1000kg (विस्फोटक) के साथ RSS के दो कार्यकर्ता गिरफ़्तार, बड़ी हमले की थी साज़िश | क्या यह सच है?

Crime False National
  • 11
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    11
    Shares

११ मार्च २०१९ को पहली बार फेसबुक पर साझा की गई Nation First की यह पोस्ट काफी चर्चा में है | ‘1000kg (विस्फोटक) के साथ RSS के दो कार्यकर्ता गिरफ़्तार, बड़ी हमले की थी साज़िश’ इस हैडलाइन के तहत यह खबर में यह दावा किया गया है कि हाल ही में कोलकाता में १००० किलो विस्फोटक के साथ जो दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता है | जानते है इसकी सच्चाई|


ARCHIVE POST
देखते है यह खबर फ़ेसबुक पर कितना असर जमा रही है | फैक्ट चेक किये जाने तक Truth Of Indian Politics के फेसबुक पेज पर इस पोस्ट को ९ हजार से ज्यादा प्रतिक्रियाएं मिल चुकी थी |  

खबर में समाचार एजेंसी ANI के ट्वीट का फोटो देकर यह दावा किया गया है कि, बंगाल काफ़ी अरसे से हिन्दू कट्टरवादी सेनाओं ख़ास कर संघ और बीजेपी के निशाने पर है जहाँ संघ और बीजेपी नेताओं द्वारा लगातार माहोल ख़राब करने की नाकाम कोशिश हो रही है आज एक और बड़ा हादसा होते होते रह गया संघ द्वारा बंगाल की फ़िज़ा बिगाड़ने की कोशिश बंगाल पुलिस की मुस्तेदी के सामने नाकाम हो गई और संघ कार्यकर्ताओं को पुलिस ने धर दबोचा आज सुबह पच्छिम बंगाल मे (STF) स्पेशल टास्क फ़ोर्स ने इंद्रजीत और पदमोलोचो नामी (RSS) संवय सेवक संघ के कार्यकर्ताओं को एक हज़ार किलो विस्फोटक पदार्थ के साथ गिरफ़्तार किया है |’

चूँकि देश में लोकसभा के चुनाव घोषित हो चुके है, इस तरह की भ्रमित करने वाली बहुत सी खबरे वायरल हो रही है | सो हमने इस पोस्ट की सच्चाई जानना जरुरी समझा |

संशोधन से पता चलता है कि…
गूगल पर सर्च करने पर पता चला कि शनिवार, ९ मार्च २०१९ को तडके कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फ़ोर्स (एसटीएफ) ने शहर के चितपुर इलाके में एक ट्रक पकड़ा जिसमे से १००० किलो पोटैशियम नाइट्रेट, जो की विस्फोटक बनाने के लिए उपयोग में लाया जाता है, जब्त किया गया तथा ट्रक के ड्राईवर व क्लीनर को गिरफ्तार किया जिनके नाम इन्द्रजीत भुई (२५) व पद्मलोचन डे (३५) बताये जाते है | बाद में इसी सिलसिले में और एक गिरफ़्तारी हुई, जिसका नाम सुकांत साहू है और जो ओडिशा का रहने वाला है |

कोलकाता पुलिस ने इस घटना की जानकारी अपने आधिकारिक फेसबुक अकाउंट से दी थी, जो आप नीचे देख सकते है |

ARCHIVE POST

समाचार एजेंसी ANI ने भी इस खबर कि जानकारी अपने आधिकारिक ट्वीटर अकाउंट पर दी थी, जो की आप नीचे देख सकते है |

ARCHIVE TWEETER

उपरोक्त नेशन फर्स्ट की पोस्ट में दिए हुए ANI ट्वीट के फोटो का स्क्रीन शॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज में सर्च करने के बाद हमें जो रिजल्ट मिले वह आप नीचे देख सकते है |

इसके और आगे गूगल पर सर्च करने से हमें कोलकाता के कुछ स्थानीय अख़बार भी मिले जिन्होंने इस घटना की खबर प्रकाशित की | odishasuntimes ने इस खबर के साथ एक और व्यक्ति के ओडिशा से पकडे जाने की खबर भी दी थी, जो इस लिंक पर पढ़ी जा सकती है |

ARCHIVE OST | ARCHIVE OST1

इसके अलावा आनंद बझार पत्रिका ने भी यह खबर प्रकाशित की थी तथा साथ में उससे सम्बंधित एक दूसरी खबर दी थी, जो आप इस लिंक पर पढ़ सकते है | इन दोनों ख़बरों में पकडे गए एक आरोपी के साथ उस ट्रक का फोटो भी दिया गया है |

ARCHIVE ABP | ARCHIVE ABP1

यह सभी खबरे पढने के बाद यह पता चलता है कि किसी भी खबर में यह कहीं भी नहीं कहा गया है कि गिरफ्तार किये लोगों ने उनका राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ सम्बन्ध होने की बात पूछताछ में बताई हो | या तो पुलिस की तरफ से भी ऐसी कोई जानकारी दिए जाने की बात किसी भी खबर में नहीं कही गई है |  

अब हमने इसकी पुष्टि सीधे कोलकाता पुलिस से करने की कोशिश की | मामले की जांच कर रहे टीम से हमारा सीधा संपर्क हुआ और उन्होंने बताया की अभी तक की छानबीन के बाद, गिरफ्तार आरोपियों का किसी भी राजकीय या सामाजिक संगठन के साथ सम्बन्ध होने की बात सामने नहीं आई है |  

जांच का परिणाम :  इस संशोधन से, तथा कोलकाता जांच टीम द्वारा पुष्टि करने पर यह स्पष्ट होता है की पकडे गए आरोपीयों का किसी भी संगठन के साथ सम्बन्ध लगाना गलत है | जांच टीम ने हमसे बात करते हुए यह साफ़ तौर पर कहा कि आरोपियों ने अभी तक उनका किसी संगठन से सम्बन्ध होने का बयान नहीं दिया है | अतः यह खबर गलत(FALSE) है |  

Avatar

Title:1000kg (विस्फोटक) के साथ RSS के दो कार्यकर्ता गिरफ़्तार, बड़ी हमले की थी साज़िश | क्या यह सच है?

Fact Check By: Rajesh Pillewar 

Result: False


  • 11
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    11
    Shares