उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का भा.ज.पा से बगावत कर कांग्रेस में शामिल होने की ख़बर फर्जी है |

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को अपना कार्यभार संभालने के बमुश्किल चार महीने बाद ही संवैधानिक मजबूरी के चलते राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपना पड़ा, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के खिलाफ उग्र असंतोष के चलते पार्टी द्वारा  तीरथ सिंह रावत उत्तराखंड को मार्च २०२० में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री की कमान सौंपी गई थी  | 

इसी बीच सोशल मीडिया पर एक पोस्ट काफी तेजी से वायरल हो रही है जिसमें लिखा गया है कि– 42 विधायकों के साथ तीरथ सिंह रावत ने ली कांग्रेस की सदस्यता भाजपा में मचा कोहराम | इसके साथ ही पोस्ट में लगी तस्वीर में लिखा है कि इस्तीफा देते ही तीरथ रावत ने पलटी बाजी

इस पोस्ट के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत अपने पद से इस्तीफा देते ही भाजपा को छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए है |

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “42 विधायकों के साथ तीरथ सिंह रावत ने ली कांग्रेस की सदस्यता भाजपा में मचा कोहराम |”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि….

फैक्ट क्रेसेंडो को पड़ताल में पता चला है कि पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत बीजेपी में हैं और वे कांग्रेस में शामिल नहीं हुए हैं |

जाँच की शुरुवात हमने सबसे पहले हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च कर मीडिया रिपोर्ट्स को खंगालकर की ताकि हमें यह पता चले कि ऐसी कोई खबर उपलब्ध है या नहीं | क्योंकि अगर इस तरह की कोई खबर होती तो मीडिया की सुर्खियां जरूर बनती | हमने गूगल में तीरथ सिंह रावत को लेकर सर्च किया | हमें वहां पर ऐसी कोई भी रिपोर्ट नहीं मिली जो कि इस दावे की पुष्टि करती हो |

इसके बाद हमने तीरथ सिंह रावत के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट को खंगाला ताकि हमें उनके द्वारा किये गये ऐसी कोई घोषणा प्राप्त कर सके, हमने पाया कि उनके अकाउंट के बायो में लिखा था कि वह पूर्व मुख्यमंत्री हैं और पौड़ी गढ़वाल से सांसद हैं। हमें ऐसी कोई ट्वीट नहीं मिला जो कि उनके कांग्रेस में शामिल होने की खबर का हो, हमने पाया कि उनके ट्विटर का कवर फोटो भी प्रधानमंत्री मोदी के साथ है जिसमें लिखा गया है कि “हमारा संकल्प, सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास |” इसके साथ ही हमने पाया कि उन्होंने पी.एम मोदी के हाल के ट्वीट्स को भी रीट्वीट किया है | इससे साफ है कि वे भाजपा के ही सदस्य हैं |

तत्पश्चात हमने वायरल दावे के साथ साझा किये हुये यूट्यूब लिंक को खोला, यह वीडियो ३ जुलाई २०२१ को अपलोड किया गया है | ये वीडियो ९ मिनट ४८ सेकंड का है | इस वीडियो को अब तक १ लाख से भी ज्यादा लोग देख चुके हैं | इस वीडियो को नेशन टीवी नामक एक यूट्यूब चैनल ने अपलोड किया है | इस वीडियो को ध्यान से देखते व सुनते हुए हमने पाया कि वीडियो में तमाम कई खबरों का जिक्र किया गया है | इस वीडियो में कहा गया है कि राजनीतिक विश्लेषकों ने अनुमान लगाया है कि तीरथ सिंह रावत बीजेपी से बगावत करने वाले है | इस वीडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “42 विधायकों के साथ तीरथ सिंह रावत ने ली कांग्रेस की सदस्यता भाजपा में मच गया हड़कंप |” इस वीडियो में दी गई जानकारी का कोई ठोस आधार नहीं दिया गया है और ना ही कोई सूत्र का नाम उल्लेख किया गया है | इस वीडियो को सुनकर हमें समझ आता है कि वीडियो का शीर्षक केवल एक अफवाह और यह लोगों के बीच सनसनी फ़ैलाने के उद्देश्य से लिखा गया है | 

आगे फैक्ट क्रेसेंडो ने उत्तराखंड के भाजपा राज्य प्रेसिडेंट मदन कौशिक के ऑफिस में संपर्क किया जिन्होंने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही खबर को खारिज करते हुए उसे फर्जी बताया, उन्होंने हमें बताया कि तीरथ सिंह रावत भाजपा पार्टी से ही जुड़े हुए है | 

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत बीजेपी में हैं और वे अब भी भाजपा की सक्रिय राजनीति में कार्यरत हैं |

हमारे द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:-

1. सिलीगुड़ी में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उनके भाषण में कहे “चोरी सम्बंधित” वक्तव्य को सन्दर्भ से बाहर फैलाया जा रहा है |

2. श्रीनगर में डल झील के किनारे अतिक्रमण हटाने के वीडियो को रोहिंग्याओं मुस्लिमों की अवैध बस्तियों को ध्वस्त करने का बता फैलाया जा रहा है| 

3. मोदी को दोबारा वोट न देने के सन्देश वाली पेट्रोल पम्प की रसीद फर्जी है |

Avatar

Title:उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का भा.ज.पा से बगावत कर कांग्रेस में शामिल होने की ख़बर फर्जी है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply