इस बालिका को अपहरण के चंद घंटो बाद ही दिल्ली पुलिस ने सुरक्षित दूंढ लिया गया था |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

९ अक्टूबर २०१९ को फेसबुक पर ‘Shahnawaz Alam द्वारा किये गये एक पोस्ट में YouTube का एक वीडियो साझा किया गया है, इस वीडियो में एक बच्चे की तस्वीर दिखाकर कहा जा रहा है कि यह बच्ची दिल्ली के टैंक रोड, करोल बाघ से गुमशुदा हो गयी थी और दो महीने से लापता है | पोस्ट के विवरण में लिखा है कि, “Search for the missing girl || Gumshuda beti Ki Talash || गुमशुदा |” इस पोस्ट में यह दावा किया जा रहा है कि – ‘तस्वीर में दर्शायी गयी बालिका अगस्त २०१९ से गुमशुदा है |’ क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले उपरोक्त दावे में दर्शायी गये बच्चे की तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर ढूंढा, तो हमें Lostandfoundnetworks.com नामक एक वेबसाइट पर इस बच्चे के गुमशुदा होने की ख़बर मिली | इस ख़बर के अनुसार यह बालक दिल्ली के बवाना इलाके से पिछले दो महीने से गुमशुदा है | 

इसके बाद हमने गूगल पर ‘Child missing from bawana, delhi’ कीवर्ड्स को ढूंढा, तो हमें दिल्ली के बवाना इलाके से एक बच्चे के अगुवा होने की ख़बर कई समाचार वेबसाइट पर मिली | इन ख़बरों के अनुसार ३ साल की उम्र का एक बालक बवाना इलाके से ४ अगस्त २०१९ को दोपहर १ बजे के आसपास अगुवा किया गया था, मगर उस बच्चे को दरियापुर कलां इलाके से ६ घंटे के अंदर बवाना पुलिस ने ढूंढ निकला था और अगुवा करने वाले लड़के को हिरासत में भी ले लिया था | अगुवा करने वाले लड़के के साथ उसकी बहन और उसकी माँ भी शामिल थे | अगुवा करने का कारण अपहरणकर्ता की बहन की शादी के लिए पैसों की ज़रुरत बताया गया है | इन ख़बरों को पूरा पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें | 

TOIPost | ArchivedLinkBusinesstodayPost | ArchivedLinkThehinduPost  | ArchivedLinkTimesnownewsPost | ArchivedLink

उपरोक्त दावा में दर्शित अपहरित बच्चे की बरामदगी हुई या नहीं व क्या उपरोक्त तस्वीर उसी बालक की है , इस बात की पुष्टि करने के लिए हमने जब बवाना थाना से संपर्क किया, तो हमारी बात सब-इंस्पेक्टर दिलीप कुमार से हुई | उन्होंने इस तस्वीर को देखकर हमसे इस बात की पुष्टि की कि, “ख़बर में अगुवा होने की ख़बर जिस बालक की थी, यह वही बालक है | अब यह बालक सुरक्षित है और अपने परिवार के साथ है | ४ अगस्त २०१९ को यह बालक पैसों के लिए अगुवा किया गया था, मगर शाम तक हमने उसे ढूंढ निकाला था और उसके परिवार को सौप दिया | इस मामले में एक परिवार के तीन लोग भी गिरफ़्तार हुए थे |”

इस अनुसंधान से यह बात स्पष्ट होती है कि उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर में बालिका नहीं, एक बालक है और यह बालक गुमशुदा नहीं है | इस बालक का अपहरण हुआ था, और उसी दिन बवाना पुलिस ने इस बालक को ढूंढ कर उसके परिवार को सौप दिया | वर्तमान में इस वीडियो में किया गया दावा का गलत है | यह वीडियो गलत विवरण के साथ लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से फैलाया जा रहा है |

जांच का परिणाम : उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा “तस्वीर में दर्शायी गयी बालिका अगस्त २०१९ से गुमशुदा है |” ग़लत है |

Avatar

Title:इस बालिका को अपहरण के चंद घंटो बाद ही दिल्ली पुलिस ने सुरक्षित दूंढ लिया गया था |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •