पाकिस्तान से पुराना वीडियो नागपुर स्टेशन में मिली तमिल लड़की के नाम से फैलाया जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२६ सितंबर २०१९ को “Lion Thangavelu” नामक फेसबुक यूजर ने एक वीडियो पोस्ट किया, जिसके शीर्षक में लिखा गया है कि “नागपुर स्टेशन यह बच्चा मिला जो केवल तमिल बोल सकता है | अपने सब पहचान वालों को फॉरवर्ड करे | इससे उपयुक्त व्यक्ति तक यह तस्वीर पहुंच सकता है |” इस वीडियो में हम एक पुलिस अधिकारी को यह कहते हुए सुन सकते है कि उन्हें यह बच्ची मिली है और जिस किसी का भी यह बच्चा है थाने में आके इस बच्ची को लेकर जाये | यह वीडियो सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ काफी तेजी से फैलाया जा रहा है कि यह बच्ची महाराष्ट्र के नागपुर स्टेशन पर पुलिस को मिली है और बच्ची को सिर्फ तमिल भाषा बोलना आता है | फैक्ट चेक किये जाने तक यह पोस्ट ८६० प्रतिक्रियाएं प्राप्त कर चुकी थी | 

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुआत हमने इस वीडियो को ध्यान से सुनने से की, वीडियो में दिखाये गये पुलिस अधिकारी खुद की पहचान ख्वाजा अजमेर नगरी थाना से सरफराज अवन के रूप में करता है | वीडियो के माध्यम से, उन्होंने बताया कि यह बच्चा बहुत छोटी है और वह अपना नाम भी नहीं बता सकती है | वह आगे वीडियो को साझा करने की अपील करता है, ताकि यह उसके माता-पिता या अभिभावकों तक पहुंच सके |

वीडियो में उपलब्ध जानकारी से ही, यह स्पष्ट है कि वीडियो भारत से संबंधित नहीं है, पुलिसकर्मी की पहनी गई वर्दी से यह लगता है कि यह पाकिस्तान से है क्योंकि पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में पुलिस किसी तरह की वर्दी पहनती है | नीचे आप पाकिस्तान पुलिस की वर्दी देख सकते है |

इसके पश्चात हमने इस वीडियो को यूट्यूब पर “khwaja ajmer nagri missing child police” कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते हुए ढूँढा, जिसके परिणाम से हमें ४ दिसंबर २०१८ को एंट टीवी द्वारा प्रसारित वीडियो मिला | इस वीडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “ख्वाजा अजमेर नगरी पुलिस कराची द्वारा दिसंबर २०१८ को मिली मिसिंग चाइल्ड” |

इस खबर को कराची टुडे से भी प्रकाशित किया है, वीडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि मलिक सरफ़राज़ एवं पस खवाजा अजमेर नगरी के एरिया में यह बच्ची मिली है |”

इसके पश्चात हमने गूगल पर पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा दिए गये पते को गूगल मैप्स पर ढूँढा तो पाया कि “ख्वाजा अजमेर नगरी” यह इलाका वास्तव में पाकिस्तान के कराची, सिंध में है | इसके अलावा, पुलिसकर्मी द्वारा पहनी गई वर्दी वास्तव में सिंध से संबंधित है, हालांकि सिंध पुलिस की वर्दी हाल ही में बदल दी गई थी |

वीडियो में हम पाकिस्तान पुलिस के इंस्पेक्टर सरफ़राज़ अवन को बच्ची के सन्दर्भ में “03002356906” नंबर पर संपर्क करने का निवेदन करते हुए सुन सकते है | फैक्ट क्रेस्सन्डो द्वारा दिये गये नंबर पर संपर्क करने पर ख्वाजा अजमेर नगरी पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर सरफ़राज़ अवन से बात हुई, उन्होंने हमें बताया कि “यह घटना पाकिस्तान के कराची का है और यह बच्ची उन्हें मिलने के तीन दिन बाद उनके माता पिता को सौंप दी गयी थी | यह घटना दिसंबर २०१८ की है, और वीडियो में दिख रहे पुलिसकर्मी वे ही हैं|”

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | यह घटना भारत से नही बल्कि पाकिस्तान के कराची की है | इस वीडियो को भारत में गलत दावे के साथ साझा किया जा रहा है |

इसी कहानी का वीडियो फैक्ट चेक हमारे यूट्यूब चैनल पर देख सकते है | 

Avatar

Title:पाकिस्तान से पुराना वीडियो नागपुर स्टेशन में मिली तमिल लड़की के नाम से फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •