ऑस्ट्रेलिया में लॉकडाउन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के वीडियो को प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिका दौरे का बता फर्जी दावे के साथ फैलाया जा रहा है |

False International

सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिका दौरे को लेकर सोशल मंचों पर कई प्रकार की अफवाएं फैलाईं जा रहीं है| इसी संबंध में एक वीडियो जिसमें हम एक बड़ी भीड़ को पुलिस की गाड़ियों के पीछे भागते हुये देख सकते हैं को काफी साझा किया जा रहा है | इस वीडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि अमेरिका में भारत के प्रधानमंत्री का इस तरह से स्वागत हुआ | दावे के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी की गाड़ी के पीछे स्थानीय लोगों ने हमला किया जिसके चलते पुलिस प्रोटेक्शन के सहारे उन्हें वहां से निकाला गया |

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है कि 

“अमेरिकी इतिहास में कभी भी भारतीय प्रधानमंत्री को पब्लिक ने दौड़ा-दौड़ा कर नहीं भगाया था। अमेरिकी फ़ौज मोदी को लेकर उल्टे पॉव भागी | अमेरिका किसान एकता जिंदाबाद | मोदी की अमेरिका में किसानों के आगे भागने की बेज़ती जरूर देखें।”

(शब्दशः)

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक  

अनुसंधान से पता चलता है कि….

फैक्ट क्रेसेंडो ने शोध कर पाया कि वायरल हो रहा वीडियो प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिका दौरे से काफी पहले का है | यह वीडियो अमेरिका से नहीं बल्कि ऑस्ट्रेलिया में हुए कोरोना लॉकडाउन से सम्बंधित प्रदर्शन से है |

जाँच की शुरुआत हमने इस वीडियो को इन्विड वी वेरीफाई टूल की मदद से छोटे छोटे कीफ्रेम्स में काटकर व गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने से किया जिसके परिणाम से हमने यह वीडियो एक ट्विटर यूजर द्वारा २१ सितंबर को अपलोड किया हुआ पाया | इस वीडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि यह वीडियो मेलबोर्न सी.बी.डी  से है | यह गौर करने की बात है भारत के प्रधानमंत्री ने २२ सितंबर को अमेरिका का दौरा किया था | इससे हमें संदेह हुए किया कि शायद यह वीडियो मोदी जी के दौरे से पहले का हो सकता है |

आगे हमने इस लोकेशन को ध्यान में रखते हुए हमने गूगल मैप्स पर मेलबोर्न सी.बी.डी (सेंट्रल बिज़नस डिस्ट्रिक्ट) को ढूँढा  जिसके परिणाम में हमने यह पाया कि यह वीडियो एक्स्हीबिशन स्ट्रीट से है जो मेलबोर्न में है | नीचे आप इस रास्ते का स्ट्रीट व्यू को भी देख सकते है |

हमने पाया कि वीडियो में दिख रही सफ़ेद बिल्डिंग का नाम ओरिजिन एनर्जी है जिसे आप नीचे देख सकते है |

नीचे आप वीडियो में दिख रहे दृश्य और गूगल माप पर एक्स्हीबिशन स्ट्रीट की तस्वीर का तुलनात्मक विश्लेषण देख सकतें हैं |

इसके पश्चात हमने कीवर्ड के माध्यम से यह ढूँढा कि वीडियो में दिख रहा घटना किस वजह स हुई थी, परिणाम में हमें कई न्यूज़ रिपोर्ट मिले जो यह बताते हैं कि मेलबोर्न में पिछले कुछ दिनों से लॉकडाउन के खिलाफ स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन कर रहे है, वायरल वीडियो उसी से सम्बंधित है |

न्यूज़ रिपोर्ट के अनुसार ऑस्ट्रेलिया में कोरोना के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है जिसके चलते मृत्यु की संख्या में भी काफी इजाफा हो रहा है | इस वजह से ऑस्ट्रेलिया के कई शहरों में सक्त लॉकडाउन लगा दिया गया है और सिर्फ कोरोना वैक्सीन लगवा चुके लोगों को भी काम पर जाने की अनुमति दी गयी है | सरकार के इस फैसले को लेकर ऑस्ट्रेलिया के कई शहरों में प्रदर्शन किये जा रहें है  |

निष्कर्ष:  

तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त वीडियो के माध्यम से किये गये दावों को गलत पाया है |  सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो अमेरिका से नहीं है बल्कि ऑस्ट्रेलिया से है | इस वीडियो का प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिकी  दौरे से कोई संबंध नहीं है | यह वीडियो ऑस्ट्रेलिया में लॉकडाउन के खिलाफ हुए वीडियो प्रदर्शन से है |

Avatar

Title:ऑस्ट्रेलिया में लॉकडाउन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के वीडियो को प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिका दौरे का बता फर्जी दावे के साथ फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply