लाहौर के एक बाज़ार में उमड़ी भीड़ को नई दिल्ली का बता वायरल किया जा रहा है।

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

COVID19 महामारी से सम्बंधित कई वीडियो व तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल होती चली आ रही है। इनमें कई वीडियो व तस्वीरें गलत व भ्रामक दावों के साथ भी साझा की जा रही है, ऐसे कई गलत दावों का अनुसंधान फैक्ट क्रेसेंडो ने किया है व उनकी प्रमाणिता अपने पाठकों तक पहुंचाई है। वर्तमान में ऐसा ही एक वीडियो इंटरनेट पर काफी तेज़ी से वायरल हो रहा है, जिसमें आप लोगों की भीड़ को खरीददारी करते हुये देख सकते है। वीडियो के साथ जो दावा वायरल हो रहा है उसके मुताबिक यह वीडियो दिल्ली के जाफराबाद का है व इसके साथ प्रधानमंत्री मोदी पर चुनावों में भीड़ को लेकर तंज कसा जा रहा है।

वायरल हो रहे वीडियो के शीर्षक में लिखा है, 

जाफ़राबाद नई दिल्ली का दृश्य। लगता है प्रधानमंत्री मोदी दिल्ली चुनावों के लिए अभी से रैली कर रहें है।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा वीडियो पाकिस्तान के लाहौर में स्थित एक बाज़ार से है। इस वीडियो का दिल्ली के जाफराबाद से कोई सम्बंध नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रहे वीडियो को इनवीड-वी वैरिफाइ टूल के माध्यम से छोटे कीफ्रेम्स में काटकर गूगल रीवर्स इमेज सर्च के ज़रिये की, परिणाम में हमें यही वीडियो कलर्स नामक एक फेसबुक पेज पर इस वर्ष 26 अप्रैल को प्रसारित किया हुआ मिला। वीडियो के शीर्षक में लिखा है, “इचरा बजार लाहौर।

फेसबुक | आर्काइव लिंक

हमें यही वीडियो खील दास कोहिस्तानी नामक एक पाकिस्तानी राजनेता के फेसबुक पेज पर इस वर्ष 25 अप्रैल को प्रसारित किया गया था। इस पोस्ट के शीर्षक में लिखा है, 

लाहौर बाज़ार में भयानक दृश्य, कोरोनावायरस एक जानलेवा बीमारी है, आपको सावधान रहना चाहिये, एक जिम्मेदार नागरिक साबित होना चाहिये, अपने जीवन और अपने परिवार के जीवन को किसी भी परेशानी में नहीं डालना चाहिये। कोई पंजाब सरकार को भी जगा दें।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

इसके पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने अधिक जानकारी पाने के लिये पाकिस्तान में स्थित इंडिपेंडेन्ट उर्दू के संवाददाता इज़र उल्लाह से संपर्क किया तो उन्होंने इस वीडियो की पुष्टि करते हुये कहा कि, “ये वीडियो इंटरनेट पर इस वर्ष 25 अप्रैल को साझा किया गया था और तब से वायरल हो रहा है। वीडियो में दिख रहा दृश्य पाकिस्तान के लाहौर में स्थित इचरा बाज़ार का है। यह बाज़ार हमेशा खरीददारों से भरा होता है और हमेशा से ही यहाँ भीड़ देखी गई है, कोरोनावायरस महामारी के चलते पाकिस्तान में शाम 6 बजे बाजार बंद हो जाता है और वर्तमान में यहाँ 16 मई तक पूरी तरह से लॉकडाउन है।

इस वीडियो के सिलसिले में फैक्ट क्रेसेंडो ने पाकिस्तान के पेशावर में स्थित रियाज़ गफुर जो पाकिस्तानी मीडिया से जुड़े हुये है से संपर्क किया जिन्होंने अरब न्यूज़ पाकिस्तान के अब्दुर रौफ यूसुफज़ाइ के माध्यम से हमें बताया कि यह वीडियो भारत का नहीं बल्कि पाकिस्तान के लाहौर से है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि उपरोक्त दावा गलत है। वायरल हो रहा वीडियो पाकिस्तान के लाहौर स्थित एक बाज़ार का है। इस वीडियो का दिल्ली के जाफराबाद से कोई सम्बंध नहीं है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. पुराने व असम्बंधित वीडियो के संकलन को वर्तमान पश्चिम बंगाल में हिन्दुओं के पलटवार का बता भ्रामकता फैलाई जा रही है।

२. पिछले वर्ष बांगलादेश के चटगांव में एक महिला पर हुये हमले को वर्तमान बंगाल हिंसा से जोड़कर वायरल किया जा रहा है।

३. नाक में नींबू का रस डालने से COVID19 (कोरोना वायरस) ठीक नहीं होता है।

Avatar

Title:लाहौर के एक बाज़ार में उमड़ी भीड़ को नई दिल्ली का बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •