ग्वाटेमाला में महिला को आग लगाने के पुराने वीडियो को वर्तमान में मध्य प्रदेश में हुई घटना के नाम से फैलाया जा रहा है |

False International Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१० अक्टूबर २०१९ को फैक्ट क्रेसेन्डो के वाट्सऐप नंबर- 9049053770 पर हमारे एक पाठक नूर आलम द्वारा एक मैसेज सत्यता जांचने के लिए भेजा गया | मैसेज में लिखा गया है कि “मध्य प्रदेश में हिंदू लड़की को जिंदा जला दिया गया क्योंकि उसने एक ईसाई चर्च में प्रार्थना सभा में भाग लिया था |” साथ ही कहा गया है कि इस मैसेज को जितनी जल्दी हो सके वायरल करे | इस दावे के साथ एक वीडियो भी संग्लित किया गया है जहां हम भीड़ को एक लड़की को पीटते व जिंदा आग में जलाते हुए देख सकते है | इस वीडियो को ढूँढने पर हमें पता चला कि यह वीडियो कई सोशल मीडिया मंचों पर वायरल है और इसे साझा करते हुए दावा किया जा रहा है कि यह घटना मध्य प्रदेश का है जहां एक हिन्दू लड़की को इस वजह से जिंदा जलाया गया है क्योंकि एक इसाई चर्च की प्रार्थना सभा में भाग लेने गयी थी |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस वीडियो को अगर ध्यान से सुना जाये तो हमें यह पता चलता है कि वीडियो में भीड़ द्वारा इस्तेमाल की जा रही भाषा किसी भी भारतीय भाषा से मिलती नही है |

जाँच की शुरुआत हमने इस वीडियो को गूगल पर “woman burnt alive in public” कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते हुए ढूँढा तो परिणाम से २३ मई २०१५ को इंडिपेंडेंट यूके द्वारा प्रकाशित खबर मिली, जिसके शीर्षक में लिखा गया है कि “१६ वर्षीय लड़की को ग्वाटेमाला के रियो ब्रावो में भीड़ ने पीटा और जिंदा जला दिया |” खबर के अनुसार ग्वाटेमाला में एक १६ साल की लड़की को पीट-पीट कर मार डाला गया, कथित तौर पर भीड़ ने उस पर एक टैक्सी ड्राइवर की हत्या करने के आरोप लगाते हुए उसे जिंदा जला दिया | यह घटना मध्य अमेरिका के ग्वाटेमाला की रियो ब्रावो नगर क्षेत्र के एक गाँव में हुई थी | साथ ही कहा गया है कि लड़की पर आरोप लगाया गया कि वह एक ऐसे समूह का हिस्सा थी जिसने मोटरसाइकिल टैक्सी चालक कार्लोस एनरिक गोंज़ालेज़ नोरिएगा की हत्या कर दी थी |

आर्काइव लिंक

२३ मई २०१५ को आईबीटाइम्स ने इस खबर को प्रकाशित करते हुए लिखा है कि यह वीडियो ग्वाटेमाला से है जहां इस लड़की को कथित तौर पर एक टैक्सी ड्राईवर की हत्या करने के कारण पीटकर जिंदा जला दिया गया है | इस घटना को CNN ने भी कवर किया था |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक 

उपरोक्त वायरल वीडियो से लिए गये स्क्रीनग्रैब व समाचार पत्रों में प्रकाशित तस्वीर का तुलनात्मक विश्लेषण आप नीचे देख सकते है, जिससे पूर्ण रूप से स्पष्ट होता है कि उपरोक्त दावा भारत का ना होकर ग्वाटेमाला से संबंधित है |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | यह घटना मध्य प्रदेश का नही है बल्कि अमेरिका में स्थित ग्वाटेमाला का है | इस लड़की को कथित तौर पर एक टैक्सी ड्राईवर की हत्या करने के कारण से जिंदा जलाया गया था | यह घटना २०१५ की है और वर्तमान से कोई संबंध नही रखती है |

Avatar

Title:ग्वाटेमाला में महिला को आग लगाने के पुराने वीडियो को वर्तमान में मध्य प्रदेश में हुई घटना के नाम से फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •