पैसे बांटने के पुराने वीडियो को शाहीन बाग़ के नाम से फैलाया जा रहा है |

False International Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) का विरोध भारत के कई हिस्सों में व्यापक रूप से हो रहा है, इन विरोधों में दिल्ली के शाहीन बाग़ में पिछले ३९ दिनों से लगातार २४x७ प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने शाहीन बाग़ को नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ प्रदर्शनों का केंद्र बिंदु बना दिया है, जिसके चलते सोशल मंचो पर शाहीन बाग़ को लेकर कई भ्रामक व गलत लेख, वीडियो व फोटो अकसर डालीं जा रहीं है, ऐसा ही एक पोस्ट जिसमे एक वीडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि दिल्ली के शाहीन बाग़ में प्रदर्शनकारियों को विरोध करने के लिए पैसे देकर लाया जा रहा है | वीडियो में हम एक व्यक्ति को लाइन में खड़े लोगो को पैसे देते हुए देख सकतें है | 

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “चमचों तुम्हारी क्रांतिकारी #शाहिनबाग वाली चाची का ताजा वीडियो लाया हूं देख लो |” इस वीडियो को १४०० से ज्यादा प्रतिक्रियाएं मिल चुकी है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि..

जाँच की शुरुवात हमने इन्विड टूल के मदद से गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया जिसके परिणाम में हमें ३० अक्टूबर २०१७ को “कांग्रेस रैली पैसा बांटना” के शीर्षक के साथ एक वीडियो मिला, तद्पश्चात हमने  इस वीडियो का यूट्यूब थंबनेल सर्च किया जिसके परिणामस्वरूप हमे ५ मार्च २०१७ को अपलोड किया गया वीडियो मिला, जिसके शीर्षक में लिखा गया है कि “मणिपुर के इम्फाल में कांग्रेस के कार्यकर्ता खुलेआम मतदाताओं को रिश्वत देते दिख रहे हैं |” 

इस वीडियो में हम लोगो के हाथ में कांग्रेस का झंडा भी देख सकते है, जिससे यह प्रतीत होता है कि यह कांग्रेस की रैली हो सकती है |

इस वीडियो को ध्यान से सुनने पर हमें बैकग्राउंड में किसी का भाषण नही सनाई देता है, बल्कि इस वीडियो में मणिपुरी बोली सुनी जा सकती है | इसके आलावा वीडियो की शुरुवात में हमें एक महिला के हाथ में “Ward No 5 (KMC)” लिखा हुआ पोस्टर दिखा | 

गूगल सर्च करने पर हमें पता चला कि KMC, Kakching Municipal Council या काकचिंग नगर परिषद का संक्षिप्त रूप है | यह मणिपुर स्थित थाउबल जिले का जिला नगर परिषद है | ४ मार्च और ८ मार्च, २०१७ को मणिपुर में विधान सभा चुनाव हुए थे | 

आर्काइव लिंक 

इसके पश्चात हमने वायरल वीडियो में बैकग्राउंड ऑडियो को ढूँढा, यह आवाज़ सुनने में राहुल गाँधी की लगती है | अलग अलग कीवर्ड्स के माध्यम से ढूँढने पर हमें वायरल वीडियो का ऑडियो मिला | वायरल वीडियो में राहुल गांधी की आवाज का ऑडियो असल में उनकी एक गुजरात की रैली से है | अक्टूबर २०१७  में गांधीनगर में आयोजित नवसर्जन गुजरात जनादेश रैली को राहुल गाँधी ने संबोधित किया था | यह भाषण राहुल गाँधी के यूट्यूब चैनल पर २३ अक्टूबर २०१७ को उपलोड किया गया है | वायरल वीडियो में राहुल गाँधी की आवाज वाला हिस्सा इस भाषण में २ मिनट २८  सेकंड से सुना जा सकता है | 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | यह वीडियो वर्तमान में दिल्ली के शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों को पैसे लेते हुए नही दर्शाती है, बल्कि यह वीडियो ३ साल से इन्टरनेट पर उपलब्ध जिसके ऑडियो के साथ छेड़छाड़ की गयी है | 

Avatar

Title:पैसे बांटने के पुराने वीडियो को शाहीन बाग़ के नाम से फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply