क्या नए कोरोनावायरस से संबंधित यह नोटिस बी.एम्.सी द्वारा जारी किया गया है? जानिए सच

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मीडिया पर एक सोसाइटी नोटिस की तस्वीर को महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोनावायरस संक्रमण के मध्य काफी तेजी से फैलाया जा रहा है | इस नोटिस को सोशल मंचों पर इसे बी.एम्.सी द्वारा आम जनों व विभिन्न सोसाइटियों को दिए गये निर्देशों को बताया गया है | नोटिस के अनुसार भारत में एक उच्च स्टेज के कोरोनावायरस पाया गया है जिसकी कोई चिकित्सा नहीं है और यह वायरस मुख्यतः बच्चों और ३० वर्ष तक लोगों को संक्रमित कर रहा है | इस वायरस को टेस्ट कर डिटेक्ट नही किया जा सकता है | सोशल मीडिया पर इस नोटिस को साझा करते हुए दावा किया जा रहा है कि यह नोटिस बी.एम्.सी हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा जारी किया गया है जिसके अनुसार एक नये कोरोनावायरस के बारें में जानकारी दी गयी है |

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि

“बी.एम्.सी के तरफ से सभी के लिए महत्वपूर्ण संदेश, मुंबई बी.एम्.सी फेज 2 सब कृपया करके मास्क पहने और सैनीटाईज़र इस्तेमाल करे |”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

बी.एम.सी मुंबई ने फैक्ट क्रेसेंडो को यह स्पष्ट किया है कि वायरल हो रहा नोटिस फर्जी है और उनके द्वारा इस प्रकार का कोई भी नोटिस जारी नही किया गया है |

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रही पोस्ट के संबंधित ख़बरों को कीवर्ड के माध्यम से गूगल पर ढूँढने से की जिसके परिणाम से हमें कोई पुख्ता खबर व जानकारी नही मिली जो इस बात कि पुष्टि करे की महाराष्ट्र में एक नये तरह के वायरस का आगमन हुआ है जो केवल बच्चों और युवा पीढ़ी को संक्रमित करता है | 

तद्पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने बी.एम.सी के स्वास्थ्य अधिकारी से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि “सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे नोटिस का ग्राफिक बीएमसी द्वारा जारी नहीं किया गया है | इस नोटिस के माध्यम से किये गये दावे भी सरासर गलत है | BMC  द्वारा शहर में सामाजिक दूरी, रात के कर्फ्यू के साथ कोरोनावायरस के खिलाफ सभी सावधानी बरतने के बारे में आमजन को समय समय पर जानकारी दी जाती रहती है, लेकिन हमारे द्वारा बच्चों और युवाओं के संबंध में ऐसी कोई सलाह जारी नहीं की गई है, सोशल मंचो पर वायरल हो रहा नोटिस सरासर गलत व भ्रामक है |”

उन्होंने हमें यह भी बताया कि वायरल हो रहे पोस्ट को खंडन करते हुए बी.एम.सी ने सोशल मीडिया पर भी स्पष्टीकरण जारी किया है | 

तद्पश्चात उन्होंने हमें बी.एम.सी मुंबई के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट द्वारा जारी की गयी ट्वीट भेजा, इस ट्वीट में लिखा गया है कि 

“नीचे दी गयी तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी तेजी से साझा की जा रही है, हम आपको बता दे कि यह एक फर्जी नोटिस है और इसे आगे फॉरवर्ड ना करे | हम मुंबई के निवासियों से निवेदन करते है कि आप सारे Covid प्रोटोकॉल का पालन करे और हमें इस वायरस से लड़ने में मदद करे |”

आर्काइव लिंक  

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे नोटिस की तस्वीर फर्जी है | इस नोटिस को बी.एम.सी द्वारा जारी नही किया गया है|

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. अमूल आइसक्रीम में सूअर की चर्बी इस्तेमाल होने के दावे फर्जी हैं |

२. 2016 में केलिफोर्निया के टर्लोक सीटी के एक गुरुद्वारे में हुई झडप को कनाडा व भारत से जोड़ वायरल किया जा रहा है।

३. क्या राकेश टिकैत पर गाजीपुर में लगे टेन्टों के किराये का भुगतान न करने पर उत्तरप्रदेश में एफ.आई.आर दर्ज की गई? जानिये सच…

Avatar

Title:क्या नए कोरोनावायरस से संबंधित यह नोटिस बी.एम्.सी द्वारा जारी किया गया है? जानिए सच

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply