आंधी में उड़ते सोफे का वीडियो गुरुग्राम का नहीं बल्कि तुर्की का है, वीडियो गलत दावे से वायरल… 

Political

तेज आंधी से उड़ते सोफे का वीडियो तुर्की का है यह घटना गुरुग्राम की नहीं है, वीडियो में आ रही आवाज भी एडिट कर के जोड़ा गया है।

पूरा उत्तर भारत भीषण गर्मी की तपिश झेल रहा है। हालांकि बीच- बीच में आंधी के साथ हो रही बारिश गर्मी से राहत देने की कोशिश कर रही है। इसी संदर्भ में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में तेज़ आंधी है जिसमें एक सोफे को उड़ते हुए दिखाया गया है। इस दौरान बैकग्राउंड में एक आवाज़ सुनाई देती है। जिसमें एक शख्स कहता है, भाई, तूफान बहुत देखे लेकिन ऐसा तूफान नहीं देखा. गुड़गांव में सोफा रखा हुआ था छत पे। ये देखो सोफा उड़ता हुआ आ रहा है। यहां पर हम आपको यह बता दें कि वीडियो में कुछ अपशब्दों का इस्तेमाल भी किया गया है। वहीं वीडियो में गुड़गांव में सोफे भी उड़ते हैं टेक्स्ट लिखा है, जिसे असली घटना मानते हुए शेयर किया जा रहा है।

चिड़िया उड़ , तोता उड़ और सोफा उड़

फेसबुक पोस्टआर्काइव पोस्ट

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने जांच की शुरुआत में वीडियो के बारे पता लगाने के लिए गूगल पर कीवर्ड्स का इस्तेमाल किया। परिणाम में हमें कुछ मीडिया रिपोर्ट्स मिली जिसके अनुसार वायरल वीडियो तुर्की का मालूम होता है। 19 मई 2023 को इंडिया डॉट कॉम की वेबसाइट पर प्रकाशित खबर के अनुसार, यह वीडियो तुर्की के अंकारा शहर का है, जहां पर तबाही मचा रहे तूफान ने एक सोफा आसमान में उड़ते हुए दूसरी इमारत की ओर टकरा दिया। तूफ़ान ने आसमान में तिनके की तरह एक सोफे को उड़ा दिया। 

आर्काइव

फिर हमें हिंदुस्तान टाइम्स की वेबसाइट पर 20 मई 2023 में इसी घटना को लेकर रिपोर्ट मिली। जिससे पता चलता है कि 17 मई, 2023 को तुर्की की राजधानी अंकारा के cankaya जिले में तेज बारिश और तूफान आया था। जिसने 35 मंजिला इमारत की बालकनी में रखे सोफे को उड़ा दिया था। 

आर्काइव 

रिपोर्ट में एक वीडियो को भी शेयर किया गया है जो भारत की भाषा के नहीं बल्कि किसी विदेशी भाषा के है। ऐसे में स्पष्ट होता है कि वीडियो को एडिट करते हुए इसमें हिंदी भाषा वाला ऑडियो जोड़ दिया गया है। 

आर्काइव

तुर्की के पत्रकार ibrahim Haskoloğlu ने 17 मई, 2023 को इसी वीडियो को अपने एक्स पर शेयर करते हुए अंकारा का बताया था। जिसके साथ कैप्शन जो तुर्की में लिखा था अनुवाद करने पर, तूफान के कारण अंकारा में एक उड़ती हुई कुर्सी एक इमारत से टकरा गई लिखा गया था। 

आर्काइव 

तुर्की के मीडिया आउटलेट (आर्काइव) में इसी घटना को लेकर खबर छापी गई है। जिससे वीडियो तुर्की का ही है यह पुष्टि हो जाती है।

अब हमने वायरल वीडियो और हमें मिले वीडियो के बीच तुलना कर यह स्पष्ट किया कि, साक्ष्य के तौर पर जो मूल वीडियो हमें मिला उसमें बोलने वाला शख्स असल में हिंदी में बात नहीं कर रहा है बल्कि अलग भाषा का इस्तेमाल कर रहा है। ऐसे में पूरी तरह यह साफ़ होता है कि वायरल वीडियो गुरुग्राम का नहीं है और इसमें हिंदी में बोलने वाली आवाज़ अलग से जोड़ी गई है। निम्न में वीडियो देखें।

निष्कर्ष 

तथ्यों के जांच के पश्चात हमने वायरल वीडियो को गलत पाया है जो गुरुग्राम का नहीं बल्कि तुर्की का पुराना वीडियो है। वीडियो में दिख रही घटना तुर्की के अंकारा की है जब वहां आये तेज़ तूफ़ान के कारण एक सोफा हवा में उड़ते हुए किसी बिल्डिंग से जा टकराया था। साथ ही वीडियो में हिंदी में बोले जाने आवाज़ भी अलग से एडिट कर के जोड़ी गई है।

Avatar

Title:आंधी में उड़ते सोफे का वीडियो गुरुग्राम का नहीं बल्कि तुर्की का है, वीडियो गलत दावे से वायरल…

Written By: Priyanka Sinha 

Result: Misleading

Leave a Reply