कश्मीर के अनंतनाग में हुई पत्थरबाजी के पुराने वीडियो को वर्तमान जयपुर की घटना बता वायरल किया जा रहा है।

False Social

एक वीडियो इंटरनेट पर काफी तेज़ी से साझा किया जा रहा है। उसमें आप कई लोगों को अल्लाह-हू-अकबर का उद्घोष कर पत्थरबाजी व हिंसा करते हुये देख सकते है। इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि यह राजस्थान के जयपुर में हालही में हुई पत्थरबाजी का वीडियो है।

वायरल हो रहे पोस्ट के साथ यूज़र ने लिखा है, 

राजस्थान कश्मीर कब बना मालूम ही नही चला। कल जयपुर में हुआ है, आप इसके चपेट में कब आने वाले है,खुद ही तय कर लो।“

(शब्दशः)

फेसबुक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा वीडियो राजस्थान के जयपुर का नहीं है। यह वीडियो कश्मीर के अनंतनाग में हुई पत्थरबाजी का है व पुराना  है। इसका वर्तमान और जयपुर से कोई संबन्ध नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को बारीकी से देखकर की, हमें इस वीडियो में वैस्टर्न होज़री नाम की दुकान का बोर्ड दिखा। 

हमने इसको ध्यान में रखकर गूगल पर कीवर्ड सर्च किया। नतीजन हमें वैस्टर्न होज़री दुकान कश्मीर के अनंतनाग में स्थित मिली। इसके बाद फैक्ट क्रेसेंडो ने वैस्टर्न होज़री के मालिक “खालिद सूतू संपर्क किया व इस वीडियो के बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश की। उन्होंने हमें बताया कि, “वीडियो में दिख रही पत्थरबाजी वर्ष २०१६/१७ के आस-पास से, ये घटना शुक्रवार के दिन अनंतनाग में हुई थी। वीडियो में दिख रही वैस्टर्न होज़री दुकान हमारी ही है। उस वक्त अनंतनाग में स्थानीय लोगों और पुलिस के बीच पत्थबाजी होना आम बात थी। हर शुक्रवार को हाँ ये सब होता ही रहता था। ये वीडियो उस दिन का जब यहाँ किसी की मौत हुई थी और इसी वजह से कश्मीर में अशांति मची हुई थी। लोगों और पुलिस के बीच झड़प हो रही थी। एक पुलिस अधिकारी पर लोग पत्थर फेंक रहे थे और उनको बचाने के लिये हमने उन्हें हमारी दुकान में सुरक्षा दी थी। ये आप उस वीडियो में देख सकते है।

आगे बढ़ते हुये फैक्ट क्रेसेंडो ने कश्मीर के श्रीनगर में स्थित एक फोटो जर्नलिस्ट बसित ज़ारगर से संपर्क किया व उन्हें ये वीडियो भेज कर उनसे इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि, “वायरल हो रहा वीडियो कश्मीर के अनंतनाग का है। ये काफी पुराना वीडियो है। ये वीडियो लगभग पांच साल पुराना है।

जाँच के दौरान हमने पाया कि इसी दावे के साथ एक और वीडियो इंटरनेट पर काफी तेज़ी से वायरल हो रहा है। उसमें आप रास्ते पर कुछ पुलिसकर्मियों को देख सकते है। इस वीडियो में भी आप लोगों को पत्थरबाजी करते हुये देख सकते है। इसके साथ भी यही दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो जयपुर में हुई पत्थरबाजी का है।

फेसबुक

फैक्ट क्रेसेंडो ने इस दूसरे वीडियो के बारे में भी जानने के लिये कश्मीर के श्रीनगर में स्थित एक फोटो जर्नलिस्ट बसित ज़ारगर से संपर्क कर बात की, उन्होंने हमें बताया कि, “यह वीडियो भी उसी घटना का है जो पहले वीडियो में घट रही है। यह भी अनंतनाग में  लगभग पांच वर्ष पहले हुयी पत्थरबाजी का ही वीडियो है।

इसके बाद उपरोक्त सारे सबूतों की पुष्टि करने हेतु फैक्ट क्रेसेंडो ने कश्मीर के आई.जी विजय कुमार से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया कि “वायरल हो रहे दोनों वीडियो कश्मीर के अनंतनाग के है। ये एक ही घटना के वीडियो है। ये अनंतनाग में वर्ष 2017 में हुई पत्थरबाजी के है। 

आपको बता दें कि जाँच के दौरान हमें अनंतनाग में हुई पत्थरबाजी के ऐसे कई वीडियो मिले जिससे हमें पता चला कि वहाँ अकसर ऐसी पत्थरबाजी होती रहती है। आप उन वीडियो को यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। यह वीडियो राजस्थान के जयपुर का नहीं है। यह कश्मीर के अनंतनाग में हुई पत्थरबाजी का एक पुराना वीडियो है। इसका वर्तमान और जयपुर से कोई संबन्ध नहीं है।

तालिबान के अफ़ग़ानिस्तान पर कब्ज़े से संबंधित अन्य फैक्ट चेक को आप नीचे पढ़ सकते है|

Avatar

Title:कश्मीर के अनंतनाग में हुई पत्थरबाजी के पुराने वीडियो को वर्तमान जयपुर की घटना बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply