राजस्थान के डूंगरपुर में पैसों से भरी गाड़ी को जब्त करने की तस्वीरों को हरियाणा कांस्टेबल परीक्षा पेपर लीक की घटना से जोड़ा जा रहा है।

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हालही में हरियाणा पुलिस कांस्टेबल की परीक्षा के पेपर लीक होने की खबर सामने आयी है जिसके चलते सोशल मंचों पर तीन तस्वीरें वायरल हो रही है। इन तस्वीरों में आप कुछ पुलिसकर्मियों, चंद आरोपियों, सफेद रंग की एक गाड़ी और मेज़ पर पड़े बड़ी संख्या में नकदी नोटों को देख सकते है। इन तस्वीरों के साथ दावा किया जा रहा है कि उन में दिख रहे लोगों ने हरियाणा पुलिस कांस्टेबल की परीक्षा के पेपर लीक करवाये है, जिन्हें अब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है ।

वायरल हो रहे पोस्ट के शीर्षक में लिखा है, 

ये देखो हरियाणा पुलिस का पेपर लीक करवाने वाले

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रही तस्वीरें राजस्थान के डूंगरपुर जिले की है जहाँ इस वर्ष मई में पुलिस ने एक पैसों से भरी गाड़ी को पकड़ा था। इन तस्वरों का वर्तमान में हरियाणा कांस्टेबल परीक्षा पेपर लीक की घटना से कोई सम्बंध नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रही तस्वीरों को गूगल पर कीवर्ड सर्च करने से की, परिणाम में ये तस्वीरें हमें दैनिक भास्कर द्वारा इस वर्ष मई में प्रकाशित किये हुये एक समाचार लेख में प्रकाशित की हुयी मिली। इन तस्वीरों के साथ दी गयी जानकारी में लिखा है, राजस्थान के डूंगरपुर जिले में स्थित बिछिवाड़ा में पुलिस ने पैसों से भरी एक गाड़ी को बरामद किया। असल में इस वर्ष मई में डूंगरपुर पुलिस रतनपुर बॉर्डर पर नाकाबंदी कर रही थीं व उसी दौरान उन्हें एक गाड़ी आती नज़र आयी, यह एक मोडिफाइड लग्जरी कार थी और इसके देखकर उन्हें संदेह हुआ जिसकी वजह से पुलिस ने गाड़ी की तलाशी ली और साढ़े चार करोड़ नकदी रुपये बरामद किये। लेख के मुताबिक यह मामला शराब तस्करी से सम्बंधित है। यह गाड़ी दिल्ली से रवाना हुयी थी व तीन राज्यों की 782 किलोमीटर की दूरी तय कर आयी थी। पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया है।

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमने इस सन्दर्भ में जाँच की व यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च तो हमें टी.वी9 भारतवर्ष द्वारा इस वर्ष 23 मई को प्रसारित किया हुआ एक वीडियो मिला। उसके शीर्षक में लिखा है, “राजस्थान: डूंगरपुर पुलिस ने गुजरात बॉर्डर से साढ़े 4 करोड़ का कैश बरामद किया,“ और नीचे दी गयी जानकारी में लिखा है, “डूंगरपुर पुलिस ने गुजरात और राजस्थान की सीमा पर स्थित रतनपुर बार्डर पर लग्जरी कार से साढ़े चार करोड़ रुपये की नकदी बरामद की।“

आर्काइव लिंक

तत्पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने इस मामले में अधिक जानकारी पाने के लिये व वायरल हो रहे दावे की सच्चाई जानने के लिये राजस्थान के डूंगरपुर जिले में स्थित बिछिवाड़ा पुलिस थाने के एस.एच.ओ मोहम्मद रिज़वान से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि, ये इस वर्ष 22 या 23 मई की बात है, वायरल हो रही तस्वीर में दिख रही गाड़ी दिल्ली से गुजरात जा रही थी और गुजरात बोर्डर पर नाकाबंदी के चलते हमने इस गाड़ी को रोका और हमें उसमें से साढ़े चार करोड़ में पाँच सौ रुपये कम ऐसी नकदी रकम मिली थी। इस मामले में दो लोगों (जो लोग गाड़ी में थे) को हिरासत में लिया गया था। चूंकि गुजरात में शराब बंदी है जिस वजह से हरियाणा और राजस्थान से शराब की तस्करी होती है और हमारा थाना क्षेत्र गुजरात और राजस्थान बोर्डर पर है तो यहाँ हमेशा नाकाबंदी होती है और हम गाड़ियों की जाँच करते है। उसी रोजमर्रा की जाँच के दौरान हमने इस गाड़ी को पकड़ा था। इस मामले में अब गुजरात के एक बड़े व्यापारी ने कोर्ट में जब्त किये हुये पैसों पर हकदारी जाहिर की है और कोर्ट में अभी भी ट्रायल चल रहा है। इन तस्वीरों से या इस मामले से वर्तमान में हरियाणा में हुये पेपर लीक से कोई सम्बंध नहीं है। 

उपरोक्त सबूतों में दी गयी जानकारी से यह स्पष्ट होता है कि राजस्थान में जो पैसे जब्त हुये थे वह इस वर्ष मई महिने का ममला है। हरियाणा में हुये पेपर लीक का मामला वर्तमान यानि कि इस महीने (अगस्त) से सम्बंधित है। 

इसके बाद हमने हरियाणा पुलिस कांस्टेबल परीक्षा पेपर लीक के मामले के बारे में जानकारी हासिल करने के लिये गूगल पर कीवर्ड सर्च किया व हमें हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा इस वर्ष 9 अगस्त को प्रकाशित किया हुआ मिला। उसके मुताबिक हरियाणा पुलिस कांस्टेबल भर्ती की इस वर्ष 7 अगस्त को हुई लिखित परीक्षा के दौरान पेपर लीक के मामले में हरियाणा स्थित फतेहाबाद से इस वर्ष 8 अगस्त को तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार लोगों में कैथल जिले के भान सिंह और फतेहाबाद के कुणाल और सतीश शामिल हैं। फतेहाबाद पुलिस ने आई.पी.सी की धारा 417, 420, 511 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है।

आर्काइव लिंक

तदनंतर फैक्ट क्रेसेंडो ने हरियाणा में स्थित कैथल के एस.पी लोकेंदर सिंह से संपर्क किया व उनसे वायरल हो रहे दावे के संदर्भ में पूछताछ की, उन्होंने हमें बताया कि, “सोशल मीडिया पर हो रही वायरल तस्वीरों के साथ किया जा रहा दावा सरासर गलत है। ये तस्वीरें हरियाणा पुलिस कांस्टेबल परीक्षा पेपर लीक मामले से सम्बंधित नहीं है।“

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रही तस्वीरों के साथ किया गया दावा गलत है। ये तस्वीरें राजस्थान के डूंगरपुर जिले की है जहाँ इस वर्ष मई में पुलिस ने एक पैसों से भरी गाड़ी को पकड़ा था। इन तस्वीरों का वर्तमान में हुई हरियाणा कांस्टेबल परीक्षा पेपर लीक की घटना से कोई सम्बंध नहीं है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. गैंगस्टर अनुराधा चौधरी की गिरफ्तारी के वीडियो को प्रियदर्शनी नारायण यादव का बता वायरल किया जा रहा है।

२. मोहम्मद अनस का टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने की खबर गलत है।

३. एक शख्स द्वारा लोगों के हाथ में बंधे कलावे को काटने के वीडियो को समाजवादी पार्टी व सांप्रदायिकता से जोड़ गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

Avatar

Title:राजस्थान के डूंगरपुर में पैसों से भरी गाड़ी को जब्त करने की तस्वीरों को हरियाणा कांस्टेबल परीक्षा पेपर लीक की घटना से जोड़ा जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •