नाटक में अभिनय के अंतर्गत एक लड़की द्वारा दुकानदार के साथ की गयी बद्तमीजी के वीडियो को CCTV फुटेज का बताया जा रहा है।

False Social

इंटरनेट पर अकसर किसी वेब सीरीज़ या नाटक के वीडियो को सच बताकर साझा किया जाता रहा है। फैक्ट क्रेसेंडो ने ऐसे कई वीडियो का अनुसंधान कर उनकी प्रमाणिता अपने पाठकों तक पहुंचाई है। ऐसा ही एक वीडियो इंटरनेट पर काफी वायरल हो रहा है, उस वीडियो में आप एक लड़की को एक दुकानदार के साथ बद्तमीजी करते हुये देख सकते है। इस वीडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि वीडियो में दिख रही लड़की ने दुकानदार के साथ धोखा किया व उससे पैसे मांगे व लड़की होने का गलत फायदा उठा रही थी।

वायरल हो रहे वीडियो के शीर्षक में लिखा है,

“दुकानदार भाईओ सावधान ऐसी लड़कियों से महिला सशक्तिकरण की वीडियो। महिला ने 100 रुपये की चीज़ खरीदी, दुकानदार को 100 रुपये दिए, थोड़ी देर बाद महिला जी बोलने लगे गयी कि उसको 400 रुपये वापिस करो क्योंकि उसने 500 का नोट दिया है, दुकानदार के पास CCTV वीडियो थी , उसने दुसरो को भी वीडियो दिखाया और असलियत दिखाई लड़की की, जब महिला जी को लगा कि वो पकड़ी जा चुकी है तब उन्होंने दुकानदार को पैसे रखने का बोल दिया। सबसे बुरा तो ये है कि लड़की ये धमकी देने लग गयी कि वो चिल्लाने लगेगी और सबको बोलेगी की इन लोगो ने उसके साथ कुछ उल्टा सीधा करने की कोशिश की है, दुकानदार के पास पूरी वीडियो है, जिसके बाद ये भाग गई। जितने भी दुकानदार भाई है उनसे निवेदन ऐसी महिला सशक्तिकरण वाली महिलाओं से बच कर रहे। वीडियो- Menspeak “

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा वीडियो एक नाटक है व यह नाटक लोगों को दुकानदारों के साथ हो रही धोखाधड़ी से सतर्क करने के लिये बनाया गया है।

जाँच की शुरुवात हमने वीडियो के नीचे दिये गये कमेंट को पढ़कर की, जिनके मुताबित यह कथित तौर पर एक स्क्रिपटेड़ वीडियो है। इसके बाद हमने वायरल हो रहे वीडियो के शीर्षक को ध्यान से देखा तो हमने वहाँ लिखा हुआ पाया, “वीडियो- menspeak, इसके बाद इस जानकारी को ध्यान में रखते हुये हमने फेसबुक पर मेस्नस्पीक नामक पेज को खंगाला व वहाँ हमें अनिल कुमार नामक एक उपभोक्ता द्वारा वायरल हो रहा यही वीडियो इस वर्ष 12 जुलाई को शेअर किया हुआ मिला। इस वीडियो के शीर्षक में लिखा है, 

“सभी दुकानदार भाइयों से निवेदन है यह वीडियो देखो और अपनी दुकानों पर हो सके तो सीसी कैमरा अवश्य लगाएं शेयर प्लीज़। देखने के लिए धन्यवाद! कृपया ध्यान रखें कि इस पेज में स्क्रिप्टेड ड्रामा और पैरोडी हैं। ये शॉर्ट फिल्में केवल मनोरंजन के उद्देश्य से हैं!”

फेसबुक | आर्काइव लिंक

उपरोक्त जानकरी को ध्यान में रखते हुये फैक्ट क्रेसेंडो ने अनिल कुमार से संपर्क किया व उनसे इस वीडियो के बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश की, तो उन्होंने हमें बताया कि, वीडियो के साथ वायरल हो रहा दावा गलत व भ्रामक है। यह वीडियो लोगों को जागृत करने के लिये बनाया गया है व वीडियो में दिख रही लड़की एक अभिनेत्री है व वह दुकानदार व वह लड़की नाटक कर रहे है। इस वीडियो को टी.एच.एफ क्रियेटरस हब नामक फेसबुक पेज ने बनाया है। 

तत्पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने टी.एच.एफ क्रियेटरस हब की टीम से ई-मेल के ज़रिये संपर्क किया व उन्होंने जवाब में हमें बताया कि, “वायरल हो रहा दावा गलत है, हम स्वीकार करते हैं कि वीडियो काल्पनिक है और लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से शूट किया गया है कि वे अपनी-अपनी दुकानों में सीसीटीवी कैमरे लगाएँ, ताकि किसी के साथ भी ऐसा दुर्व्यवहार होने पर वे सुरक्षित रहें।

हम आश्वस्त करते हैं कि यह वीडियो लोगों को गुमराह करने का इरादा नहीं रखता है, यह सच्ची घटनाओं से प्रेरित एक स्क्रिप्टेड वीडियो है जो केवल सामाजिक रूप से जागरूक लोगों को आसपास हो रही चीजों के बारे में बताता है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ जो दावा वायरल  हो रहा है वह गलत है। यह वीडियो एक नाटक है व यह नाटक लोगों को दुकानदारों के साथ हो रही धोखाधड़ी से सतर्क करने के लिये बनाया गया है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. सोसाइटी के सेक्यूरिटी गार्ड से झड़प को लेकर बढ़े विवाद को धार्मिक प्रसंग व सांप्रदायिकता से जोड़ गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

२. गांधीनगर रेलवे स्टेशन के वीडियो को अयोध्या में नवनिर्मित रेलवे स्टेशन का बताकर शेयर किया जा रहा है|

३. समकालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को खरी-खोटी सुना रहे पूर्व सैनिक का वीडियो वर्ष २०२० से है।

Avatar

Title:नाटक में अभिनय के अंतर्गत एक लड़की द्वारा दुकानदार के साथ की गयी बद्तमीजी के वीडियो को CCTV फुटेज का बताया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •