कन्हैया कुमार का इस्लाम कुबूल करने वाला वीडियो एडिटेड है |

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार का एक वीडियो जिसमे उनको इस्लाम पर बोलते हुए देखा जा सकता है, इस वीडियो को यह दावा करते हुए फैलाया जा रहा है कि यह कन्हैया कुमार की असलियत है, जो नकली हिन्दू बनकर लोगों को धोखा दे रहा है, कहा जा रहा है कि यह मीटिंग एक बंद दरवाज़ा मीटिंग है जहाँ कन्हैया कुमार खुद मानते है की वे इस्लाम धर्म को मानते है |

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि 

“*देशद्रोही और धूर्त कन्हैया कुमार बेनकाब* खुद देखिए कैसे हिन्दू नाम रख कर सब की आँखों में धूल झोंक रहा है. *एक बंद दरवाजा मीटिंग में ये अपनी असलियत बता रहा है कि ये क्या है और कहाँ से आया है* इस देशद्रोही कन्हैया कुमार का विडिओ | सभी को भेजें ताकि लोगों को इसकी असलियत पता चले |

इस वीडियो को २०१९ से ही समान शीर्षक के साथ फैलाया जा रहा है |

आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि..

मूल वीडियो के अलग अलग हिस्सों की क्लिप को काटकर एक वीडियो बनाया गया है, वायरल क्लिप एडिटेड है |

जाँच की शुरुवात हमने गूगल और यूट्यूब पर संबंधित कीवर्ड सर्च करने से की, जिसके परिणाम में हमें अगस्त २०१८ को महाराष्ट्र के नांदेड़ में मुस्लिम समुदाय के बुद्धिजीवियों के सवालों का जवाब देते हुए कैप्शन के साथ यूट्यूब पर अपलोड किए गए मूल और लम्बे वर्शन वाला वीडियो मिला |

इस वीडियो को ध्यान से सुनने पर हमें समझ में आया कि सोशल मीडिया पर वायरल क्लिप वीडियो में बोले गए शब्दों को संदर्भ से बाहर ले कर भ्रामक तरीके से फैलाया जा रहा है | उस समय कन्हैया कुमार जामा मस्जिद में अबुल कलाम आज़ाद के भाषण का उल्लेख कर रहे थे, ना कि स्वयं मुस्लिम होने की बात |

मूल व लंबे वीडियो में वायरल क्लिप १२ मिनट ३ सेकंड के टाइमस्टैंप पर शुरू होता है । 

समय ११ मिनट ५० सेकंड पर, कन्हैया कुमार को कहते हुए सुना जा सकता हैं कि, 

“राष्ट्र के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद ने जामा मस्जिद में एक तर्क दिया कि यह राष्ट्र हम सभी का है। हम कहीं नहीं जायेंगे, सिर्फ इसलिए क्योंकि कोई हमें जाने के लिए कहता है | इस देश की मिट्टी के साथ हमारा खून और पसीना मिलाया हुआ है | इस देश से हमारा वंश जुड़ा हुआ है। हम सभी अरब से नहीं चले आये थे, हम इस देश में ही बड़े हुए है “

१२ मिनट १५ सेकंड के टाइमस्टैम्प पर कन्हैया कुमार बोलते है कि जो लोग परिवर्तित हुए, उन्होंने “पुराने धर्म को छोड़ दिया, जिसने अस्पृश्यता का समर्थन किया,” एक धर्म को स्वीकार करने के लिए, जो “शांति और समानता की बात करता है।”

फिर वायरल वीडियो के सीधा १६ मिनट पर स्किप पर जाता है जहां कुमार कहते हैं, “हम अपने आप को, साथ ही साथ अपने धर्म को भी बचाएंगे..|”

इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि वायरल वीडियो को एक लंबे वीडियो के अलग अलग हिस्सों को काट कर व इन कटी हुई क्लिपों को एक साथ जोड़कर एक क्लिप बनाई गयी है, इस एडिटेड क्लिप को सोशल मंचों भ्रामक व गलत दावों के साथ फैलाया जा रहा है, नीचे आप मूल वीडियो को देख सकते है |

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर मूल वीडियो के अलग अलग हिस्सों की क्लिप को काटकर एक वीडियो बनाया गया है, इस एडिटेड वीडियो को कन्हैया कुमार द्वारा इस्लाम अपनाने की बात कबूल करने का बता वायरल किया जा रहा है | वायरल वीडियो अगस्त २०१८ का महाराष्ट्र के नांदेड़ शहर में मुसलमानों के साथ कुमार के संवाद का एक क्लिप्ड व एडिटेड वीडियो है |

Avatar

Title:कन्हैया कुमार का इस्लाम कुबूल करने वाला वीडियो एडिटेड है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •