गुजरात के गोधरा शहर में बाइक ओवर टेकिंग को लेकर हुए झगड़े को सांप्रदायिक रूप देकर फैलाया जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२ अगस्त २०१९ को ‘इंडियन मुस्लिम एकता’ नामक एक फेसबुक यूजर ने कुछ तस्वीरों पोस्ट की थी, जिनके शीर्षक में लिखा गया है कि ““गुजरात के गोधरा मे आज रात 11 बजे मदरसे के 3 हाफिज बच्चे समीर, सोहेल और सलमान जिटेली चाय पीने निकले तब हिंदूवादी आतंकीयों ने उन्हे जय श्री राम बोलने को मजबूर किया, इंकार करने पर बुरी तरह पीटा | गोधरा पुलिस FIR दर्ज करने की बजाए कह रही है कि रात मे हिन्दू एरिया मे चाय पीने क्यों गए ?” | तस्वीरों में हम घायल युवकों को देख सकते है | इस पोस्ट में यह दावा किया जा रहा है कि गुजरात के गोधरा शहर में ३ मुस्लिम लड़कों को हिन्दुओं ने जय श्री राम नहीं बोलने पर बुरी तरह से पीटा | इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर काफ़ी तेजी से साझा किया जा रहा है | फैक्ट चेक किये जाने तक यह पोस्ट ६०० से ज्यादा प्रतिक्रियाएं प्राप्त कर चूका था |

फेसबुक पोस्ट  | आर्काइव लिंक 

संशोधन से पता चलता है कि,

उपरोक्त प्रकरण का घटनाक्रम इस प्रकार से है…

२ अगस्त २०१९:

हमने सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को २ अगस्त २०१९ को सुबह १०:३० बजे वायरल होते हुए पाया, इस पोस्ट में यह दावा किया गया था कि यह घटना १ अगस्त देर रात की है और इन युवकों को कुछ अन्य समुदाय के लोगों द्वारा जय श्री राम का नारा नही लगाने के लिए बुरी तरह पीटा गया | इस मामले के दावों की सच्चाई के बारें में जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने पंचमहल की एसपी लीना पाटिल से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि 

“यह ख़बर सबसे पहले शाहनवाज़ नामक यूज़र ने ट्वीट के द्वारा शेयर करी थी, एक आपसी झगड़े को ग़लत रूप से सांप्रदायिक रंग देकर लोगों में अशांति व भ्रम फैलाने के उद्देश्य से ये ट्वीट किया गया था | ट्वीट में जो लिखा गया है वो सरासर ग़लत है | इस प्रकरण में FIR दाखिल हो गयी है और हमने तीन लोगों को राउंड अप भी किया है | हमला करने वाले कोई अनजान लोग नहीं है, बल्कि आपस में जाने-पहचाने लोग हैं | उनका आपस में झगड़ा चल रहा था और उसी झगड़े में यह युवक घायल हुए है | ट्वीट में जो कहा गया है वो गलत है | हम इस मामले की गंभीरता से जांच पड़ताल कर रहे है और आज शाम तक हम अपनी जांच के नतीजे पुरे तथ्यों के साथ आप लोगों के सामने रख देंगे” |  

इसके पश्चात करीब शाम के ६ बजे गोधरा शहर के डीवाईएसपी आर.आई देसाई ने एक संक्षिप्त प्रेस कांफेरंस कर यह बताया कि “यह घटना मूल तौर पर बाइक ओवर टेक करने को लेकर बच्चों के बीच में हुए आपसी झगड़े की है और इस घटना की जांच के पश्चात हमने इस प्रकरण में किसी भी प्रकार का कोई सांप्रदायिक जुड़ाव नही पाया है” |

इस प्रेस कांफेरंस के कुछ समय पश्चात सायंकाल लगभग ६:३० बजे गोधरा पुलिस द्वारा एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई जिसमे लिखा गया है कि 

“दिनांक: १ अगस्त २०१९ को रात ११ बजे 

क्षेत्र: बाबा की मढ़ी के पास हिंदू और मुस्लिम युवकों के बीच विवाद हुआ था। जिसके आधार पर, सिद्दीक अब्दुल सलाम नाम एक व्यक्ति ने गोधरा ए डिवीजन पुलिस स्टेशन में ६ अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी, शिकायतकर्ता ने दावा किया कि बाइक सवारों ने आकर उसे जय श्री राम का जाप करने के लिए मजबूर किया, जब शिकायतकर्ता ने इनकार किया, तो अज्ञात व्यक्तियों ने उसके साथ मारपीट की | पुलिस द्वारा मामले की जांच करने पर, पूरी घटना को बाइक ओवरटेक करने के कारण हुए झगड़े का पाया गया है और सभी आरोपियों की पहचान कर ली गई है |

उपरोक्त शिकायत के आधार पर, गोधरा ए डिवीजन पुलिस स्टेशन ने आईपीसी की धारा १४३, १४७, ३२३, ३२४, ५०४, ४०६ (२) के तहत मामला दर्ज किया गया है | यह मामला जीपी एक्ट १४५ रजिस्ट्रेशन नंबर- ७६/१९ के तहत भी दर्ज किया गया है |

आर. आई देसाई,

डीवाईएसपी, गोधरा” |

३ अगस्त २०१९:

गोधरा पुलिस द्वारा ३ अगस्त २०१९ की सुबह एक सीसीटीवी फुटेज जारी की गई थी, यह फुटेज घटनास्थल पर हुए झगड़े की है जो की १ अगस्त २०१९ की देर रात ११:१४ पर हुआ था |

इस विडियो में हम स्पष्ट रूप से यह देख सकते है कि बाइक का पीछा करते हुए कुछ युवकों ने इनकी मोटर साइकिल को रोक तुरंत इन्हें पीटना शुरू किया | विडियो देख ऐसा प्रतीत होता है कि कुछ युवक इनका पीछा करते हुए आ रहे थे, इनके पास पहुँचते ही, पहले से हुई किसी घटना के कारण उन युवकों ने पीटना शुरू किया |

इसके पश्चात हमने पंचमहल की एसपी लीना पाटिल को फिर से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि “इस घटना को सोशल मीडिया में गलत तरीके से फैलाया जा रहा है साथ ही कहा जा रहा है कि गोधरा पुलिस ने इस मामले का कोई फ़रियाद नही दर्ज किया परंतु यह बात गलत है क्योंकि २ अगस्त २०१९ की रात को ही इस घटना की फ़रियाद पुलिस ने दर्ज कर ली थी, साथ ही गोधरा पुलिस ने एक ही दिन में ६ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है जिनमे से २ नाबालिग है | उन्होंने यह भी स्पष्ट किया  है कि इस मामले के साथ “जय श्री राम” के नारे लगाने की बात गलत है क्योंकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था, यह घटना मूल तौर पर बाइक ओवरटेक करने के कारण हुई है जैसा की सीसीटीवी फुटेज में भी देखा जा सकता है, ये मोब लिंचिंग की घटना नहीं हो सकती है क्योंकि मोब लिंचिंग की घटना में लोगों का समूह पीड़ित को मारते हुए पीड़ित की जान ले लेते है, परंतु गोदरा में ६ युवकों ने ३ युवकों पर हमला किया था जिसका कारण हमारी पड़ताल में उनका आपसी मतभेद निकलके आया था” |

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट में दावें को गलत पाया है, गोधरा में घटी घटना युवकों के आपसी मतभेद के कारण हुए झगड़े की है | पुलिस की जांच के पश्चात की घटना का किसी भी प्रकार से कोई सांप्रदायिक संबंध नही है |

Avatar

Title:गुजरात के गोधरा शहर में बाइक ओवर टेकिंग को लेकर हुए झगड़े को सांप्रदायिक रूप देकर फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Factcrescendo Team 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply