मुस्लिम महिला द्वारा गणेश की मूर्तियों को तोड़ने का वीडियो भारत से नहीं है |

False International
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आगामी गणेश चतुर्थी से पूर्व सोशल मंचो पर एक वीडियो जिसमें हम एक बुर्काधारी महिला को गणेश की मूर्तियों को तोड़ते हुये देख सकते है काफी चर्चा में है, इस वीडियो को कई भारतीय सोशल मीडिया यूजर ने साझा करते हुए यह दावा किया है कि यह वीडियो भारत से है जहाँ गणपति पूजा से पहले एक मुसलमान महिला गणेश मूर्तियों को तोड़ रही है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को बारीकी से देखने से की, इस वीडियो में बुर्काधारी महिला को दुकानदार से बात करते हुए सुना जा सकता है, जिस भाषा में बात की जा रही है वह कोई परिचित भारतीय भाषा नहीं जान पड़ती है जिससे इस वीडियो का भारत से नहीं होने का संदेह होता है | तत्पश्चात हमने इस वीडियो को गूगल पर कीवर्ड्स के माध्यम से ढूँढा जिसके परिणाम से १७ अगस्त २०२० को टाइम्स ऑफ़ इंडिया द्वारा प्रकाशित एक खबर मिली जिसमें वायरल वीडियो को प्रसारित करते हुए लिखा गया है कि यह घटना बाहरीन  से है | खबर के अनुसार बाहरीन में एक महिला द्वारा सुपरमार्केट में कई गणेश मूर्तियों को तोड़ने के बाद उसपर बाहरीन सरकार द्वारा कानूनी कार्रवाई की गई है | महिला को सेल्समैन पर चिल्लाते हुए सुना जा सकता है | उसने एक-एक करके मूर्तियों को ले लिया और उन्हें जमीन पर गिरा दिया, यह दावा करते हुए कि इन्हें इस्लामिक देश में नहीं बेचा जाना चाहिए | बाहरीन के आंतरिक मंत्रालय ने जुफ्फैर के एक सुपरमार्केट में घटित इस  वीडियो बारे में जांच की, बाहरीन के आंतरिक मंत्रालय ने एक संप्रदाय और उनके रीतियों को बदनाम करने के लिए महिला के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है |



आर्काइव लिंक 

१६ अगस्त २०२० को लेटेस्टली ने इस वीडियो को साझा करते हुए लिखा है कि यह घटना बाहरीन से है और इस महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है |

इसके पश्चात हमने बाहरीन  के इंटीरियर मिनिस्ट्री के ट्विटर अकाउंट पर गए जहाँ हमें इस सन्दर्भ में उनके द्वारा जारी किया गयी स्पष्टीकरण प्राप्त हुआ, १६ अगस्त २०२० को ट्वीट में लिखा गया है कि 

एक प्रसारित वीडियो क्लिप पर टिप्पणी करते हुए … “राजधानी पुलिस”: 54 वर्षीय एक महिला एक दूकान में कुछ सामग्रियों को जानबूझकर नष्ट करने और एक धर्म से संबंधित वस्तुओं को नष्ट करने के बाद उसपर उचित कानूनी कारवाही की गई है |

इस ट्वीट में उन्होंने बाहरीन पुलिस मीडिया सेण्टर द्वारा प्रकाशित खबर को भी संग्लित किया है | इस खबर के अनुसार 

मिनिस्ट्री ऑफ़ इंटीरियर : कुछ सोशल मीडिया यूजर द्वारा प्रसारित एक वीडियो क्लिप पर टिप्पणी करते हुए, राजधानी के पुलिस महानिदेशक डिपार्टमेंट के डायरेक्टर जनरल ने कहा है कि जिला पुलिस ने एक ५४ वर्षीय महिला को उसकी पहचान के बाद तहकीकात के लिए बुलाया, क्योंकि उन्होंने एक दूकान की कुछ सामग्रियों को जानबूझकर नष्ट कर दिया था | जुफ्फैर क्षेत्र में इस महिला ने एक विशिष्ट धर्म से संबंधित मूर्तियों को तोड़ा | साथ ही उन्होंने बताया कि इस महिला के खिलाफ निर्धारित कानूनी उपाय लिए जा रहे हैं, इस महिला को लोक अभियोजन (पब्लिक प्रॉसिक्यूशन) में ट्रांसफर किया जा रहा है |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो जिसमे एक मुसलमान महिला को गणेश की मूर्तियों को तोड़ते हुए दिखाया गया है भारत से नही है बल्कि यह बाहरीन की घटना है | इस महिला को गिरफ्तार किया गया है |

Avatar

Title:मुस्लिम महिला द्वारा गणेश की मूर्तियों को तोड़ने का वीडियो भारत से नहीं है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •