वकीलों द्वारा गौरव भाटिया की पिटाई के नाम पर पुराना व असंबंधित वीडियो फर्जी दावे से वायरल…

False Political

वीडियो साल 2019 का है जब दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच टकराव हुआ था।

अभी कुछ ही दिन पहले बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया अपने एक केस के सिलसिले में नॉएडा की सूरजपुर अदलात पहुंचें थें। जिसके बाद वो अपने केस की सुनवाई के लिए जिद करने लगे। मगर वकीलों की चल रही हड़ताल का हवाला देते हुए उनको रोका गया। तो गौरव नहीं माने जिस पर उनकी वकीलों के साथ कहासुनी हो गई। उसी घटना के संदर्भ में सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेज़ी से वायरल हुआ है। जिसमें हम एक कोर्ट में कुछ वकीलों को किसी को पीटते हुए देख सकते हैं। यूज़र द्वारा वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो गौरव भाटिया की वकीलों द्वारा कथित पिटाई का है। 

वीडियो इस कैप्शन के साथ साझा किया जा रहा है…

गौरव भाटिया की कुत्ते की तरह पिटाई की मैं कठोर शब्दों में कङी निन्दा करता हूं। च्च च्च…ऐसे कोई कुटता है भला । गंदी बात है ये ।

फेसबुक पोस्टआर्काइव पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने जांच की शुरुआत वायरल वीडियो से तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की। परिणाम में हमें एक वीडियो नवंबर, 2019 में फेसबुक यूज़र द्वारा पोस्ट किया हुआ मिला। हमने इस वीडियो में वायरल वीडियो वाले हिस्से को भी देखा। पता चला कि वीडियो दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हुए झगड़े का है।

निम्न में वीडियो देखें

फेसबुक आर्काइव

हमें इस घटना के बारे में सोशल मीडिया पर दूसरे एंगल से शूट किये गए एक और वीडियो मिला। जिनमें वायरल वीडियो में दिख रही दिल्ली पुलिस की बसें भी दिखाई दे रही हैं। 

आगे हमें घटना से सम्बंधित न्यूज़ रिपोर्ट्स मिली, जिनमें बताया गया है कि तीन साल पहले पुलिस और वकीलों के बीच हिंसात्मक झड़प हुई थी। कोर्ट परिसर के अंदर किसी वकील की पुलिस द्वारा पिटाई  की घटना पर दोनों पक्षों के बीच हिंसा हुई। गुस्साए वकीलों ने पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की जिससे कुछ लोग गंभीर रूप से घायल हुए। तब प्रदर्शनकारी वकीलों ने पुलिस की कई गाड़ियों को भी आग के हवाले कर दिया था।

खबर को यहां ,  यहां और यहां देख सकते हैं।

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि वायरल वीडियो गौरव भाटिया की पिटाई का नहीं है। 

निष्कर्ष-

तथ्यों के जांच के पश्चात हमने वायरल वीडियो को फर्जी पाया है। असल में यह घटना साल 2019 की है जब दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हिंसात्मक झड़प हुई थी। उसी घटना को भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया की पिटाई से जोड़ा जा रहा है। 

Avatar

Title:वकीलों द्वारा गौरव भाटिया की पिटाई के नाम पर पुराना व असंबंधित वीडियो फर्जी दावे से वायरल…

Fact Check By: Priyanka Sinha 

Result: False

Leave a Reply