आर्काइव लिंक

जाँच के दौरान हमने यह भी पाया कि 16 महीनों तक सयानी की देखभाल ब्यूनस आयर्स चिड़ियाघर के साथ ए.एन.डी.ए (ANDA) संस्था भी कर रही थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ए.एन.डी.ए ब्राज़िल देश की एक पशु अधिकार समाचार एजेंसी है। ए.एन.डी.ए ने वाईरल हो रहे वीडियो को उनके यूट्यूब चैनल पर 4 सितंबर 2018 को प्रसारित किया था और उसके शीर्षक में लिखा है, “स्वतंत्रता की उड़ान।”

आर्काइव लिंक

इसके पश्चात हमने केरल में स्थित कोलम के वन विभाग के अधिकारी संजयन कुमार से वाईरल हो रहे वीडियो के बारे में जानने के लिए संपर्क किया तो उन्होंने कहा, 

“मैंने वायरल हो रहा यह वीडियो पहले कभी नहीं देखा है और अगर इस वीडियो को ध्यान से देखा जाए तो इसमें किसी भी व्यक्ति ने मास्क नहीं पहना हुआ है इसका मतलब यह है कि वीडियो में दिखाई गयी घयना इस वर्ष की नहीं है। मैंने इस वीडियो की जानकारी हासिल करने की कोशिश की, वीडियो में दिखाया गया पक्षी केरल के आस पास अभी तक कहीं भी देखने को नहीं मिला है। इसको ध्यान में रखते हुए हम यह कह सकते है कि यह वीडियो केरल का नहीं है।“   

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त दावे को गलत पाया है। वाईरल हो रहे वीडियो अंर्जेंटिना देश के कैटामार्का का है और जो पक्षी इस वीडियो में नज़र आ रहा है वह सयानी नामक एक एंडियन कोंडोर पक्षी है।

Avatar

Title:क्या केरल के सदियामंगलम जंगल में रामायण के दिव्य जटायु पक्षी को देखा गया? जानिए सच…

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply