क्या कर्नाटक के सरकारी स्कूल में शिव शिव शम्भू गाने के ज़रिये बच्चों को पढ़ाया जा रहा है?

Partly False Social

यह वीडियो कर्नाटक के रायचूर का नहीं, उडुपी का है। इसमें दिख रही स्कूल सरकारी नहीं, बल्की प्राइवेट स्कूल है। 

एक कक्षा में एक अध्यापिका के पढ़ाने का वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। उसमें वह बच्चों को गाकर और एक्शन कर पढ़ा रही है। इस वीडियो में वो शिव शिव शम्भू गाना गा रही है और उसके ज़रिये बच्चों को पढ़ा रही है। 

दावा किया जा रहा है कि यह कर्नाटक के रायचूर की एक सरकारी स्कूल का दृश्य है। वहाँ हिंदु वेदों, गीता, रामायण, महाभारत व हिंदु ग्रंथों के हिसाब से बच्चों को पढ़ाया जाता है।

वायरल हो रहे पोस्ट में यूज़र ने लिखा है, “रायचूर कर्नाटक का एक सरकारी स्कूल में प्राइमरी बच्चो को पढ़ाने का तरीका। गुरुकुलो की आवश्यकता भारतीयता व भारतीय संस्कृति के लिए अति आवश्यक है। इससे हटकर Convent School मे क्या पढाया जाता है सभी जानते है। ईश्वर प़दत वैदो गीता रामायण महाभारत व हिन्दु ग़ंथो को कानुन की बैडियो से मुक्त कराने के लिए हिन्दु सरकार को बाध्य करिये।“ (शब्दश:)

फेसबुक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस वीडियो की जाँच हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च कर की। परिणाम में हमें यही वीडियो 23 सितंबर को वंदना राय करकला नामक एक यूट्यूब चैनल पर प्रसारित किया हुआ मिला। 

आर्काइव लिंक

हमने देखा कि इस चैनल के डिसप्ले पिक्चर में उसी महिला की तस्वीर है जो इस वीडियो में दिख रही है। आप नीचे दी गयी तस्वीर में देख सकते है।

इसके बाद हमने उस यूट्यूब चैनल को खंगाला तो पाया कि उसमें सारे वीडियो इसी महिला के है। और सभी कक्षा में बच्चों को पढ़ाते समय लिये गये है। इसको ध्यान में रखकर हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च किया। हमें 15 अगस्त 2020 को प्रकाशित Daijiworld.com की खबर में जानकारी मिली कि इस वीडियो में दिख रही महिला कर्नाटक के उडुपी जिले के करकला में स्थित जायसीस इंग्लिश मीडियम स्कूल नामक एक विद्यालय की टीचर है। इनका नाम वंदना राय है और यह एक डांस क्लास भी चलाती है। 

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कोविड के दौरान ऑनलाइन क्लास में बच्चों के लिये पढ़ाई को आसान और दिलचस्प बनाने के लिये वे गाना गाकर और एक्शन कर बच्चों को पढ़ाती थी। और फिर बच्चों को ऐसा पढ़ना अच्छा लगने लगा इसलिये उसने पढ़ाने के लिये यह तरीका अपना लिया। 

इससे हमें यह तो समझ गया कि यह वीडियो रायचूर का नहीं, बल्की उडुपी के करकला का है। 

आगे बढ़ते हुये हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च किया और ये जानने की कोशिश की कि जायसीस इंग्लिश मीडियम स्कूल सरकार है या प्राइवेट। हमें studyapt.com नामक वेबसाइट पर जानकारी मिली कि यह स्कूल प्राइवेट है और यह अनएडेड संगठन है।

आर्काइव लिंक

फिर हमने उडुपी लोक शिक्षा विभाग के उप निदेशक एच. नगुरा से संपर्क किया। उन्होंने हमें वही बताया कि, “जायसीस इंग्लिश मीडियम स्कूल सरकारी स्कूल नहीं है। वह प्राइवेट मेनेजमेंट द्वारा चलाई जा रही है। इस स्कूल को प्राइवेट अनएडेड संगठन का दर्जा दिया गया है।

इससे हम कह सकते है कि यह वीडियो सरकारी स्कूल का नहीं है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। यह वीडियो कर्नाटक के उडुपी के करकला में एक प्राइवेट स्कूल का है। यह दृश्य सरकारी स्कूल का नहीं है।

Avatar

Title:क्या कर्नाटक के सरकारी स्कूल में शिव शिव शम्भू गाने के ज़रिये बच्चों को पढ़ाया जा रहा है?

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: Partly False

Leave a Reply