क्या बंगाल पुलिस ने एक औरत को इसलिए हिरासत में लिया क्योंकि उसने अपने पति ‘श्री राम’ सिन्हा को उनके नाम से पुकारा था?

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

३ जून २०१९ को नवाबजी नामक एक फेसबुक यूजर ने एक तस्वीर पोस्ट की | तस्वीर के शीर्षक में लिखा गया है कि विनाशकाले विपरीत बुद्धि” | पोस्ट में एक औरत को पुलिस गिरफ्तार करते हुए देखा जा सकता है | इस तस्वीर के ऊपर लिखा गया है कि “बाज़ार में अपने पति श्री राम सिन्हा को आवाज लगाई तो बंगाल पुलिस लिया पत्नी को हिरासत में |” इस तस्वीर के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि बंगाल पुलिस ने एक औरत को इसलिए हिरासत में लिया क्योंकि उसने अपने पति ‘श्री राम’ सिन्हा का नाम पुकारा था | यह भी कहा जा रहा है कि यह घटना बंगाल की है | फ़ेसबुक पर वायरल हो रही यह तस्वीर किसी न्यूज़ आर्टिकल की एडिट की गयी कटिंग की तरह दिख रही है | यह तस्वीर सोशल मीडिया में काफ़ी चर्चा में है | फैक्ट चेक किये जाने तक यह तस्वीर लगभग १०५ प्रतिक्रियाएं प्राप्त कर चुकी थी |

आर्काइव लिंक  

क्या वास्तव में बंगाल पुलिस ने इस औरत को अपने पति को उनका नाम – श्री राम से पुकारने के कारण गिरफ़्तार किया ? हमने इस तस्वीर की सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि..

जांच की शुरुआत हमने तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करके की | परिणाम से हमें १ मार्च २०१७ को हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा प्रकाशित खबर मिली | यह तस्वीर उस दौरान के विरोध-प्रदर्शन की है, जब बाल-तस्करी में शामिल होने के चलते भाजपा लीडर जूही चौधरी को सी.आई.डी ने गिरफ़्तार किया था |

उपरोक्त तस्वीर के नीचे लिखा है कि “नवंबर में कोलकाता में पुलिस के साथ बाल तस्करी रैकेट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ता |”

वायरल तस्वीर में विरोध प्रदर्शन बाल तस्करी का है न की भाजपा कार्यकर्ता की गिरफ़्तारी का |

आर्काइव लिंक

इस मामले में हिंदुस्तान टाइम्स की कवरेज आप यहाँ और यहाँ पढ़ सकते हैं | त्रिपुरा क्रॉनिकल ने भी इस खबर को प्रकाशित किया है |

आर्काइव लिंक १ | आर्काइव लिंक २ | आर्काइव लिंक ३

इसके पश्चात हमने तस्वीर में लिखे गए शब्द “फॉक्सी- ३ वीक पहले” को गूगल पर ढूँढा | हमें परिणाम से द फॉक्सी नामक वेबसाइट का लिंक मिला | उपरोक्त पोस्ट मे साझा की गयी खबर हमें न्यूज़ के आर्काइव में मिली | यह खबर १२ मई २०१९ को प्रकाशित की गयी थी |

आर्काइव लिंक

इसके पश्चात हमने इस वेबसाइट के बारे में ढूंढा | इस वेबसाइट में नीचे की तरफ दाहिने कोने में एक खंडन दिया गया है | खंडन में लिखा गया है कि, “द फॉक्सी एक व्यंग्य वेब पोर्टल है, जिसे पहले फॉल्टन्यूज़(Faultnews) के नाम से जाना जाता था। इस वेबसाइट पर प्रकाशित सामग्री कल्पना पर आधारित हैं। पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे द फॉक्सी के लेखों को वास्तविक और सत्य ना समझें। © 2019 TheFauxy संपर्क करें: contact@thefauxy.com

फाक्सी व्यंगात्मक लेख प्रकाशित करता है और डिस्क्लेमर में लिखा है की इन लेखों को सच न माने | हालांकि इस पोस्ट में कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं किया गया है की यह व्यंग है | 

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों के जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | यह पोस्ट सोशल मीडिया पर गलत संदर्भ से वायरल हो रहा है | उपरोक्त तस्वीर २०१७ को सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा बाल तस्करी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते वक्त का है |

Avatar

Title:क्या बंगाल पुलिस ने एक औरत को इसलिए हिरासत में लिया क्योंकि उसने अपने पति ‘श्री राम’ सिन्हा को उनके नाम से पुकारा था?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •