तृणमूल की महुआ मोइत्रा, सयानी घोष को संसद में झपकी नहीं आई वायरल तस्वीर भ्रामक दावे से वायरल है…

False Political

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा और सयानी घोष संसद सत्र के दौरान सोटो हुई वायरल तस्वीर सच नहीं है।

देश के 18वीं लोकसभा का पहला सत्र 24 जून को शुरू हुआ और राज्यसभा का 264वां सत्र 27 जून को शुरू हुआ। पहले तीन दिनों के दौरान, नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली और लोकसभा के अध्यक्ष का चुनाव किया गया। इसके बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 27 जून को दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित किया। हालांकि लोकसभा को 1 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दिया गया था, क्योंकि विपक्षी सदस्य NEET के मुद्दे पर चर्चा की मांग करते हुए सदन के वेल में आ गए थें। इसी संदर्भ में सोशल मीडिया पर संसद के एक सत्र की तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में संसद सत्र के दौरान अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की नेता महुआ मोइत्रा और सयानी घोष सोती हुई दिखाई दे रही हैं । जबकि इसी तस्वीर में मिदनापुर की सांसद जून मालियह दोनों नेताओं के बीच बैठकर संसद सत्र देख रही हैं। अब तस्वीर को सच मानते हुए यूज़र्स कमेंट के साथ शेयर कर रहे हैं। वहीं पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है कि…

पश्चिम बंगाल के कृष्णा नगर से सांसद महुआ मोइत्रा और जादवपुर से सांसद सयानी घोष ने पूरी रात अपनेअपने क्षेत्रों की विकास परियोजनाओं के बारे में सोचते हुए बिताई। इसलिए उन्होंने संसद में ही सोने का फैसला किया। कृष्णानगर और जादवपुर के लोग वाकईभाग्यशालीहैं कि उन्हें यह सम्मान मिला।

फेसबुक पोस्टआर्काइव पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने जांच की शुरुआत में तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च किया। परिणाम में हमें 26 जून 2024 को संसद टीवी (आर्काइव) द्वारा प्रसारित एक वीडियो देखा। जिसका शीर्षक था अरविंद गणपत सावंत ने ओम बिरला को फिर से लोकसभा अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई दी। इसी वीडियो में अरविंद सावंत को 1:57 मिनट पर यह कहते सुना जा सकता है कि हमें सद्भाव की जरूरत है, नफरत की नहीं। जिस पर अरविंद के पीछे बैठी सांसद, जिनमें महुआ मोइत्रा और सयानी घोष शामिल हैं, मेज थपथपाने लगती हैं। इस दौरान दोनों नेताओं ने थोड़ी देर के लिए अपनी आंखें नीचे कर लीं और इस पल के स्क्रीनशॉट को जानबूझ के निकाल कर भ्रामक दावों के साथ शेयर कर दिया गया। जिससे ये लगने लगा की महुआ मोइत्रा और सयानी घोष सो रही है। यहीं पर हमने वायरल तस्वीर और मिले वीडियो के दृश्य को करीब से दिखा कर ये पुष्टि की वायरल तस्वीर असल में भ्रामक ही है।

इसके बाद हमें 26 जून को टीवी 9 मराठी और महाराष्ट्र टाइम्स द्वारा प्रकाशित सावंत का बधाई देने वाला वीडियो मिला। हमने देखा की इनमें भी न तो महुआ मोइत्रा सो रही है और न ही सयानी घोष।

निष्कर्ष 

तथ्यों के जांच से यह पता चलता है कि संसद में सत्र के दौरान महुआ मोइत्रा और सयानी घोष के सोने वाली तस्वीर भ्रामक है। मूल वीडियो में दोनों को शिवसेना (यूबीटी) के सांसद अरविंद सावंत की बात पर मेज थपथपाते हुए देखा जा सकता है। 

Avatar

Title:तृणमूल की महुआ मोइत्रा, सयानी घोष को संसद में झपकी नहीं आई वायरल तस्वीर भ्रामक दावे से वायरल है…

Fact Check By: Priyanka Sinha 

Result: False

Leave a Reply