FactCheck: नितीश कुमार की गाड़ी पर पथराव का वीडियो २०१८ से है, इस वीडियो का वर्तमान बिहार चुनाव से कोई संबंध नही |

Missing Context Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बिहार विधानसभा चुनाव के बीच कई पुरानी तस्‍वीरों और वीडियो को वर्तमान का बता वायरल किया जा रहा है, इसी क्रम में एक वायरल वीडियो सोशल मंचो पर चर्चा का केंद्र बना हुआ है जिसमे एक काफिले पर जनता को गुस्‍सा निकालते हुए देखा जा सकता है, इस वीडियो को सोशल मीडिया पर ये कहते हुये फैलाया जा रहा है कि वर्तमान बिहार चुनाव प्रचार के चलते मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर लोगों ने पथराव किया है | इस वीडियो को सोशल मीडिया पर और भी कई अलग अलग विवरण के साथ फैलाया जा रहा है | 

आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

वीडियो वर्तमान का नही है बल्कि २०१८ में हुई एक घटना का है, घटना बिहार के बक्सर जिले में हुई थी जहाँ मुख्यमंत्री के वाहन पर १२ जनवरी २०१८ को जिले के नंदगाँव गाँव में ग्रामीणों द्वारा पथराव किया गया था |

जाँच की शुरुवात हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च करने से की, जिसके परिणाम से हमें यह वीडियो फेसबुक पर आज तक द्वारा १४ जनवरी २०१८ को अपलोड किया हुआ मिला | इस वीडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “बिहार: देखिए कैसे लोगों ने की मुख्यमंत्री नितीश कुमार के काफिले पर पत्थरबाज़ी |”

फेसबुक पोस्ट

१६ जनवरी, २०१८ को आजतक की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना बिहार के बक्सर जिले में हुई थी जहाँ मुख्यमंत्री के वाहन पर १२ जनवरी को जिले के नंदगाँव गाँव में ग्रामीणों द्वारा भारी पथराव किया गया था | उस वक़्त नितीश जब कुमार अपनी विकास समीक्षा यात्रा के भाग के रूप में वहाँ गए थे | आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, सीएम के वाहन पर पत्थर फेंकने वाले लोग महा दलित श्रेणी के थे और विकास प्रक्रिया में उपेक्षा किए जाने से नाराज थे |
आर्काइव लिंक

NDTV द्वारा प्रकाशित खबर के अनुसार, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की ‘विकास समीक्षा यात्रा’ के दौरान बक्‍सर के नांदर में उनके काफिले पर पथराव हुआ जिसके चलते २ सुरक्षाकर्मी घायल हुए | यूट्यूब पर कई मीडिया संगठनों ने इस घटना का लंबा वीडियो २०१८ में अपलोड किया था जिसे आप नीचे देख सकते है |

१४ जनवरी, २०१८ को प्रकाशित हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि हमले के सिलसिले में १० महिलाओं सहित २८ लोगों को गिरफ्तार किया गया था | रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि ९९ नामांकित और ५००-७०० अनाम लोगों के खिलाफ पांच प्राथमिकी दर्ज की गई थीं | 

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात् ये स्पष्ट है कि उपरोक्त वीडियो को सन्दर्भ के बहार लोगों को भ्रमित करने के लिए फैलाया जा रहा है | सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो जनवरी २०१८ में बक्‍सर के दौरे के वक्‍त गुस्‍साए ग्रामीणों द्वारा नीतीश कुमार के काफिले पर पथराव का है जिसे वर्तमान में बिहार चुनाव के संदर्भ में फैलाया जा रहा है | 

Avatar

Title:नितीश कुमार की गाड़ी पर पथराव का वीडियो २०१८ से है, इस वीडियो का वर्तमान बिहार चुनाव से कोई संबंध नही |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: Missing Context


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •