कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतकर आये खिलाड़ियों की यह तस्वीर किसान आंदोलन की नहीं

False Social

तस्वीर में दिख रहे खिलाड़ी ओलंपिक में जीतकर आये थे और ये उसी के सम्मान समारोह की तस्वीर है। 

हाल ही में बर्मिंघम में कॉमनवेल्थ गेम्स हुये थे, जिसमें भारत ने 61 पदक जीते है। इसी को लेकर एक तस्वीर इंटरनेट पर वायरल हो रही है। उसमें आप देश के कुछ खिलाड़ी, राकेश टिकैत और अन्य किसान नेताओं को देख सकते है। दावा किया जा रहा है कि ये खिलाड़ी जिन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स में पदक जीते है वे किसान आंदोलन का हिस्सा थे।

वायरल हो रहे पोस्ट में यूज़र ने लिखा है, “ये फोटो किसान आंदोलन की है। ये तीनों अब सोना जीतकर आये है।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक


Read Also: लाल सिंह चड्ढा फिल्म के प्रीमियर में थिएटर खाली रहने का झूठा दावा वायरल; जानिये सच…


अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस तस्वीर की जाँच हमने गूगल रिवर्स इमेज सर्च कर की। परिणाम में हमें ऐसी ही तस्वीर अभिमन्यू कोहर नामक एक ट्वीटर यूज़र द्वारा 11 सितंबर 2021 को ट्वीट की हुई मिली। उसके साथ दी गयी जानकारी में बताया गया है कि यह तस्वीर एक समारोह की है जहाँ ओलंपिक में पदक विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया जा रहा है। इसमें रवि दहिया, बजरंग पुनिया, सुमित वाल्मीकि, दीपक पुनिया इन खिलाड़ियों  को खरखौदा अनाज मंड़ी में सम्मानित किया जा रहा है। उस दौरान राकेश टिकैत, सरदार जगजीत सिंह दल्लेवाल और अभिमन्यू कोहाड़ खुद मौजूद थे।

आर्काइव लिंक

इस जानकारी को ध्यान में रखते हुये हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च किया। हमें 10 सितंबर 2021 को ई.टी.वी भारत के वेबसाइट पर इस समारोह की कुछ और तस्वीरें प्रकाशित की हुई मिली। उसमें बताया गया है कि हरियाणा के खरखौदा अनाज मंडी में किसान नेता राकेश टिकैत और जनजीत सिंह ने टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने वाले पहलवान और खिलाडियों को सम्मानित किया। उन्होंने पहलवान रवि दहिया, बजरंग पूनिया, दीपक पूनिया, हॉकी खिलाड़ी सुमित कुमार और पैरा ओलंपियन अमित सरोहा को चांदी का रथ भेंट कर सम्मानित किया। राकेश टिकैत और जगजीत सिंह ने खिलाड़ियों का जोरदार स्वागत भी किया।

आर्काइव लिंक


Read Also: लाल सिंह चड्ढा फिल्म के प्रीमियर में थिएटर खाली रहने का झूठा दावा वायरल; जानिये सच…


निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रही तस्वीर के साथ किया गया दावा गलत है। यह तस्वीर किसान आंदोलन की नहीं है। पिछले वर्ष जब खिलाड़ी ओलंपिक जीतकर आये थे तब उनके लिये सम्मान समारोह आयेजित किया गया था। यह तब की तस्वीर है।

Avatar

Title:क्या कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतकर आये खिलाड़ियों की यह तस्वीर किसान आंदोलन की है?

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: False