नाक में नींबू का रस डालने से COVID19 (कोरोना वायरस) ठीक नहीं होता है।

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण व संक्रमित लोगों की मृत्यू के चलते सोशल मंचों पर कई वीडियो व मैसेज साझा किये जा रहे है जो कथित तौर पर कोरोना से ठीक होने के उपाय है। फैक्ट क्रेसेंडो ने पूर्व में भी ऐसे कई वीडियो व मैसेज का अनुसंधान कर उनकी प्रमाणिता अपने पाठकों तक पहुंचाई है। इन दिनों सोशल मंचों पर एक संत जैसे दिखने वाले एक व्यक्ति का वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें आप उन्हें कहते हुए सुन सकते है कि दो से तीन बूंद नींबू का रस नाक में डालने से पांच सेकंड में एक कोरोना संक्रमित शख्स बिलकुल ठीक हो जाता है।

वायरल हो रहे इस 8 मिनट के वीडियो के शीर्षक में लिखा है,

 “करोना का इलाज दो बूंद नींबू का रस नाक में डालने से ठीक हो जाएगा। खबर खास TV – करोना का इलाज दो बूंद नींबू का रस नाक में डालने से ठीक हो जाएगा वीडियो को ज्यादा ज्यादा शेयर करें ताकि औरों को भी फायदा मिल सके।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा दावा सरासर गलत है। नींबू का रस नाक में डालने से पांच सेकंड में कोरोना संक्रमित शख्स ठीक नहीं होगा, हम अपने पाठकों से ये विनती करतें हैं कि इस प्रकार के भ्रामक उपचारों पर विश्वास न करें ।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रहे दावे को गूगल पर कीवर्ड सर्च कर किया, परिणाम में हमें ऐसा कोई लेख नहीं मिला जो इस बात की पुष्टि करता हो कि दो से तीन बूंद नींबू का रस नाक में डालने से पांच सेकंड में एक कोरोना संक्रमित शख्स बिलकुल ठीक हो जाता है।

इसके बाद हमने गूगल पर इससे सम्बंधित और शोध किया तो हमें अमेरिका के राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी इंजीनियरिंग चिकित्सा द्वारा प्रकाशित किये गये एक लेख में लिखा हुआ मिला कि,

नींबू के रस की तरह अम्लीय पेय का सेवन करने से कोरोनावायरस संक्रमण पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। वायरल संक्रमण आपके शरीर में फैलता है, वायरस आपकी कोशिकाओं में प्रवेश करते हैं और खुद की प्रतियां बनाते हैं और फिर वे प्रतियां नई कोशिकाओं में प्रवेश करती हैं और प्रक्रिया को दोहराती हैं। नींबू का रस आपके शरीर में वायरस को नष्ट नहीं करेगा और ना ही नकल की प्रक्रिया को रोक देगा।

वैबसाइट पर यह भी लिखा है कि, “नींबू में विटामिन सी होता है, एक आवश्यक पोषक तत्व जो आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। हालांकि, कोई सबूत नहीं है कि विटामिन सी युक्त नींबू या आहार की खुराक आपको संक्रमण से बचाने के लिए आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को “बढ़ावा” या “सुपरचार्ज” कर सकती है।

आर्काइव लिंक

तदनंतर अधिक जाँच करने पर हमें डब्लू.एच.ओ के वैबसाइट पर ये लिखा हुआ मिला कि, “कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि नींबू कोरोनावायरस को रोकता है। हालांकि, डब्लू.एच.ओ, स्वस्थ आहार के हिस्से के रूप में पर्याप्त फल और सब्जियों का सेवन करने की सलाह देता है।

आर्काइव लिंक

उपरोक्त दोनों वैबसाइटों द्वारा दी गयी जानकारी के मुताबिक कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिए नींबू की कोई भूमिका नहीं होती है।

इसके पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने वायरल हो रहे दावे की पुष्टि करने हेतु व अधिक जानकारी पाने के लिये नई दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में ओटोलरीयनोलॉजी और न्यूरोलॉजी में सीनियर कंसल्टेंट और प्रोफेसर डॉ. अमीत किशोर से संपर्क किया तो उन्होंने हमें बताया कि,

 “वायरल हो रहा दावा सरासर गलत है। मैं इस बात की पुष्टि नहीं करता कि नाक में दो से तीन बूंद नींबू का रस डालने से कोरोना संक्रमित व्यक्ति ठीक हो सकता है। सबसे पहले तो मैं यह सलाह नहीं दूंगा की नाक में किसी भी कारण के लिये नींबू का रस डाला जाये, इससे आपको नाक में जलन होगी क्योंकि नींबू में एसिड होता है। हाँ, मैं इस बात से सहमत हूँ कि नींबू के रस में विटामिन सी होता है जो सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। विटामिन सी से इम्यूनिटी बढ़ती है व उससे हमारे शरीर को किसी भी तरह की बिमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है। परंतु वायरल हो रहा दावा गलत है व इससे कोरोना वायरस का अंत नहीं हो सकता।“

इसके पश्चात अधिक जाँच करने पर हमें पी.आई.बी फैक्ट चेक द्वारा किया गया एक ट्वीट मिला जिसमें वे वायरल हो रहे दावे को गलत बता रहे है।

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि उपरोक्त दावा गलत है। दो से तीन बूंद नींबू का रस नाक में डालने से पांच सेकंड में कोरोना संक्रमित शख्स ठीक नहीं होगा।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. गोबर से बने दो उपलों के साथ १० ग्राम घी को जलाने से ऑक्सीन नहीं बनती है, ये दावे सरासर गलत व भ्रामक हैं।

२. केंद्र सरकार द्वारा अमेरिका से प्राप्त हुई मदद को वापस भेजने की ख़बरें फर्जी व भ्रामक हैं।

३. कोरोना की पुष्टि/ अपुष्टि मात्र सांस रोकने के परीक्षण से नहीं होती है|

Avatar

Title:नाक में नींबू का रस डालने से COVID19 (कोरोना वायरस) ठीक नहीं होता है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •