क्या बीजेपी नेता ने आरक्षण व्यवस्था खत्म और संविधान बदलने की मांग की, नहीं दावा फर्जी है … 

False Political

वीडियो में दिख रहा शख्स आचार्य प्रमोद कृष्णम है। उनका ये वीडियो एक साल पुराना है, तब वो कांग्रेस के साथ थे। 10 फरवरी 2024 को कांग्रेस ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया। वीडियो को हालिया लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी से जोड़कर भ्रम फैलाया जा रहा है।

लोकसभा चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर आचार्य प्रमोद कृष्णम का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें वो कहते है कि , यदि आप मेरा समर्थन करते हैं तो अपने हाथ उठाएँ। यदि आप भारत के लोकतांत्रिक ढांचे और राजनीति से जातिवाद को हटाना चाहते हैं, तो अगले ‘महाकुंभ’ में एक प्रस्ताव रखा जाना चाहिए जिसमें मांग की जाएगी  कि भारत को जाति-आधारित आरक्षण से मुक्त किया जाना चाहिए। वायरल वीडियो को हालिया लोकसभा चुनाव से जोड़ कर दावा किया जा रहा है कि बीजेपी नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने आरक्षण खत्म करने और संबिधान बदलने की बात कर रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए यूजर्स बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं। 

वायरल वीडियो के साथ यूजर ने लिखा है- आरक्षण भी खत्म करना चाहते हैं। संविधान भी बदलना चाहते हैं। ये गहरी साजिश है, अब जुबान पर आने लगी है।

फेसबुकआर्काइव 

इसके अलावा कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने वायरल वीडियो के साथ बीजेपी की तीखी आलोचना करते हुए लिखा है – संविधान बदलेंगे – यह सिर्फ़ BJP नेताओं का अपरिपक्व बयान नहीं है, यह मंसूबे और सोच नरेंद्र मोदी, RSS और BJP की है ।मोदी के करीबी आचार्य प्रमोद कृष्णन तो सीधे सीधे आरक्षण ख़त्म करने की माँग कर रहे हैं, ऐसी सामन्तवादी सोच को हम क़तई कामयाब नहीं होने देंगे।

आर्काइव

अनुसंधान से पता चलता है कि…

पड़ताल की शुरुआत में हमने वायरल वीडियो के कुछ तस्वीरों का रिवर्स इमेज सर्च किया। परिणाम में वायरल वीडियो हमें बीजीटी न्यूज (आर्काइव) के आधिकारिक फेसबुक पेज पर मिला। वीडियो 26 सितंबर 2023 को अपलोड किया गया है। इससे ये स्पष्ट होता है कि वायरल वीडियो का हालिया लोकसभा चुनाव से कोई संबंध नहीं है। 

फेसबुक पर अपलोड वीडियो के 2 मिनट 24 सेकंड पर, वायरल वीडियो के क्लिप को देखा जा सकता है। 

वीडियो के साथ यूजर ने लिखा है- मंच से आचार्य की सत्ता धारी को चुनौती ब्राह्मणों को धमकाने की कोशिश मत करना बोल कभी हमारे होते थे 7 मुख्यमंत्री। निम्न में पूरे वीडियो देखें। 

मिली जानकारी की मदद लेते हुए हमने आगे की जांच की। आगे हमें एएनआई (आर्काइव)  की एक रिपोर्ट हाल में प्रकाशित मिली। जिसमें वायरल वीडियो के बारे में सफाई देते हुए आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि , ”मेरा यह भाषण 1 साल पुराना है जो 24 सितंबर 2023 को दिया गया था । तब मैं कांग्रेस के साथ था और आज मैं पीएम मोदी के साथ हूं। मैं जातिवाद और छुआछूत के खिलाफ हूं।  कांग्रेस जो दुष्प्रचार और साजिश कर रही है, उससे उन्हें कोई फायदा नहीं होगा। निम्न में पूरी खबर देखें। 

आगे हमें कृष्णम के एक्स अकाउंट पर वायरल वीडियो की कुछ और तस्वीरें मिलीं। जानकारी के अनुसार आचार्य प्रमोद कृष्णम का ये बयान 24 सितंबर 2023 को हरिद्वार में ब्राह्मण महाकुंभ कार्यक्रम के दौरान का है। तब वह कांग्रेस का हिस्सा थे। 

उन्हें बार-बार पार्टी विरोधी बयान देने के कारण 10 फरवरी  2024 को कांग्रेस पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। हिंदुस्तान टाइम्स (आर्काइव) में प्रकाशित खबर के अनुसार इस साल की शुरुआत में उन्होंने अयोध्या राम मंदिर अभिषेक समारोह के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की थी और कार्यक्रम में शामिल नहीं होने के लिए कांग्रेस की आलोचना की थी, जिसके बाद कांग्रेस ने उन्हें छह साल के लिए निष्कासित कर दिया था ।

हालाँकि वह अभी भी आधिकारिक तौर पर भाजपा में शामिल नहीं हुए हैं, लेकिन अब उन्हें भाजपा समर्थक माना जाता है। निम्न में इंडिया टुडे की पूरी खबर देखें। 

निष्कर्ष- तथ्य-जांच के बाद हमने पाया कि, आचार्य प्रमोद कृष्णम का ये एक साल पुराना वीडियो है, तब वह कांग्रेस के साथ थे। वीडियो को हालिया लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी से जोड़कर भ्रम फैलाया जा रहा है।

Avatar

Title:क्या बीजेपी नेता ने आरक्षण व्यवस्था खत्म और संविधान बदलने की मांग की, नहीं दावा फर्जी है …

Fact Check By: Sarita Samal 

Result: False

Leave a Reply