क्या बांग्लादेशी शरणार्थीयों द्वारा कोलकाता स्टेशन पर तोड़फोड़ की गई है?

False National Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एक वीडियो, जिसमें एक रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ करने वाले पुरुषों के एक समूह को सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ साझा किया जा रहा है कि यह बांग्लादेशी शरणार्थियों द्वारा कोलकाता रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ का वीडियो है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

फैक्ट क्रेस्सन्डो ने पाया कि यह वीडियो कोलकाता का नहीं है | वास्तविकता में, ये वीडियो जनवरी २०१६ का बांग्लादेश से है |

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुआत में हमने इस वीडियो को बारीकी से देखने से की, ४२ सेकंड के आसपास, हमने एक बोर्ड पर गौर किया जिसपर ‘ब्राह्मणबारिया’ बंगाली भाषा में लिखा हुआ देखा जा सकता है | गूगल पर ढूँढने पर हमें पाया कि ये बांग्लादेशी सरकारी वेबसाइट के अनुसार बांग्लादेश में एक जिला है |

इसके पश्चात् , हमने “ब्रह्मनबेरिया रेलवे स्टेशन बर्बरता” जैसे कीवर्ड के साथ गूगल सर्च करने पर हमें १३ जनवरी २०१६ को कई समाचार पत्रों द्वारा इस सम्बन्ध में रिपोर्ट प्राप्त हुई जिन्होंने इस घटना को कवर किया था | द डेली स्टार में “ब्रह्मनबेरिया में हाथापाई” शीर्षक के साथ प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, वहां छात्रों द्वारा बांस और लाठी से लैस रेलवे पटरियों के फिशप्लेट हटा दी गई और अवामी लीग के कार्यालय में तोड़फोड़ की गई |

आर्काइव लिंक 

हमने “बी’बारिया मेहम” कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते हुए गूगल सर्च किया तो हमें एक तस्वीर मिली जो वीडियो में दृश्य के साथ सदृश्य मिलती है | यह तस्वीर १४ जनवरी २०१६ को डेली सन द्वारा प्रकाशित की गई थी, रिपोर्ट के अनुसार, नाराज मदरसा छात्रों ने अपने एक साथी छात्र की मौत के बाद ब्राह्मणबारिया रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ की और सार्वजनिक संपत्ति को क्षति पहुंचाई थी |

खबर के अनुसार एक झड़प में मदरसा छात्र की मौत को लेकर ब्राह्मणबारिया जिले में हिंसा के सिलसिले में कुछ ५००० लोगों के खिलाफ छह मामले दर्ज किए गए थे | खबर में प्रकाशित तस्वीर में हमें वीडियो में दिखाए गये “ब्राह्मणबारिया” का बोर्ड देखा जा सकता है | 

आर्काइव लिंक 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है |  बांग्लादेश की एक पुरानी घटना को एक गलत दावे के साथ साझा किया गया है| 

Avatar

Title:क्या बांग्लादेशी शरणार्थीयों द्वारा कोलकाता स्टेशन पर तोड़फोड़ की गई है?

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply