सुधीर पांडे नामक शख्स को कथित काल्पनिक विधायक अनिल उपाध्याय बता वायरल किया जा रहा है।

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मंचो पर पहले भी कई बार एक कथित तौर पर काल्पनिक विधायक अनिल उपाध्याय को अलग- अलग लोगों के वीडियो व तस्वीरों के साथ जोड़कर वायरल किया गया है, पूर्व में भी फैक्ट क्रेसेंडो ने कथित विधायक अनिल उपाध्याय को लेकर वायरल हो रहे दावों का अनुसंधान किया है। इन दिनों इंटरनेट पर एक वीडियो को अलग- अलग दावों के साथ साझा किया जा रहा है, उनमें से एक दावा यह भी है कि वीडियो में दिख रहा शख्स कांग्रेस विधायक अनिल उपाध्याय है। वायरल हो रहे वीडियो में, दरअसल, आपको एक शख्स नीले रंग के वस्त्र में किसान आंदोलन के संबन्ध में इंटरव्यूह देते हुए नज़र आ रहा है। 

वीडियो के शीर्षक में लिखा है,

 कोंग्रेस के विधायक अनिल उपाध्याय अन्जाने में बोल दिये पर सही बोल दिया,इस वीडियो को पूरा देखे और जीतना हो सके शेर करे ताकि देश को पता चल शके।”

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Sudheer Pandey Video3.jpg

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहे व्यक्ति का नाम सुधीर पांडे है व वे कांग्रेस विधायक नहीं है। हमने यह भी पाया कि कथित तौर पर अनिल उपाध्याय नाम का कोई भी कांग्रेस विधायक नहीं है। 

सबसे पहले हमने वायरल हो रहे इस वीडियो को गौर से देखा, उसमें हमें खबर इंडिया का चिन्ह व वॉटरमार्क दिखायी दे रहा था। इसको ध्यान में रखकर हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च कर खबर इंडिया नामक समाचार संस्था के आधिकारिक यूट्यूब चैनल को ढूँढा, जिसके पश्चात हमको वायरल हो रहे वीडियो का विस्तारित मूल संस्करण मिला, मूल वीडियो 11.09 मिनट का है। यह वीडियो 28 नवंबर 2020 में प्रसारित किया गया है। वीडियो के शीर्षक में लिखा है,

 “किसान आंदोलन की साज़िश पर भड़का हिंदू शेर पहले इंदिरा गांधी अबकि मोदी की बारी पंजाब, हरियाणा, यू.पी।“

आर्काइव लिंक

तदनंतर हमने खबर इंडिया समाचार संस्था से संपर्क साधा व उनसे उपरोक्त वीडियो में दिख रहे शख्स के बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश की, तो हमें पता चला कि वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहे शख्स का नाम सुधीर पांडे है और वे पेशे से एक ठेकेदार है।

तत्पश्चात हमने सुधीर पांडे से संपर्क किया व उनसे उनकी पहचान के संबन्ध में पूछताछ की। उन्होंने बताया कि, 

“मेरा नाम असल में सुधीर कुमार पांडे है। मेरे पिताजी का नाम श्रीकांत कुमार पांडे है। मैं वर्तमान में तो किसी भी पार्टी के लिए काम नहीं करता हूँ, परंतु आज से पंद्रह वर्षों पहले मेरी पत्नी भा.ज.पा से ज़िला पंचायत प्रत्याशी रही है। वर्तमान में मैं दिल्ली में रह रहा हूँ, परंतु मैं खुशी नगर का रहवासी हूँ, मैं बहुत वर्षों पहले वहाँ भा.ज.पा का महामंत्री हुआ करता था। मैं शुद्ध रूप से भा.ज.पा का आदमी हूँ और जीवन में मैं अभी तक कांग्रेस से किसी भी रूप से संबन्धित नहीं हूँ।“ 

सुधीर कुमार पांडे द्वारा हमें एक वीडियो भेजा गया, जिसमें वे अपनी निजी जानकारी दे रहें है।

इसके बाद हमने ये जानने की कोशिश की कि कांग्रेस विधायक अनिल उपाध्याय कौन है।

हमने सबसे पहले इंटरनेट पर कीवर्ड सर्च किया तो हमें किसी भी वेबसाइट या समाचार लेख में कांग्रेस विधायक अनिल उपाध्याय नामक शख्स नहीं मिला। तदनंतर हमने MyNeta.info के वेबसाइट पर कांग्रेस विधायक अनिल उपाध्याय को खोजा तो हमें MyNeta डेटाबेस पर अनिल उपाध्याय नामक कोई भी कांग्रेस विधायक नहीं मिला। 

इसी नाम से हमें दो व्यक्तियों के प्रोफाइल मिले, पहला- जोधपुर के एक बी.एस.पी नेता डॉ. अनिल उपाध्याय, जिन्होंने 2018 में राजस्थान से चुनाव लड़ा था| दूसरा प्रोफाइल लखनऊ से निर्दलीय उम्मीदवार अनिल कुमार उपाध्याय, जिन्होंने 2007 और 2012 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ा था|

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Sudheer Pandey Video4.jpg

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया है कि उपरोक्त दावा गलत है। वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहे व्यक्ति का नाम सुधीर पांडे है। वे कांग्रेस विधायक नहीं है। हमने यह भी पाया कि कथित तौर पर अनिल उपाध्याय नाम का कोई भी कांग्रेस विधायक नहीं है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. दो परिवारों के बीच के आपसी झगड़े को सांप्रदायिक रंग देकर फैलाया जा रहा है |

२. हुबली पुलिस द्वारा किये गये छद्म अभ्यास के वीडियो को वास्तविक घटना बता फैलाया जा रहा है|

३. 2019 में हुए विरोध प्रदर्शन के वीडियो को वर्तमान के बिहार चुनाव प्रचार का बता वायरल किया जा रहा है|

Avatar

Title:सुधीर पांडे नामक शख्स को कथित काल्पनिक विधायक अनिल उपाध्याय बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •