कर्णाटक के असंबंधित वीडियो को तमिलनाडु में घायल बिहारी मजदूर के नाम से किया गया वायरल।

False National

इस वीडियो का तमिलनाडु के बारे में चल रहे कथित हमलों से कोई संबंध नहीं है। ये वीडियो कर्णाटक में हुए एक हत्याकांड का है।

तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों पर अत्याचारों की ख़बरों के बीच सोशल मीडिया पर तरह तरह के असंबंधित वीडियो शेयर किए जा रहे हैं। इसी के चलते सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें हम एक लड़के को खून से लथपथ होकर तड़पते हुए देख सकते है।

इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि वीडियो में हम तमिलनाडु में एक बिहारी मजदूर की हत्या होते हुए देख सकते है।

वायरल वीडियो के कैप्शन में लिखा गया है कि “तमिलनाडु मैं बिहारियों को आए दिन मारा जा रहा हैं लेकिन बिहार की सत्ताधारी नितीश कुमार की सरकार हाथ पर हाथ रखकर बैठी है! यूपी में का बा सीजन 2 गानेवाली नेहा फोल्क सिंगर अब तमिलनाडु में हो रहे हरकत पर मुंह मैं दही जमा बैठी हैं।”

ट्वीट लिंकआर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस वीडियो में हम बैकग्राउंड में लोगों को कन्नड़ भाषा में बात करते हुए सुन सकते है। हमने कर्णाटक के लोकल पत्रकार से संपर्क कर ये पता किया कि वायरल वीडियो कहा से है, हमें पता चला की वायरल वीडियो डोड्डाबेलवांगला में हुए छात्रों की हत्या की है। 

इस जानकारी को ध्यान में रखते हुए हमने संबंधित कीवर्ड सर्च किया जिसके परिणाम से हमें कई मीडिया रिपोर्ट मिले जिन्होंने इस हत्याकांड को कवर किया था। रिपोर्ट के अनुसार, 18 फरवरी को बेंगलुरू से 54 किलोमीटर उत्तर- पश्चिम में डोड्डाबेलवांगला में एक खेल टूर्नामेंट में एक इंजीनियरिंग ग्रेजुएट और एक पीयूसी छात्र की हत्या कर दी गई थी। 

डोड्डाबेलवांगला के भरत कुमार (23) और प्रतीक (17) पर कर्नाटक पब्लिक स्कूल के मैदान में चार सदस्यीय गिरोह ने हमला किया था। प्रतीक को एक खंजर से वार किया गया था जो उसके निजी अंगों में फंसा रहा, जबकि कुमार को पेट के निचले हिस्से में चाकू मारा गया था।

पुलिस ने हत्यारों को पकड़ने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया है। हमलावार एक कार में मैदान तक गए और मैदान के अंदर पार्क करने की कोशिश की लेकिन खिलाड़ियों और आयोजकों ने आपत्ति जताई। इसके बाद कहासुनी हुई और भीड़ ने कार के शीशे तोड़ दिए। वे थाने गए, लेकिन शिकायत नहीं की। टूर्नामेंट में भाग लेने वालों द्वारा उनके वाहन को फिर से रोका गया और तोड़फोड़ की गई। जबकि चारों भाग निकले, कुमार और प्रतीक आयोजकों द्वारा प्रदान की गई टी-शर्ट पहने हुए जिसके बाद पुरुषों ने दोनों को चाकू मार दिया।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, ये हत्याएं कर्नाटक में महा शिवरात्रि उत्सव के लिए ग्रामीणों द्वारा आयोजित एक क्रिकेट टूर्नामेंट के दौरान हुई लड़ाई का नतीजा थीं। पीड़ित पी भरत और प्रतीक डोड्डाबेलवांगला गांव के रहने वाले हैं।

आगे फैक्ट क्रेसेंडो  ने बेंगलुरु ग्रामीण जिला के एस.पी मल्लिकार्जुन बालदंडी से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि “ये वीडियो डोड्डाबेलवांगला में हुई हत्या की घटना की है। ये मामला शिवरात्रि के समय पार्किंग को लेकर झगड़ों के बीच हुई हत्या की है और इसका तमिलनाडु के बारे में चल रहे कथित हमलों से कोई संबंध नहीं है। ये कोई बिहार के मजदूर नहीं है बल्कि डोड्डाबेलवांगला गावं के निवासी है जो छात्र थे।”
 

निष्कर्ष:

तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने वायरल वीडियो के साथ किये गये दावे को गलत पाया है। सोशल मीडिया पर वीडियो तमिलनाडु से नहीं है बल्कि ये वीडियो हाल ही में कर्नाटक के एक गावं में हुए हत्या की है।

Avatar

Title:कर्णाटक के असंबंधित वीडियो को तमिलनाडु में घायल बिहारी मजदूर के नाम से किया गया वायरल।

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False

Leave a Reply