मथुरा में कई विकास परियोजनाओं के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर को गलत दावे के साथ फैलाया जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१२ सितम्बर २०१९ को फेसबुक पर Krishna Rathi नामक फेसबुक यूजर ने एक वीडियो पोस्ट की थी, इस पोस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक प्लास्टिक के ढेर के सामने बैठकर एक महिलाओं के दल के साथ कुछ बात करते हुए दिख रहें हैं | इस पोस्ट के विवरण में लिखा है कि, “2 कैमरामैन बुलाकर कालीन पर कचरा बिछाकर कौन आदमी कचरे बिनता है जरा बताना भाई #नौटंकीबाज….” इस पोस्ट के द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सर तस्वीरें खिचवाने के लिए कारपेट पर बैठ कर कचरा चुन रहें है |क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले मथुरा के SSP शलभ माथुर से संपर्क साधा, तो उनके PRO sub-inspector  चन्दुर ने हमसे बात की | उनसे इस घटना के बारे में पूछने पर उन्होंने इस बात की पुष्टी की कि, “यह वीडियो १० सितम्बर को मथुरा के वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एक पशु आरोग्य मेले था, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रमुख अतिथि के रूप में आये थे और इस कार्यक्रम की शुरुवात की थी | इसी कार्यक्रम में एक विभाग प्लास्टिक के पदार्थों पर था | कचरे में पाए जाने वाले विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक की किस प्रकार छटाई की जाती है | इसी प्रक्रिया को समझने के लिए प्रधानमंत्री प्लास्टिक उठाने वाली महिलाओं से मिले | यह वीडियो उसी वक़्त का है |”

इसके बाद हमने इस सन्दर्भ में गूगल पर ‘मथुरा के वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशु आरोग्य मेले’ कीवर्ड्स से ढूंढा, तो हमें इस कार्यक्रम से जुड़ी प्रसारित खबरें मिली | इन ख़बरों को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करें |

Aajtak.intodayPost | ArchivedLinkNewstrackPost | ArchivedLinkAPNlivePost | ArchivedLink

इसके अलावा इन ख़बरों से हमें YouTube में प्रधानमंत्री के आधिकारिक अकाउंट से १० सितम्बर २०१९ को इस कार्यक्रम का live प्रसारन का वीडियो भी मिला | इस वीडियो को आप नीचे देख सकतें हैं |

साथ ही APNnews द्वारा ११ सितम्बर २०११९ को इस ख़बर को ट्वीट भी किया गया था |

apnlivehindiTweet | ArchivedLink

इसके बाद हमने मथुरा में स्थित ‘Uttar Pradesh Pandit Deen Dayal Upadhyaya Pashu Chikitsa Vigyan Vishwavidyalaya Evam Go Anusandhan Sansthan’ से संपर्क साधा | हमारी बात वहाँ के कुलपति जी. के. सिंह के व्यक्तिगत सचिव सुशील पाल से हुई | उन्होंने कहा कि उनके संस्थान ने सिर्फ़ यह कार्यक्रम आयोजन करने के लिए अपने विश्वविध्यालय का स्थान दिया था, मगर यह मेला सरकार के पशुपालन विभाग द्वारा आयोजित था | 

इसके बाद हमने उत्तर प्रदेश के पशुपालन विभाग के निर्देशक डॉ. उदय प्रताप सिंह से संपर्क साधा | इस सन्दर्भ में पूछने पर उन्होंने कहा कि, “यह एक पशु आरोग्य मेला सरकार द्वारा आयोजित किया जाता है, जिसे इस वर्ष हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने इस मेले का शुभ आरम्भ किया था | यहाँ नई पशुपालन चिकित्सा के बारे में जानकारी देने के लिए विभिन्न स्टाल लगाये गए थे, जिसमे से एक स्टाल कचरे में पाए जाने वाले अलग-अलग प्लास्टिक पर था | कचरा उठाने वाली महिलाएं किस प्रकार इन प्लास्टिक की छटाई करतीं है | प्रधानमंत्रीजी मेले के दौरे के वक्त इस प्लास्टिक स्टाल में रुक कर, कचरा उठाने वाली महिलाओं से प्लास्टिक के विभिन्न प्रकार के बारे में जानकारी ले रहे थे | किस प्रकार प्लास्टिक तो चुनकर अलग किया जाता है और प्लास्टिक में कितने प्रकार है, इत्यादि की जानकारी हेतु वहाँ बैठकर उनसे बात कर रहे थे |”  

इस अनुसंधान से यह बात स्पष्ट होती है कि उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो एक एक पशु आरोग्य मेले का था, जिसमे प्रधानमंत्री इस मेले के एक हिस्से में प्लास्टिक उठाने वाली महिलाओं से बात कर रहें हैं | पूरे कार्यक्रम का यह हिस्सा सिर्फ़ फोटो खीचने के लिए ख़ास तौर पर नहीं बनाया गया है |  

जांच का परिणाम :  उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सर तस्वीरें खिचवाने के लिए कारपेट पर बैठ कर कचरा चुन रहें है |’ ग़लत है |

Avatar

Title:मथुरा में कई विकास परियोजनाओं के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर को गलत दावे के साथ फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •