इजरायल द्वारा गाज़ा पट्टी पर किये गये हवाई हमले के वीडियो को वर्तमान काबुल में हुये धमाकों का बता वायरल किया जा रहा है।

False International
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हालही में तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्ज़ा किया है जिसके चलते वहाँ से हर रोज़ कोई न कोई अप्रिय घटना की ख़बरें रही है और ऐसी घटनाओं के वीडियो व तस्वीरें इंटरनेट पर काफी साझा किये जा रहे हैँ। वर्तमान में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के हवाई अड्डे पर दो धमाके होने की खबर सामने आयी है। इसको लेकर सोशल मंचों पर एक वीडियो काफी तेज़ी से साझा किया जा रहा है। उस वीडियो में आप रात के समय हो रहे घमाके को देख सकते है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो वर्तमान में काबुल के हवाई अड्डे पर हुये धमाकों का है।

वायरल हो रहे वीडियो के शीर्षक में लिखा है, 

काबुल शहर में दूसरा धमाका।”

फेसबुक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच कर पाया कि वायरल हो रहा वीडियो वर्तमान में गाज़ा पट्टी में इज़राल द्वारा किये गये हवाई हमले का है। हालही में काबुल के हवाई अड्डे पर दो धमाके जरूर हुये हैं परंतु वायरल हो रहा वीडियो इन धमाकों का नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रहे वीडियो को इनवीड-वी वैरिफाइ टूल के माध्यम से छोटे कीफ्रेम्स में काटकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, परिणाम में हमें इस वर्ष 21 अगस्त को हबर्लर.कॉम पर प्रकाशित किया हुआ एक समाचार लेख मिला। उस लेख में वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहे दृश्यों की तस्वीर प्रकाशित की गयी है। लेख के मुताबिक इस्राइली युद्धक विमानों ने गाजा पट्टी के विभिन्न हिस्सों पर हवाई हमले किये। लेख के अनुसार  इजरायल के युद्धक विमानों ने गाजा पट्टी में फिलिस्तीनी प्रतिरोध समूहों से संबंधित ठिकानों पर हवाई हमले किये। इस दौरान ४१ फिलीस्तीनी घायल हुये जिनमें से २ गंभीर रूप से घायल हुये है।

आर्काइव लिंक

उपरोक्त समाचार लेख को खंगालने के बाद हमें उस लेख में वायरल हो रहे वीडियो का विस्तारित संस्करण देखने को मिला। इस वीडियो में 0.09 से 0.25 मिनट तक आप वायरल हो रहे वीडियो में दिखाये गये दृश्य को देख सकते है।

उपरोक्त वीडियो के साथ दी गयी जानकारी में लिखा है, “गाजा में भीषण धमाके की खबर सामने आयी है। यह बताया गया कि इजरायल के युद्धक विमानों ने गाजा पट्टी के विभिन्न हिस्सों पर हवाई हमले किये।

इसके बाद अधिक जानकारी हासिल करने के लिये हमने उपरोक्त जानकारी को ध्यान में रखते हुये यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च किया और हमें वायरल हो रहा यही वीडियो ए.हबर नामक एक आधिकारिक चैनल पर इस वर्ष 22 अगस्त को प्रसारित किया गया मिला। इस वीडियो के शीर्षक में लिखा है, “इजरायली हवाई हमले में गाजा पट्टी पर हमला” व इसके नीचे दी गयी जानकारी में लिखा है, 

“ १९६९ में एक कट्टर यहूदी द्वारा मस्जिद अल-अक्सा को जलाने की ५२वीं बरसी के अवसर पर गाजा पट्टी की सीमा पर आयोजित प्रदर्शनों में शाम के समय, ४१ फिलिस्तीनी और एक इजरायली सैनिक घायल हो गये थे। इस वर्ष 19 अगस्त को इजरायली सेना ने गाजा सीमा पर अपनी सेना बढ़ाने का फैसला किया। ऑस्ट्रेलियाई मूल के कट्टरपंथी डेनिस माइकल रोहन ने 21 अगस्त, 1969 को अल-अक्सा मस्जिद में प्रवेश किया और क़िबला मस्जिद और 1000 साल पुराने सलादीन पुलपिट की वेदी को जला दिया था।“

आर्काइव लिंक

तत्पश्चात जाँच के दौरान हमें इस वर्ष 22 अगस्त को अल अरेबिक द्वार किया गया एक ट्वीट मिला जिसमें वायरल हो रहा वही वीडियो प्रसारित किया गया है व उसके शीर्षक में लिखा है, “गाजा पट्टी में फिलिस्तीनी गुटों की साइटों पर इजरायल के छापे के पहले दृश्य।

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। यह वीडियो वर्तमान में गाज़ा पट्टी में इज़राल द्वारा किये गये हवाई हमले का है। हालही में काबुल के हवाई अड्डे पर दो धमाके जरूर हुये थे परंतु वायरल हो रहा वीडियो उसका घटना से नहीं है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. २०१५ में पटना पुलिस द्वारा किये गये लाठीचार्ज की एक पुरानी तस्वीर को वर्तमान अफ़ग़ानिस्तान का बताकर वायरल किया जा रहा है|

२. पूर्व न्यायाधीश रंजन गोगोई ने नाम से फिरसे बना फर्जी अकाउंट जिससे सांप्रदायिक ट्वीट किये गये|

३. बिहार के कटिहार में मुर्हरम जुलूस के दौरान घटी मारपीट की घटना को हिन्दू-मुस्लिम कोण दे सांप्रदायिकता से जोड़ साझा किया जा रहा है|

Avatar

Title:इजरायल द्वारा गाज़ा पट्टी पर किये गये हवाई हमले के वीडियो को वर्तमान काबुल में हुये धमाकों का बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •