क्या ‘बर्थडे बम्प्स’ देने के कारण हुई इस निर्दोष लड़के की मौत?

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

३ मई २०१९ को स्रीनुबाबू प्रगादा नामक एक फेसबुक यूजर ने एक विडियो पोस्ट किया | विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “#बर्थडे बम्प्स, एक IMM छात्र की उसके जन्मदिन पर मृत्यु हो गई और कारण आपको हैरान कर देगा | उसकी जन्मदिन की पार्टी में, उसके दोस्तों ने उसे बर्थडे बम्प्स के नाम पर ऐसी मार दी कि, मार के साइड इफेक्ट से उसकी मौत ही हो गई | मार की वजह से उसे पेट में दर्द होने लगा और अग्न्याशय को भी क्षति पहुँची, जिसके बाद उसकी मृत्यु हो गई | आजकल जन्मदिन की शुभकामनाएं पहले से कहीं अधिक क्रूर हो रही हैं | #Banbirthdaybumps |”

विडियो में हम कुछ लड़कों को, एक लड़का जिसका जन्मदिन है, उसे ‘बर्थडे बम्प्स’ देते हुए शुभकामनाए देते हुए देख सकते है | विडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि इस विडियो में दिखाए गए लड़के की मौत हो जाती है क्योंकि वह उन बर्थडे बम्प्स से घायल हो जाता है | यह विडियो को सोशल मीडिया पर तेजी से साझा की जा रही है | फैक्ट चेक जाने तक यह लगभग २७५ व्यूज पारपत कर चुकी थी |

आर्काइव लिंक

क्या वास्तव में कुछ लोगों के मजाक से एक निर्दोष लड़के की मौत हुई? जानिए सच |

संशोधन से पता चलता है कि…

जांच की शुरुआत हमने इस विडियो को यू-ट्यूब पर ढूँढने से की | परिणाम से हमें पता चला की यह विडियो यू-ट्यूब पर काफ़ी चर्चा में है | सिर्फ इतना ही नहीं एबीएन तेलुगु और टीवी९ तेलुगु लाइव ने इस विडियो की खबर बनाकर उनके बुलेटिन में प्रसारित भी कर दिया | इस विडियो को यह कहकर साझा किया जा रहा है कि जन्मदिन के अवसर पर इस लड़के की मौत हो गयी | ४ मई २०१९ को प्रसारित इस विडियो में लिखा गया है कि यह लड़का आईआईएम् दिल्ली का छात्र था |

यू-ट्यूब पर हमें कही भी इस बात का स्पष्टीकरण नहीं मिला कि क्या जन्मदिन पर दोस्तों के मारने से इस लड़के की मौत हो गयी? इसीलिए हमने हमारी जांच आगे चालू रखी | अलग अलग सोशल मीडिया पर इस खबर के बारें में ढूँढने पर हमें ट्विटर पर वीरेंदर सहवाग के अधिकारिक ट्विटर अकाउंट से की गयी एक ट्वीट मिला | यह ट्वीट २ मई २०१९ को किया गया था | ट्वीट में लिखा गया है कि “यह बहुत दुख की बात है कि यह छात्र जिसे ‘बर्थडे बम्प्स’ दिया जा रहा था वो इस हादसे के कारण आज जीवित नहीं है | यह एक हमला है और जश्न मनाने का कोई तरीका नहीं है | कृपया ज़िम्मेदार हों और कोई बर्थडे बम्प्स ना दे, यह सभी के लिए मज़ेदार नहीं होता है |”

आर्काइव लिंक

इस ट्वीट के नीचे हमें डॉक्टर रघुराज सिंह नामक एक यूजर द्वारा किया गया कमेंट मिला | उन्होंने कमेंट में लिखा है कि यह १०० टका गलत खबर है और वीरेंदर सहवाग से इस ट्वीट को तुरंत डिलीट करने का अनुरोध किया | इसके साथ साथ उन्होंने यह भी लिखा है कि दावा किया गया पीडीत लड़का उनके हॉस्टल में रहता है और जीवित व सही सलामत है | बादमे इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया | इस प्रकार, ट्विटर पर हुई इस बातचीत से स्पष्ट है कि जिस व्यक्ति का पोस्ट के वीडियो में मरने का दावा किया जा रहा है वह गलत है और वह व्यक्ति अभी भी जीवित है |

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमें दावें अनुसार पीड़ित के करीबी दोस्त दीपक अंजना का नंबर मिला | हमने उनसे मोबाइल कॉल द्वारा वार्तालाप किया | उन्होंने हमें बताया कि यह विडियो दिसंबर २०१८ का है जब मेरे दोस्त का जन्मदिन था | विडियो में दिखाया लड़का मेरे कॉलेज में जूनियर है और में उसे अच्छी तरह से पहचानता हूँ | हमारे कॉलेज में अक्सर ऐसा होता है कि किसीके जन्मदिन पर हम केक काटकर ‘बर्थडे बम्प्स’ देकर जश्न मानते है | विडियो देखने में काफ़ी खतरनाक लगता है परंतु उस लड़के को कुछ नहीं हुआ है | वह जीवित है और स्वस्थ हैं | इसके साथ उन्होंने हमें यह भी बताया कि यह विडियो भारत के किसी कॉलेज का नहीं है, यह विडियो किर्गिज़स्तान में बिश्केक के किसी कॉलेज का है |

उन्होंने हमें कुछ स्क्रीनशॉट भेजे जिसमें हम दावें अनुसार पीड़ित को वीरेंदर सहवाग के ट्वीट के नीचे कमेंट करते हुए देख सकते है | कमेंट में लिखा गया है कि “सर, यह विडियो मेरे बर्थडे का है परंतु साझा की गई खबर गलत है क्योंकि में अभीतक जिंदा हूँ | इस विडियो को कृपया डिलीट कर दीजिये क्योंकि इससे मुझे बहुत परेशानी हो रही है |”

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | विडियो के माध्यम से किये गए दावें गलत है क्योंकि विडियो में दिखाया गया लड़का जीवित है और स्वस्थ है | यह विडियो दिसंबर २०१८ का है और विडियो में दिखाया गया लड़का जीवित है, साथ ही यह विडियो भारत के किसी कॉलेज का नहीं है |

Avatar

Title:क्या ‘बर्थडे बम्प्स’ देने के कारण हुई इस निर्दोष लड़के की मौत?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •