पिता की मृत्यु के पश्चात श्मशान घाट पर पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर भिड़े तीन भाइयों के वीडियो को गलत दावों के साथ फैलाया जा रहा है।

False Social

देश में कोरोना वायरल महामारी की दूसरी लहर चल रही है व इसके चलते काफी बड़ी संख्या में लोगों की मृत्यु हुई है, जिसकी वजह से कई जगहों पर श्मशान भूमि में अंतिम संस्कार के लिये शवों की लंबी लाइन देखने को मिली है व श्मशान में लकड़ियों की कमी भी देखने को मिली है। इसी बीच इंटरनेट पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें आप कई लोगों को मारपीट करते हुये देख सकते है। इसके साथ दावा किया जा रहा है कि श्मशान भूमि में दिवंगत लोगों के परिजन लकड़ियों के लिये आपस में लड़ाई कर रहे हैं व साथ ही इस दावे में देश की वर्तमान स्थिति को लेकर मोदी सरकार पर तंज कसा जा रहा है। 

वायरल हो रहे वीडियो के शीर्षक में लिखा है,

यह लड़ाई सिर्फ इस बात पर हो रही है, श्मशान में मुर्दा जलाने के लिए लकड़ी पहले हमे मिले। आखिर हम किस मुकाम पर आ गए है? क्या यही अच्छे दिन दिखाने थे सोचो और सोचो। क्या ऐसे ही विश्वगुरु बनेगे अन्ध भक्तो ओर बजाओ ताली थाली।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा वीडियो राजस्थान के भिलवाड़ा से है। मृत व्यक्ति के तीन बेटों ने श्मशान भूमि में पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर आपस में मारपीट की थी। इस घटना का कोरोना वायरस महामारी व मुक्ति धाम में लकड़ियों की कमी से कोई संबद्ध नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रहे दावे को यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च कर की, परिणाम में वायरल हो रहा यही वीडियो हमें इनखबर के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर इस वर्ष 6 मई को प्रसारित किया हुआ मिला। इस वीडियो के शीर्षक में लिखा है, 

भीलवाड़ा-राजस्थान : जमीन के लिए शमशान में लड़ रहे तीन भाई, प्रापर्टी के लिए श्मशान में मारपीट,“ इसके नीचे दी गयी जानकारी में लिखा है, “राजस्थान के भीलवाड़ा शहर के उपनगर सांगानेर के श्मशान में पिता के अंतिम संस्कार के तीसरे दिन अस्थियां इकट्ठी करने गए तीन बेटे जमीन विवाद को लेकर आपस में भिड़ गए. इस दौरान जमकर मारपीट हुई, मौके पर अंतिम संस्कार के लिए आये लोगों ने बड़ी मुश्किल से उन्हें अलग किया. इसको लेकर एक विडियो वायरल हो रहा है।“

आर्काइव लिंक

इसके बाद उपरोक्त जानकारी को ध्यान में रखते हुये हमने गूगल पर इस बारे में अधिक जानकारी पाने के लिये कीवर्ड सर्च किया, तो हमें झी राजस्थान द्वारा इस वर्ष 6 मई प्रकाशित किया हुआ एक समाचार लेख मिला, जिसमें लिखा है, पिता की मौत के तीसरे दिन अस्थियाँ लेने श्मशान घाट आये तीन भाइयों में से दो के बीच जमीन को लेकर झगड़ा व मारपीट हो गयी। इस दौरान श्मशान घाट में शव का दाह संस्कार करने आए अन्य लोगों ने उन्हें छुड़वाया। पुलिस ने दोनों भाइयों को आगे झगड़ा नहीं करने के लिए पाबंद किया है।

आर्काइव लिंक

इस खबर के बारे में अधिक जानने के लिये आप टी.वी9 भारतवर्ष द्वारा प्रकाशित किया हुआ समाचार लेख भी पढ़ सकते है।

आर्काइव लिंक

तदनंतर उपरोक्त घटना की पुष्टि करने हेतु भिलवाड़ा में स्थित सुभाष नगर थाना क्षेत्र की एस.एच.ओ पुष्पा कसोटिया से संपर्क किया तो उन्होंने हमें बताया कि, “वायरल हो रहा दावा सरासर गलत है। वीडियो में दिख रही लड़ाई श्मशान भूमि में शवों को जलाने या लकड़ियों के लिये नहीं हुई थी, बल्कि एक ही परिवार के तीन भाई अपने पिता के निधन के बाद मारपीट कर रहे थे। उन तीन भाइयों में एक भाई भिलवाड़ा शहर में रहता है और दो भाई ग्रामीण में रहते है, पहले तो विवाद इस बात पर हुआ था कि पिताजी के निधन के बाद 12 दिनों की विधि किसके घर होगी और उसके बाद बातचीत ज़मीन- जायदाद पर आई और मारपीट हो गयी। यह घटना लगभग एक महीने पहले घटी थी।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि उपरोक्त गलत है। वायरल हो रहा वीडियो राजस्थान के भिलवाड़ा का है। तीन बेटों ने उनके पिताजी के निधन के बाद श्मशान भूमि में पैतृक संपत्ति को लेकर मारपीट की थी। 

Avatar

Title:पिता की मृत्यु के पश्चात श्मशान घाट पर पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर भिड़े तीन भाइयों के वीडियो को गलत दावों के साथ फैलाया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •