महिलाओं के साथ अर्धनग्न अवस्था में पकड़ा गया शख्स ‘हिंदू संत’ नहीं, साधु श्रीलंका का है….

Misleading Social

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक कमरे के अंदर एक अर्धनग्न व्यक्ति की पिटाई हो रही है। उस व्यक्ति के साथ दो महिलाएं भी हैं। पिटाई करने वाले लोग महिलाओं पर भी थप्पड़ चला रहे हैं। इसे शेयर करके दावा किया जा रहा कि वीडियो में जिस व्यक्ति की पिटाई हो रही है वो एक ‘हिंदू साधु’ है। साधु का नाम ‘शंकराचार्य परिषद के अध्यक्ष स्वामी आनंद स्वरूप महाराज’ है।

वायरल वीडियो के साथ यूजर ने लिखा है- हिंदू साधु महिलाओं के साथ रंगे हाथ पकड़े गए – मुसलमानों और ईसाइयों को भारत से चले जाने का उपदेश देने वाले शंकराचार्य परिषद के अध्यक्ष स्वामी आनंद स्वरूप महाराज श्रीलंका में वेश्याओं के साथ पकड़े गए।.

फेसबुकआर्काइव

अनुसंधान से पता चलता है कि…

पड़ताल की शुरुआत में हमने वीडियो के कुछ तस्वीरों का रिवर्स इमेज सर्च किया। वायरल वीडियो की खबर हमें एशियन मिरर में दिखाई दी। जिसे 8 जुलाई 2013 को प्रकाशित किया गया है। प्रकाशित खबर में वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट का इस्तमाल किया गया है। 

खबर के अनुसार  श्रीलंका के नवागामुवा में एक साधु और दो महिलाओं से जुड़ा सेक्स स्कैंडल का ये मामला है। 

नवागामुवा पुलिस ने एक घर के अंदर पल्लेगामा सुमना थेरो और दो महिलाओं पर हमला करने के आरोप में चार लोगों को पकड़ा था । थेरो ने आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी और कहा था कि वो जबरदस्ती घर में घुस आए और संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया।

वहीं आरोपी ने आरोप लगाया कि थेरो दो महिलाओं के साथ अनुचित व्यवहार कर रहा था। पूरी घटना को फिल्माया गया और बाद में इंटरनेट पर प्रसारित किया गया। 

न्यूज़वायर और श्रीलंका मिरर जैसे कई श्रीलंकाई समाचार आउटलेट्स ने इस घटना की खबर प्रकाशित की है। कई सिंहली भाषा समाचार वेबसाइटों ने भी इस बारे में रिपोर्ट कीं है।

श्रीलंकाई मीडिया ‘Lanka Sara’ की 8 अगस्त 2023 को छपी रिपोर्ट में बताया गया है कि पल्लेगामा सुमना थेरो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। दो महिलाओं के साथ ‘आपत्तिजनक’ अवस्था में उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

 इसके बाद कई स्थानीय लोगों ने उनके खिलाफ इलाके की कई महिलाओं के साथ गैर जिम्मेदाराना बर्ताव करने का आरोप लगाया था। 

‘Srilanka Mirror’ में 9 अगस्त 2023 को छपी रिपोर्ट की मानें तो पल्लेगामा को अगले दिन जमानत भी मिल गई। उन्हें कडुवेला की अदालत ने 1 लाख के मुचलके पर रिहाई दे दी। 

निष्कर्ष- तथ्य-जांच के बाद हमने पाया कि, श्रीलंका के साधु की आपत्तिजनक पुराने वीडियो को हिंदू धर्मगुरु से जोड़कर गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।  

Avatar

Title:महिलाओं के साथ अर्धनग्न अवस्था में पकड़ा गया शख्स ‘हिंदू संत’ नहीं, साधु श्रीलंका का है….

Fact Check By: Sarita Samal 

Result: Misleading

Leave a Reply