बीकानेर के कोट गेट इलाके में मूसलाधार बारिश से बाढ जैसी स्थिति का वीडियो अमृतसर के हाल बाज़ार का बताकर फैलाया जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१९ अगस्त २०१९ को फेसबुक पर ‘Pathankot Live’ नामक एक फेसबुक पेज पर एक वीडियो साझा किया गया है, जिसमे शहर मे बाढ़ की स्थिति दिख रही है | इस पोस्ट के विवरण में लिखा है कि, “#Live : अमृतसर हाल बाजार खतरे में निशान पर ।।” इस पोस्ट के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि, ‘यह वीडियो अमृतसर के हाल बाज़ार में मुसलाधार बारिश से आयी बाढ का है |’

क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले उपरोक्त वीडियो के साथ किये गए दावे के बारे में गूगल पर ‘hall bazar amritsar’ कीवर्ड्स से ढूंढा, तो हमें अमृतसर के हॉल बाज़ार में स्थित गांधी गेट की तस्वीर मिली |

जब हमने इस तस्वीर का विश्लेषण किया तो पाया कि, यह तस्वीर उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो में दिखने वाले गेट से बिलकुल मिलती-जुलती नहीं है |

इसके बाद हमने InVid Tool की मदद से उपरोक्त वीडियो से स्क्रीनशॉट लेकर जब यांडेक्स में ढूंढा, तो हमें YouTube पर १ अगस्त २०१९ को NFC film द्वारा अपलोड किया गया एक वीडियो मिला |

इस वीडियो के शीर्षक में लिखा है ‘Bikaner Rain’ | इसके अलावा NFC film द्वारा १ अगस्त २०१९ को तीन और वीडियो अपलोड किए गए है, जिसके शीर्षक मे भी ‘Bikaner Rain’ लिखा हुआ है | इन वीडियो को देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

Video 1Video 2Video 3

फिर हमने गूगल पर ‘Bikaner Gate’ कीवर्ड्स से ढूंढा, तो हमें बीकानेर में स्थित कोट गेट की तस्वीर प्राप्त हुई | 

दोनों तस्वीरों के विश्लेषण करने पर हमने पाया कि, यह तस्वीर उपरोक्त वीडियो में दिखने वाले गेट से मिलती-जुलती है | 

इस अनुसंधान से यह तो स्पष्ट हो गया कि उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो अमृतसर स्थित हॉल बाज़ार का नहीं, बल्कि बीकानेर मे स्थित कोट गेट का है |

इस घटना की पुष्टि के लिए हमने राजस्थान के कोट गेट थाने में नियुक्त CO धरम पुनिया से संपर्क साधा | यह वीडियो देखने के बाद उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि, यह १ अगस्त २०१९ में कोट गेट-बीकानेर इलाके का ही वीडियो है |

इसके बाद हमे ‘राजस्थान पत्रिका’ द्वारा २ अगस्त २०१९ को प्रसारित ख़बर मिली | इस ख़बर में कहा गया है कि, १ अगस्त २०१९ की शाम को बीकानेर में कोटगेट इलाके के केईएम रोड में मुसलाधार बारिश की वजह से कई वाहन बह गए | पूरी ख़बर को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

RajasthanPatrikaPost | ArchivedLink

हमारी फैक्ट क्रेस्केंडो मराठी टीम ने ६ अगस्त २०१९ को इस दावे पर फैक्ट चेक किया था | तब यह वीडियो ‘महाराष्ट्र का है’, इस दावे से फ़ैल रहा था |फैक्ट क्रेस्केंडो मराठी टीम ने कोट गेट के पास दुकानदारों से संपर्क किया था, हरिओम मेडिकल स्टोर के सुरेश कुमार अग्रवाल ने कहा कि वीडियो बीकानेर का ही है | बीकानेर में ३१ जुलाई से १ अगस्त के बीच भारी बारिश हुई थी | यह तब था जब कोट गेट क्षेत्र में पानी जमा था| इतना ही नहीं, सुरेश ने उस दिन अपने मोबाइल पर निकाले गए कोट गेट के कई वीडियो भी फैक्ट क्रेस्केंडो टीम को भेजे |

इसके अलावा कोट गेट के पास रहने वाले विष्णु लखानी ने भी कहा कि वीडियो बीकानेर के कोट गेट का है | उन्होंने अपने घर से एक अलग एंगल से लिया वीडियो फैक्ट क्रैसेन्डो टीम को भेजा था | आप इसे नीचे देख सकते हैं | इसमें कोट गेट स्पष्ट रूप से दिख रहा है |

नीचे विष्णु लखानी द्वारा भेजे गए वायरल वीडियो और उपरोक्त वीडियो के स्क्रीनशॉट की तुलना है | इससे साबित होता है कि यह वीडियो राजस्थान के बीकानेर का है |

इस अनुसंधान से यह बात स्पष्ट होती है कि पोस्ट में साझा वीडियो बीकानेर के कोटगेट इलाके का है और अमृतसर से इस वीडियो का कोई सम्बन्ध नहीं है | यह वीडियो गलत विवरण के साथ लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से फैलाया जा रहा है |

जांच का परिणाम :  उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा ‘यह वीडियो अमृतसर के हाल बाज़ार में मुसलाधार बारिश से आयी बाढ का है |’ ग़लत है |

Avatar

Title:बीकानेर के कोट गेट इलाके में मूसलाधार बारिश से बाढ जैसी स्थिति का वीडियो अमृतसर के हाल बाज़ार का बताकर फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •