बाईक पर पटाखों की वजह से हुए ब्लास्ट के वीडियो को गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

False Social

फैक्ट क्रेसेंडो ने तमिलनाडु के विलुप्पुरम के एस.पी से बात की व उन्होंने बताया कि पटाखों की वजह से ब्लास्ट हुआ था। वह गाड़ी बैटरी वाली नहीं थी।

इन दिनों इंटरनेट पर एक सीसीटीवी फूटेज (CCTV) वायरल हो रही है। उसमें आप एक बाईक पर ब्लास्ट (blast) होते हुए देख सकते है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि जिस गाड़ी में ब्लास्ट हुआ वह बैटरी वाली गाड़ी (electric vehicle) थी। उसमें बैटरी होने की वजह से ब्लास्ट हुआ है।

वायरल हो रहे पोस्ट के साथ यूज़र ने लिखा है, “बीच बाजार में बैटरी वाली स्कूटी फटी जिसका वीडियो सीसीटीवी कैमरे में हुआ कैद।“

फेसबुक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

सबसे पहले हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च किया, परिणाम में हमें यही वीडियो इस वर्ष 5 नवंबर को रिपब्लिक वर्ल्ड द्वारा प्रसारित किया हुआ मिला। वीडियो के साथ दी गयी जानकारी में लिखा है, तमिलनाडु के विलुप्पुरम में पटाखों के विस्फोट के कारण पिता-पुत्र की मौत हो गयी। इस वीडियो में इस घटना की रिपोर्ट दिखायी गयी है।

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च किया व इस हादसे के बारे में और जानकारी हासिल करने की कोशिश की। हमें इस वर्ष 5 नवंबर को एबीपी न्यूज़ द्वारा प्रकाशित एक लेख मिला। उसमें बताया गया है कि तमिलनाडु के विल्लुपुरम में इस वर्ष 4 नवंबर याने की दिवाली के दिन एक पिता और पुत्र की एक हादसे में मृत्यू हो गयी। वे दोनों भी एक बाइक पर सवार थे व उसपर रखे पटाखों से भरे एक बैग में विस्फोट हो गया व उसके कारण उन दोनों की मौत हो गयी। उस ब्लास्ट का प्रभाव इतना ज्यादा था कि उनके शरीर के कई हिस्से इस हादसे की जगह से कई मीटर दूर फैले हुए थे व वहाँ मौजूद अन्य तीन लोग भी गंभीर रुप से घाटल हुए। 

आर्काइव लिंक

उपरोक्त यूट्यूब वीडियो व समाचार लेख में कही भी ऐसा नहीं बताया गया है कि बैटरी वाली स्कूटी होने की वजह से विस्फोट हुआ है।

फिर फैक्ट क्रेसेंडो ने विलुप्पुरम के पुलिस एसपी डॉ. एन. श्रीनाथा से संपर्क किया व उन्होंने हमें बताया कि “यह हादसा पटाखों की वजह से हुआ है। जो पटाखे वे पिता व पुत्र ले जा रहे थे, कुछ ऐसे केमिकल व पदार्थों से बने हुए थे जिससे पटाखों के फूटने पर ज्यादा प्रभाव पड़ता है। इसका बैटरी वाली गाड़ी से कोई संबन्ध नहीं है। वे जिस गाड़ी पर सवार थे वह यामाहा कंपनी की तेल पर चलने वाली गाड़ी थी। इसलिये हम यह दावे के साथ कह सकते है कि वायरल हो रहा दावा गलत है।“ 

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। वीडियो में जो हादसा दिखाया गया है वह पटाखों में हुए ब्लास्ट की वजह से हुआ है। इस घटना की वजह बैटरी वाली गाड़ी थी।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. आतंकियों द्वारा हिंसा के दो अलग-अलग पुराने वीडियो को वर्तमान में अफगानिस्तान में हो रहे अत्याचारों का बता वायरल किया जा रहा है।

२. एटा में किसी दलित बच्ची के साथ दुष्कर्म का प्रयास नहीं हुआ है, वायरल पोस्ट फर्जी व मनगढ़ंत हैं|

३. फैक्ट चेक- उर्फी जावेद लेखक जावेद अख्तर की पोती नहीं है|

Avatar

Title:बाईक पर पटाखों की वजह से हुए ब्लास्ट के वीडियो को गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False

Leave a Reply