क्या पाकिस्तान मे जाली भारतीय नोट छापने का लघु उद्योग चल रहा है ? जानिये सच |

Economy False International
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२९ मई २०१९ को फेसबुक पर ‘राजेश्वर तिवारी मुन्ना’ नामक एक यूजर द्वारा एक विडियो साझा किया गया है | पोस्ट का विवरण इस प्रकार है पाकिस्तान में लघु उद्योग ? कृपया इस वीडियो को सभी को अग्रेषित करें अन्यथा उस व्यक्ति के लिए इस मिशन की सफलता नहीं होगी जिसने चुपके से इस वीडियो को लिया है |

इस पोस्ट द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि पकिस्तान मे जाली भारतीय नोट छापने का लघु उद्योग चल रहा है |” क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:  

FacebookPost | ARCHIVED LINK

संशोधन से पता चलता है कि…

इतने सारे जाली नोट छप रहें है और सिर्फ़ एक ही आदमी काम कर रहा है, साथ विडियो शूट होते वक्त वह कैमरे की तरफ देख रहा है, यह देखकर हमें विडियो की सत्यता पर संदेह हुआ | तो हमने सबसे पहले विडियो को ‘Frame-By-Frame’ देखा | इस संशोधन में हमें दो फ्रेम ऐसे मिले जिसमे हमें साफ़ दिखा कि नोट पर अंग्रेजी मे ‘Manoranjan Bank Of India’ और हिंदी में ‘भारतीय चिल्ड्रन बैंक’ लिखा है |

इस संशोधन से यह बात तो साफ़ हो गयी कि उपरोक्त पोस्ट मे दिखाया गया विडियो असली जाली नोट छपाई का नहीं बल्कि, ‘भारतीय चिल्ड्रन बैंक’ के नाम से बच्चों द्वारा खेलने के लिए इस्तेमाल किये जाने वाला नोट है |

फिर हमने गूगल मे ‘50 and 200 rupees children’s bank of india notes’ की वर्ड्स से जब ढूंढा, तो हमें जो परिणाम मिले वह आप नीचे देख सकते है |

८ जनवरी २०१८ को VK News द्वारा youtube पर अपलोड एक विडियो में उपरोक्त पोस्ट वाले विडियो को दर्शाया गया है और कहा गया है कि यह विडियो नकली नोट छापने की फैक्ट्री नहीं बल्कि बच्चों के नोट छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस का विडियो है |

इस संशोधन से हमें ६ जनवरी २०१८ को प्रसारित ‘BoomLive’ की ख़बर मिली, जिसमे उन्होंने कहा है कि २०१७ से यह विडियो भ्रमित करने के लिए साझा किया जा रहा है |

कभी यह विडियो ‘बांग्लादेश’ के नाम से और कभी ‘पाकिस्तान’ के नाम से साझा हो रहा है | मगर यह विडियो भारत के एक प्रिंटिंग प्रेस का है |

इन संशोधन से इस बात की पुष्टि होती है कि उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा लोगों को भ्रमित करने के लिए साझा किया जा रहा है |

जांच का परिणाम : इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा की, “पकिस्तान मे जाली भारतीय नोट छापने का लघु उद्योग चल रहा है |” ग़लत है | उपरोक्त पोस्ट मे साझा विडियो बच्चों के नोट छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस का है, नकली नोट छापने का नहीं |

Avatar

Title:क्या पाकिस्तान मे जाली भारतीय नोट छापने का लघु उद्योग चल रहा है ? जानिये सच |

Fact Check By: Nita Rao 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •