क्या जापान अकेला ऐसा देश है, जहाँ मुस्लिमों को नागरिकता नहीं दी जाती ?

False International Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२९ जून २०१९ को फेसबुक पर ‘Ambuj Paliwal रोचक तथ्य’ नामक एक यूजर द्वारा एक पोस्ट साझा किया गया है | पोस्ट में एक तस्वीर साझा की गई है | तस्वीर में कोई जापानी मंदिर दिखाई देता है |    

तस्वीर के उपर लिखा दावा है कि,

मुसलमानों को “नागरिकता” न देने वाला Japan अकेला राष्ट्र है | यहाँ तक की मुसलमानों को Japan में किराये पर मकान भी नहीं मिलता है | 

इस पोस्ट व्दारा किया गया दावा स्पष्ट है | आइये जानते है इस दावे की सच्चाई |

मूल पोस्ट यहाँ देखें – ‘Ambuj Paliwal रोचक तथ्य’  | ARCHIVE POST

संशोधन से पता चलता है कि…

सबसे पहले हमने पोस्ट में किये गए दावे अनुसार ‘muslim population in japan’ की वर्ड्स के साथ सर्च किया तो हमें विकिपीडिया के पेज से पता चला कि, जापान में करीब १ लाख मुस्लिम रहते है |

इसके अलावा हमें ‘द गार्डियन’ द्वारा प्रसारित एक खबर मिली | २८ जनवरी २०११ को प्रसारित इस खबर में दुनिया में मुस्लिम जनसंख्या का डाटा दिया गया है | विभिन्न देशों की सूचि में जापान का भी नाम है | इस डाटा के मुताबिक जापान में मुस्लिमों की जनसंख्या २०१० तक १ लाख ८५ हजार थी |

पूरी खबर यहाँ पढ़े –  ‘द गार्डियन’ | ARCHIVE NEWS

इसके बाद हमने जापान के नागरिकता नियमों की तलाश की | जापान सरकार की Ministry of Justice की आधिकारिक वेबसाइट पर हमें नागरिकता सम्बन्धी कानून का अंग्रेजी अनुवाद मिला | इस कानून में कहीं भी यह नहीं लिखा गया है कि, मुस्लिम व्यक्ति जापान का नागरिक नहीं बन सकता | इसका स्पष्ट मतलब यह है कि, जापान में अधिवास की शर्तें पूरी करनेवाला किसी भी धर्म का व्यक्ति जापान की नागरिकता हासिल कर सकता है |

पूरा कानून यहाँ पढ़े – Ministry of Justice | ARCHIVE LINK

जापान के नागरिकता सम्बन्धी कानून के बारे में आप इस लिंक को क्लीक कर भी जान सकते है |  

सर्च से हमें ‘Hatena Blog’ का एक पेज मिला | २२ अगस्त २०१४ को लिखे इस पेज पर लिखा है कि, वैसे तो जापान में मुस्लिम जनसंख्या का कोई आधिकारिक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है, लेकिन वासेदा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर तानादा ने खोज कर जापान के मुस्लिमों की जनसंख्या का पता लगाया था | इस लेख में कहा गया है कि, २०११ तक जापान में जापानी मुस्लिमों की जनसंख्या ११,१८९ थी | इसका साफ़ मतलब यह है कि, यह संख्या जापानी नागरिकता हासिल मुस्लिमों की है |

पूरा ब्लॉग यहाँ पढ़े – ‘Hatena Blog’ | ARCHIVE BLOG

इस सर्च से हमें ‘अल जझीरा’ द्वारा ३ नवम्बर २०१४ को प्रसारित एक फीचर स्टोरी मिली | इस स्टोरी में जापान के मुस्लिमों सम्बन्धी कई तथ्य उजागर किये गए है | कहा गया है कि, १९७० में जापान में महज २० मस्जिदें थी, जबकि आज २०० से ज्यादा है |

पूरी खबर यहाँ पढ़े – ‘अल जझीरा’ | ARCHIVE NEWS

‘SNA Japan’ नामक फैक्ट चेक वेबसाइट ने इसी तरह के एक दावे का सच ११ दिसम्बर २०१५ को सामने लाया था | 

पूरा फैक्ट चेक यहाँ पढ़े – ‘SNA Japan’ | ARCHIVE ARTICLE

अतः इस संशोधन से यह पुख्ता तौर पर स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा कि, मुसलमानों को “नागरिकता” न देने वाला Japan अकेला राष्ट्र है, गलत है | इस दावे के ख़ारिज होने के बाद इस दावे में भी कोई दम नहीं रहता कि, मुसलमानों को Japan में किराये पर मकान भी नहीं मिलता है |   

जांच का परिणाम :  इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा कि, “मुसलमानों को “नागरिकता” न देने वाला Japan अकेला राष्ट्र है |” सरासर गलत है | जापान के नागरिकता कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है | 

Avatar

Title:क्या जापान अकेला ऐसा देश है, जहाँ मुस्लिमों को नागरिकता नहीं दी जाती ?

Fact Check By: R Pillai 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •