कोमल मिश्रा नाम की नर्स की मौत की खबर फर्जी है। फोटो में दिख रही लड़की जीवित है |

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोमल मिश्रा नाम की एक कथित नर्स की मौत का संदेश सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है | वायरल मैसेज के अनुसार, पुणे के नायडू अस्पताल में कोरोना रोगियों का इलाज करने वाली नर्स कोमल मिश्रा की कोरोनावायरस संक्रमण से मृत्यु हो गई है | साथ ही यह भी दावा किया जा रहा है कि वह यवतमाल जिले के जोधमोहा की निवासी थी | 

फैक्ट क्रेस्केंडो की जांच में यह दावा गलत पाया गया है | 

पोस्ट में लिखा गया है कि “यवतमाल की मूल निवासी कोमल मिश्रा जो पुणे के अस्पताल में नर्स का काम करती थी आज कोरोनावायरस से संक्रमित होकर मर गयीं | अपनी नर्स के ड्यूटी पालन करते करते आज सुबह साड़े 5 बजे उन्होंने अपनी आखरी साँस ली |”

इसी खबर को साझा करते हुए जनता रक्षक नामक एक वेबसाइट ने बताया कि यवतमाल जिले में एक नर्स कुमारी कोमल मिश्रा का नायडू अस्पताल में ड्यूटी के दौरान कोरोनावायरस के कारण दुखद निधन हो गया |

 फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक | जनता रक्षक | आर्काइव लिंक  

अनुसंधान से पता चलता है कि..

फैक्ट क्रेसेंडो ने पहले जांच की कि क्या कोमल मिश्रा नामक एक नर्स की पुणे के नायडू अस्पताल में कोरोना में मृत्यु हो गई। हमने संजीव वावरे, जो कि सहायक स्वास्थ्य अधिकारी, पुणे नगर निगम, नायडू अस्पताल के प्रभारी हैं से इस सन्दर्भ में संपर्क किया उन्होंने हमें बताया कि नायडू अस्पताल में कोमल मिश्रा नाम की कोई नर्स नहीं है। सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज सिर्फ अफवाहें हैं। यहां किसी भी नर्स की मौत नहीं हुई है |

फैक्ट क्रेसेंडो ने इसके बाद यवतमाल जिले के कलांब तालुका में जोधमोहा गांव के सरपंच ज्ञानेश्वर दहारे से संपर्क किया, सरपंच ज्ञानेश्वर दहारे के अनुसार “सोमवार से ही हमें कोमल मिश्रा के निधन के बारे में एक संदेश मिल रहा है। उसके बाद हमने गाँव में गहन जाँच की। मतदाता सूचियों की जांच की। हालाँकि, मिश्रा उपनाम का कोई भी परिवार जोधमोहा गाँव में रहने वाला नहीं पाया गया। हमारे गाँव में कोमल मिश्रा नाम की लड़की के कोई रिश्तेदार या माता-पिता नहीं हैं। हम भी चिंतित है व सोच रहे हैं कि सोशल मीडिया पर जोधमोहा गांव के नाम पर ऐसा गलत संदेश क्यों फैलाया जा रहा है |”

जोधमोहा गांव से पुलिस थाने के अधिकारी पाटिल सुमन राजुरकर ने  फैक्ट क्रेसेंडो को बताया कि कोमल मिश्रा नाम की एक लड़की के बारे में संदेश गलत है | “सोशल मीडिया पर, हमारे गाँव के नाम पर एक संदेश वायरल होने के बाद, हमने गाँव का निरीक्षण किया। हालांकि, हमारी जाँच में यह पता चला कि कोमल मिश्रा नाम की कोई लड़की पुणे के नायडू अस्पताल में काम नहीं कर रही थी और इस गांव में भी इस नाम से कोई लड़की नहीं है।” 

जोधमोहा के स्वास्थ्य मंत्री डॉ राजेश वादी ने फैक्ट क्रेसेंडो को बताया कि कोमल मिश्रा का संदेश फैलने के बाद, मैं खुद गांव में घूमता रहा। लेकिन, गाँव में इस नाम वाली लड़की नहीं मिली। यही नहीं, हमने पास के खतेश्वर गांव में भी पूछताछ की, जहां ग्राम पंचायत स्थित है। “पिछले दस वर्षों से मिश्रा नाम का कोई नहीं पाया गया है। हम नहीं जानते कि लड़की कौन है और कोमल मिश्रा की फोटो सोशल मीडिया पर क्यों घूम रही है। लेकिन इन दोनों चीजों का जोदमोहा गांव से कोई लेना-देना नहीं है। ”

फैक्ट क्रेस्केंडो ने ग्रामीणों के साथ भी चर्चा की। उन्होंने यह भी कहा कि मिश्रा जात का गाँव में कोई परिवार नहीं है और था । एक ग्रामीण ने कहा, “मिश्रा हमारे समाज का अंतिम नाम है। लेकिन हमारे समुदाय में कोई भी इस गांव में नहीं है। इस पोस्ट के वायरल होने के बाद मेरे कई रिश्तेदारों ने मुझसे पूछा। मैंने उन्हें बताया कि लड़की जोदोमाह गाँव की नहीं थी। ”

इससे यह स्पष्ट है कि यवतमाल जिले के जोदमोहा गाँव में कोमल मिश्रा नाम की कोई लड़की नहीं है।

तो यह फोटो किसका है?

वायरल फोटो शशिकला ठाकरे नाम की एक लड़की की है। वह भंडारा जिले के धर्मपुरी की रहने वाली है और अफवाहें फैलाने के लिए उसके फोटो का दुरुपयोग किया गया है। उसने सकोली पुलिस स्टेशन में इसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है |

फैक्ट क्रेसेंडो से बात करते हुए, शशिकला ठाकरे ने कहा कि मैं पिछले ३ महीनों से सैंडुरवाफा में एक नर्सिंग होम में काम कर रही हूँ। २० अप्रैल को, मेरे एक मित्र ने मुझे एक पोस्ट की फोटो भेजी जो व्हाट्सएप पर वायरल हो गई है। किसी ने मेरी फोटो का इस्तेमाल कोमल मिश्रा नामक नर्स की मौत की झूठी खबर फैलाने के लिए किया। यह फोटो फेसबुक पर मेरी डीपी थी। किसी ने गलत सूचना का उपयोग करके इसे फैलाया है। मैंने साकोली पुलिस स्टेशन में एक औपचारिक शिकायत दर्ज कराई है |

शशिकला ने अपनी शिकायत की एक तस्वीर फैक्ट क्रेसेंडो को भेजी | उन्होंने फैक्ट क्रैसेन्डो को एक वीडियो भी भेजा जिसमें उन्होंने लोगों से सोशल मीडिया पर झूठी खबरें न फैलाने का आग्रह किया गया है |

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमें उपरोक्त पोस्ट को गलत है | उपरोक्त तथ्यों से स्पष्ट है कि सोशल मीडिया पर कोमल मिश्रा के नाम से जो पोस्ट वायरल हुआ है वह असत्य है | शशिकला ठाकरे की फोटो का गलत इस्तेमाल करके झूठी अफवाह फैलाई गई है। वह जोधमोहा गांव की नहीं, बल्कि भंडारा जिले के धर्मपुर की रहने वाली है। वह कोरोना से संक्रमित नहीं है, लेकिन झूठी खबर फैलाने वालों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है | 

Avatar

Title:कोमल मिश्रा नाम की नर्स की मौत की खबर फर्जी है। फोटो में दिख रही लड़की जीवित है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •