रवि किशन ने ‘दलितों के पसीने को बदबूदार’ नहीं कहा; पुराना वीडियो गलत जानकारी के साथ वायरल

Elections False Political

इस वीडियो में सांसद रवि किशन दलितों के पसीने की बात नहीं कर रहे।

उत्तर प्रदेश में कुछ ही दिनों में विधानसभा चुनाव शुरू होंगे। चुनाव के इस गरम महौल में भाजपा सांसद रवि किशन सुर्खियों में आ रहे है। हाल ही में उन्होंने एक दलित के घर खाना खाया। 

इसके बाद उनका एक कथित वीडियो वायरल करके दावा किया जा रहा है कि उन्होंने दलितों का अपमना करते हुए बोला कि ‘दलित का पसीना कितना बदबूदार है’

इस वायरल वीडियो के साथ यूज़र्स लिख रहै है कि “भाजपा सांसद रवि किशन ने बताया कि दलित का पसीना कितना बदबूदार है। भोजपुरी के स्टार और भाजपा के सांसद रवि किशन का दलित प्रेम का पाखंड और सामने आ चुका है, एक सभा से लौटे भाजपा सांसद रवि किशन का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें रवि किशन ने बताया कि कितना महक रहा था दलित का पसीना, वीडियो को देखिए और इस बारे में अपनी राय हमारे कमेंट बॉक्स में जरूर दीजिए।“

(शब्दश:)

फेसबुक 

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

वायरल वीडियो में भोजपुरी भाषा में बातचीत हो रहीं है। हिंदी में उसका अनुवाद इस प्रकार है –

एक शख्स: ये जनता कहा गयी सारी?

रवि किशन: तुम लोग इतने सब लोग भर दिये है गाड़ी में।

दूसरा शख्स: हम इसी में बैठे हुये है। आप ही के पीछे दौड़ते हुये आये और इसमें बैठ गये

तीसरी शख्स: बाकी लोग बाद में आयेंगे। हम दो तीन लोग इसी में है पहले से ही।

रवि किशन: तुम लोगों का पसीना ऐसा महक रहा है ना, क्या बोले

दूसरा शख्स: अब क्या बताये रवि भैय्या, कन्हैय्या भैय्या के लिये दिन रात दौड़ रहे है

रवि किशन: तो क्या मुझे ही सब सुंग्वाओगे (बदबू)..बंद कर ये वीडियो

इस संवाद में कहीं पर भी दलित शब्द का इस्तेमाल नहीं किया हुआ।

यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च करने पर पता चला कि यह वीडियो दो सालों से इंटरनेट पर मौजूद है। 17 मई 2020 को लाइव हिंदुस्तान के चैनल ने इस वीडियो पर रवि किशनका खुलासा दिखाया है।

इस वीडियो में आप रवि किशन ने दिया स्पष्टिकरण देख सकते है। उन्होंने इसमें बताया कि यह वीडियो 2017 में उत्तर प्रदेश के चुनाव प्रचार के समय का है। तब वे सांसद नहीं थे। और गाड़ी में जो लोग बैठे है वे उनके कार्यकर्ता थे और वे उनके साथ मज़ाक मस्ती कर रहे थे।

आर्काइव लिंक

जाँच के दौरान हमें रवि किशन का स्पष्टिकरण वाला वीडियो उनके पूर्व सोशल मीडिया समन्वयक उमेश जोशी के ट्वीटर हैंडल पर 17 मई 2020 को प्रसारित किया हुआ मिला।

आर्काइव लिंक

फिर हमने सांसद रवि किशन के पर्सनल सेक्रेटरी गुड्डु पांडे से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया कि “इस वीडियो को देखने पर आपको समझ आएगा की इसमें वे दलितों के बारे में बात नहीं कर रहे है। उन्होंने उनकी बातचीत में दलितों का ज़िक्र भी नहीं किया है। ये वीडियो पुराना है और एक सभा से लौटते हुये वे अपने करीबी लोगों से मज़ाक मस्ती कर रहे है।“

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। इस वीडियो में सांसद रवि किशन और उनके साथी दलितों के बारे में बात नहीं कर रहे है।

Avatar

Title:रवि किशन ने ‘दलितों के पसीने को बदबूदार’ नहीं कहा; पुराना वीडियो गलत जानकारी के साथ वायरल

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False