असम में भा.ज.पा नेता के समर्थकों द्वारा नष्ट किये गये भा.ज.पा के पोस्टरों को गलत दावों के साथ पश्चिम बंगाल का बता वायरल किया जा रहा है।

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आगामी पश्चिम बंगाल के चुनाव के चलते सोशल मंचों पर कई गलत व भ्रामक खबरें वायरल होती चली आ रही है। फैक्ट क्रेसेंडो ने पूर्व में भी ऐसी कई खबरों का अनुसंधान किया है। इन्ही आगामी चुनावों के सन्दर्भ में इंटरनेट पर एक वीडियो इस दावे के साथ वायरल हो रहा है कि पश्चिम बंगाल में लोग भा.ज.पा के पोस्टरों को नष्ट कर रहे हैं। आपको बता दें कि इस वीडियो में आपको कुछ लोग भा.ज.पा के पोस्टरों को फाड़ते हुए नज़र आएंगे।

वायरल हो रहे पोस्ट के शीर्षक में लिखा है,

“तड़ीपार को 200 सिट का तोहफा पेश करते हुवे, सोनार बँगला की जनता।”

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा वीडियो असम के होजाइ जिले का है, जहाँ भा.ज.पा नेता शिलादित्य के समर्थक भा.ज.पा के पोस्टर व बैनर नष्ट कर रहे हैं। इस वीडियो का पश्चिम बंगाल से कोई संबन्ध नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रहे वीडियो को बारीकी से देखकर की, इस वीडियो में आपको दायीं ओर ऊपर एक चिन्ह दिखेगा। उस चिन्ह में टाइम8 लिखा हुआ दिखेगा। इसको ध्यान में रखते हुए हमने फेसबुक पर कीवर्ड सर्च किया तो हमें टाइम8 के पेज पर यही वीडियो इस वर्ष 10 मार्च को प्रसारित किया हुआ मिला। वीडियो के शीर्षक में लिखा है, “टिकट पाने के लिए शिलादित्य ने बैनर-पोस्टर लगाए थे। उनके कार्यकर्ताओं ने वो पोस्टर-बैनर तोड़ दिये।“

इसके बाद हमने टाइम8 से संपर्क किया व उनसे इस वीडियो के विषय में जानने की कोशिश की, उन्होंने हमें बताया कि, “वीडियो के साथ वायरल हो किया जा रहा दावा सरासर गलत है। यह वीडियो पश्चिम बंगाल का नहीं बल्की असम का है। वीडियो में दिख रहे लोग असम के होजाइ जिले के पूर्व विधायक व भा.ज.पा नेता शिलादित्य देव के समर्थक है। दरअसल इस वर्ष असम विधानसभा चुनाव के लिए शिलादित्य देव को भा.ज.पा से टिकट नहीं मिली और इस संदर्भ में उनके समर्थकों ने आक्रोश जताते हुए भा.ज.पा के पोस्टर व बैनर फाड़ दिए थे। इस वीडियो का पश्चिम बंगाल से कोई संबन्ध नहीं है।

इसके पश्चात इस संदर्भ में हमने अधिक जानकारी हासिल करने हेतु होजाइ जिले के भा.ज.पा के सोशल मीडिया प्रभारी सुमन सेन से संपर्क किया व उन्होंने हमें बताया कि, “यह वीडियो शिलादित्य देव के घर के बाहर का है। उन्हें इस वर्ष भा.ज.पा से टिकट नहीं मिली जिसके चलते उनके समर्थक ये पोस्टर व बैनर फाड़ रहे हैं। उन्होंने इसके बाद उनके समर्थकों द्वारा की गई इस हरकत के लिए माफी भी मांगी।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि उपरोक्त दावा गलत है| वायरल हो रहा वीडियो असम के होजाइ जिले का है, जहाँ भा.ज.पा नेता शिलादित्य के समर्थकों द्वारा भा.ज.पा के पोस्टर व बैनर नष्ट किये गए थे। इस वीडियो का पश्चिम बंगाल से कोई संबन्ध नहीं है।

Avatar

Title:असम में भा.ज.पा नेता के समर्थकों द्वारा नष्ट किये गये भा.ज.पा के पोस्टरों को गलत दावों के साथ पश्चिम बंगाल का बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. ALTERED VIDEO- “AIUDF” के संस्थापक बदरुद्दीन अजमल के मूल भाषण को एडिट करके एक विवादित विवरण के साथ वायरल किया जा रहा है|

२. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा योगी आदित्यनाथ को हिन्दू राष्ट्र के संदर्भित लिखा गया बधाई पत्र फर्जी है ।

३. एक वैबसीरीज़ की शूटिंग के वीडियो को मुंबई में आतंकवादियों की गिरफ़्तारी का बताया जा रहा है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply