क्या मुस्लिम कांग्रेस नेता असम में हिंदुओं को मारने की साजिश रच रहे थे?

False International Political
  • 12
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    12
    Shares

१५ मार्च २०१९ को जागो भारत जागो नामक एक फेसबुक पेज पर एक तस्वीर साझा की गई | पोस्ट में तीन तस्वीरें है व शीर्षक में लिखा गया है कि असम के कांग्रेस नेता अमजात अली, सेब की पेटी में हथियार और गोलियां के साथ मस्जिद से हिरासत में | हिन्दुओं को मारने का कर रहा था प्लान | पुलिस ने दबोचा | इस तस्वीर को फैक्ट चेक किये जाने तक लगभग २५० प्रतिक्रियां मिली |

आर्काइव लिंक

संशोधन की शुरुवात हमने ऊपर की पहली तस्वीर से की | तस्वीर में एक सेब की पेटी व कुछ हथियार और गोलियां देखी जा सकती है | इस तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें नीचे दिए गए परिणाम प्राप्त हुए |

सर्च रिजल्ट की पहली लिंक पर क्लिक करते ही वह हमें द ग्रेटर कश्मीर नामक एक वेबसाइट पर लेके जाती है | वेबसाइट द्वारा प्रकाशित खबर से हमे पता चलता है कि यह  तस्वीर २९ अक्टूबर २०१८ को कश्मीर में एक पुलिस मुठभेड़ के बारे में है जहां कश्मीर में नारबल क्षेत्र से तीन आतंकवादी गिरफ्तार किए गए थे | उपरोक्त साझा की गई तस्वीर का  इस खबर में इस्तेमाल किया गया देखा जा सकता है |

द ग्रेटर कश्मीर | आर्काइव लिंक  

२९ अक्टूबर २०१८ को इसी तस्वीर के साथ कई प्रतिशित मीडिया संगठनों ने इस खबर को प्रकाशित किया था |

Daily Excelsior.com | आर्काइव लिंक | फ्री प्रेस कश्मीर | आर्काइव लिंक | कश्मीर इमेजेस | आर्काइव लिंक | kashmirobserver.net | आर्काइव लिंक

इस खबर को २९ अक्टूबर २०१८ को प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया ने भी प्रकाशित किया था |

PTI | आर्काइव लिंक

अब हम दूसरी व तीसरी तस्वीर पर आते है जिसमे हम एक आदमी व कुछ पुलिस कर्मियों को देख सकते है | दूसरी ओर हम एक युवक को देख सकते है | दूसरी तस्वीर में दिखाए गए पुलिसकर्मियोंने नेवी ब्लू रंग की वर्दी पहनी हुई है | भारत में पुलिस आमतौर पर खाकी यूनिफॉर्म पहनती है | इस तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर यानडेक्स इमेज सर्च करने पर हमे पता चलता है कि ये पुलिसकर्मि असल में बांग्लादेश के है | उन्होंने उपरोक्त दिखाए गए आदमी को एक छोटी बच्ची से छेड़छाड़ करने के आरोप में गिरफ्तार किया था | हमने इस तस्वीर का उपयोग मोम्ताज़ अहमद ताज नामक एक गूगल प्लस यूजर के पोस्ट में व बंगला सोंगबाद नामक एक ब्लॉग में भी होते हुए पाया |

गूगल प्लस | आर्काइव लिंक

ब्लॉग | आर्काइव लिंक

बांग्लादेश के स्थानीय समाचारों से पता चलता है कि दोनों तस्वीरों में यह आदमी वास्तव में २८ वर्षीय मुबारक हुसैन है | वह एक मदरसा शिक्षक था, जो ५ मई २०१८ में गिरफ्तार हुआ । मुबारक को एक १३ वर्षीय लड़की का यौन उत्पीड़न करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जिसने बाद में आत्महत्या कर ली थी । इस समाचार को बंगलादेश में ५ मई २०१८ को स्थानीय समाचार पत्रों द्वारा प्रकाशित किया गया था |

daily jonomot | आर्काइव लिंक

द डेली स्टार नामक एक अंग्रेजी समाचार पत्र द्वारा भी इस खबर को प्रकाशित किया गया था।

द डेली स्टार | आर्काइव लिंक

मुबारक हुसैन की तस्वीर यानडेक्स इमेजेस पर सर्च करने पर हमे तरुणन्यूज़२४.कॉम नामक एक बंगाली वेबसाइट में यही खबर मिली |

आर्काइव लिंक

मुबारक हुसैन की उपरोक्त तस्वीर को टिन ऑय इमेजेस पर सर्च करने पर परिणाम में हमे मीडिया वेबसाइटस की लिंक मिली | दोनों खबरों में भी इस युवक का नाम मुबारक हुसैन लिखा गया है व यौन उत्पीड़न करने का उसपर आरोप है |

५ मई २०१८ को प्रकाशित की गयी खबर कालेरकोंठो.कॉम | आर्काइव लिंक

बीडी२४लाइव.कॉम | आर्काइव लिंक

इसके बाद हमने यह जानने की कोशिश कि, क्या अमजात अली नाम का कोई नेता कांग्रेस में है? गूगल सर्च पर अमजात अली ढूंढने से हमे विकिपीडिया द्वारा पता चला की इस नाम की एक व्यक्ति एक फिजी भारतीय राजनीतिज्ञ है | लेख से हमे इस बात की कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिली जिससे यह दावे कि पुष्टि की जा सके कि असम कांग्रेस में इस नाम का कोई नेता है | हमने असम प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अमजात अली नामक नेता का नाम ढूंढने  की कोशिश की, जिसका हमे कोई परिणाम नहीं मिला |

हमने असम राज्य कांग्रेस समिति के प्रतिनिधि से फ़ोन पर सम्पर्क किया व हमें पता चला कि अमजात अली नामक कोई क़द्दावर नेता  असम कोंग्रेस में नहीं है और ना ही कोई ऐसा प्रकरण असम कांग्रेस के संज्ञान में आया है, उन्होंने कहा कि ये आरोप संगीन है व ऐसे मामलों में पुलिस रिपोर्ट होती है व मीडिया में भी ऐसे मामले तुरंत आ जाते हैं, पर ऐसा भी कुछ नहीं हुआ अतः ये मामला ग़लत है।

निष्कर्ष : तथ्यों की जांच करने पर हमने उपरोक्त साझा किये गए पोस्ट को गलत पाया है | वायरल  तस्वीरें गलत रूप से साझा की जा रही है क्योंकि :
१) पहली तस्वीर कश्मीर २९ अक्टूबर २०१८ को में ३ आतंकवादी पकडे जाने की है |
२) दूसरी तस्वीर बंगलादेश पुलिस की है, जिसने यौन उत्पीड़न के प्रयास के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है |
३) तीसरी तस्वीर मुबारक हुसैन की है, जो एक १३ वर्षीय लड़की के यौन उत्पीड़न करने के आरोप में बंग्लादेश में गिरफ्तार किया गया था |

Avatar

Title:क्या मुस्लिम कांग्रेस नेता असम में हिंदुओं को मारने की साजिश रच रहे थे?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  • 12
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    12
    Shares