क्या यह मर्मस्पर्शी तस्वीर इटली में कोरोनावायरस से संक्रमित माँ और बच्चे की है ?

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोनावायरस से पूरी दुनिया प्रभावित है, इटली में इस महामारी से मरने वालों की संख्या बहुत ज़्यादा है और ये आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है | इस बीच सोशल मीडिया पर एक तस्वीर साझा की जा रही है जो एक चर्चा का विषय बन गयी है, जिसमें एक महिला ऊपर से नीचे तक सुरक्षात्मक पारदर्शी पोशाक से ढकी हुई है और उसकी गोद में एक बच्चा है | इस पोस्ट के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि यह घटना इटली की है, जहा यह महिला कोरोनावायरस से  संक्रमित है और वह आखिरी वक्त में अपने बच्चे को गले लगा रही है |

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “बेटे से माँ की जुदाई…है भगवान हर माँ की रक्षा करों ! इटली की महिला कोरोना की तीसरी और आखरी स्टेज में थी सामने उनका 18 महीने का बच्चा बहुत रो रहा था उसने अपनी आखरी इच्छा सरकार से जाहिर की की वो अपने बच्चे को गले लगाना चाहती हैं सरकार से उसकी पूरी बॉडी को पारदर्शि मोम से कवर करके बच्चे को उसकी छाती पर लेटा दिया बच्चा चुप हो गया ओर मां हमेशा के लिए चुप हो गई|”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि.. 

जाँच कि शुरुवात हमने ऊपरोक्त तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम से हमें अमेरिका की फोटो एजेंसी मैगनम फोटोज की वेबसाइट पर उपरोक्त वायरल तस्वीर उपलब्ध मिली | इसके कैप्शन में बताया गया है कि यह तस्वीर वॉशिंगटन के फ्रेड हचिंसन कैंसर सेंटर की है। वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, ये तस्वीर १९८५  की है | बच्चा लेमिनार एयर फ्लो रूम में है, जिसके चलते मां ने ये सुरक्षा पोशाक पहनी हुई है। बच्चे का बोनमैरो ट्रांसप्लांट होने वाला था | वेबसाइट के अनुसार, इस तस्वीर को बर्ट ग्लिन नामक फोटोग्राफर ने खींचा था | बर्ट ग्लिन के बारे में ढूंढने पर हमें पता चला कि उनकी मृत्यु २००८ में हो चुकी है |

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर के माध्यम से किये गये दावे गलत है | यह तस्वीर वाशिंगटन के फ्रेड हचिंसन कैंसर सेंटर में १९८५  में खींची गयी थी | इसका कोरोना वायरस से कोई संबंध नहीं है

Avatar

Title:क्या यह मर्मस्पर्शी तस्वीर इटली में कोरोनावायरस से संक्रमित माँ और बच्चे की है ?

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •