बच्चो को पीटने का वायरल वीडियो डीपीएस वलसाड स्कूल के टीचर का नहीं, जानिए सच

Communal False National

डीपीएस वलसाड ने फैक्ट क्रेसेंडो को बताया है कि उनके स्कूल में शकील अहमद अंसारी नामक कोई टीचर नहीं है । यह घटना उनके स्कूल से नहीं है ।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो राजबाघ के डीपीएस स्कूल टीचर के नाम से फैलाया जा रहा है । इस वीडियो में एक आदमी एक छोटे बच्चे को बेरहमी से पीटता है। जबकि उस कमरे में मौजूद दुसरे बच्चे यह देख रहे है । 

इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि वीडियो में दिख रहा व्यक्ति वलसाड के राजबाघ का डीपीएस स्कूल के शिक्षक शकील अहमद अंसारी है, जो बेरहमी से अपने छात्रों पर अत्याचार करते हुए नज़र आ रहे है ।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है कि “आप के whatsapp पे जितने भी नंबर एवं ग्रुप हैं एक भी छूटने नहीं चाहिए, ये वीडियो सबको भेजिए ये वलसाड के DPS SCHOOL Rajbag का टीचर शकील अहमद अंसारी है इसको इतना शेयर करो की ये टीचर और स्कूल दोनों बंद हो जाए । वीडियो वायरल होने से काफी फ़र्क पड़ता है ओर कार्यवाही होती है जिसे दया न ।”

(शब्दशः)

ट्वीट लिंकआर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुआत हमने इस वीडियो को इन्विड वी वेरीफाई टूल के मदद से छोटे कीफ्रेम्स में तोडा और यांडेक्स पर रिवर्स इमेज सर्च किया। जिसके परिणाम से हमें अगस्त २०१४ को डेली मेल द्वारा प्रकाशित खबर मिली ।

इस खबर के अनुसार वायरल हो रही वीडियो इजिप्त से है । यह वीडियो इजिप्त के एक अनाथाश्रम से है जहाँ के मैनेजर को बच्चों को पीटते हुए दिख रहे है। इस आदमी का नाम ओसामा मोहम्मद ओथमान है । कहा जा रहा है कि यह वीडियो उस आदमी की पत्नी ने रिकॉर्ड किया था। 

यह वीडियो वायरल होने पर ओसामा ने यह स्पष्ट किया था कि उन्होंने बच्चों को दुर्व्यवहार करने से रोकने के उद्देश्य से पीटा था । रिपोर्ट में गिज़ा स्थित अनाथाश्रम का नाम दर मक्का अल मोकरामा बताया गया है । आरोपी को गिज़ा पुलिस ने गिरफ्तार किया गया था ।

फैक्ट क्रेस्केंडो ने गुजरात के वलसाड में डीपीएस स्कूल के कार्यालय से संपर्क किया। कार्यकारी अधिकारी जेफरी चेट्टियार ने हमें बताया कि वे वलसाड जिले के एकमात्र डीपीएस स्कूल हैं । वे जिले के वापी शहर में स्थित हैं।

“वीडियो में दिख रहा व्यक्ति न तो डीपीएस स्कूल का शिक्षक है और न ही हमारे स्कूल में ऐसी कोई घटना हुई है। दरअसल हमारे स्कूल में शकील अहमद अंसारी नाम का कोई शिक्षक नहीं है,” उन्होंने बताया। 

निष्कर्ष:तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त वीडियो के माध्यम से किए गए दावे को गलत पाया है । सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो गुजरात से नहीं बल्कि इजिप्त से है । वीडियो में दिख रही घटना 2014 में हुईथी जब इजिप्त के एक अनाथाश्रम के मैनेजर ने वहां मौजूद बच्चों को पीटा था । गुजरात के वलसाड के डीपीएस स्कूल में शकील अहमद अंसारी नामक कोई शिक्षक नहीं है ।

Avatar

Title:बच्चो को पीटने का वायरल वीडियो डीपीएस वलसाड स्कूल के टीचर का नहीं, जानिए सच

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False

Leave a Reply