राजस्थान के जुरहारा में आपसी विवाद को लेकर हुई झड़प को मुस्लिम समुदाई द्वारा की गई मारपीट का बता वायरल किया जा रहा है।

Communal False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मंचों पर अकसर सांप्रदायिकता से जुड़े ऐसे दावे साझा किये जाते है जिनपर लोगों को भरोसा करना काफी आसान होता है, परंतु वे दावे गलत व भ्रामक होते है। फैक्ट क्रेसेंडो ने ऐसे कई दावों का अनुसंधान कर वायरल हो रहे दावों की सच्चाई आप तक पूर्व में भी पहुँचायी है। वर्तमान में इसी सन्दर्भ से जुड़ा एक वीडियो वायरल होता दिख रहा है जिसमें आपको लोगों की एक भीड़ द्वारा एक पुलिसकर्मी को पीटते हुए देख सकते है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि राजस्थान के मेवात में मुस्लिम समुदाय के लोग एक पुलिसकर्मी को पीट रहे है।

वायरल हो रहे पोस्ट के शीर्षक में लिखा है,


“यह देखो राजस्थान का मेवात सीकरी तहसील भरतपुर में कश्मीर का नजारा जब पुलिस ही सुरक्षित नहीं तो मेवात में हिंदू कैसे सुरक्षित रहेगा जिहादी इस्लामिक मुस्लिम कट मुल्लों मैं हिंदू का रहना नर्क के बराबर है। ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, सेकुलर हिंदू आंखें खोल कर देखें।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

इस वीडियो को इंटरनेट पर काफी तेज़ी से वायरल किया जा रहा है।

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रहा वीडियो राजस्थान के भरतपुर स्थित कामां क्षेत्र के जुरहरा गाँव का है। जिस पुलिसकर्मी को पीटा जा रहा है वह हरियाणा पुलिस से है व ये झड़प गाड़ी टकराने को लेकर हुई आपसी विवाद के चलते हुई थी,इस घटना का सांप्रदायिकता से कोई संबन्ध नहीं है।

जाँच की शुरुवात हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च कर की, परिणाम में हमें दैनिक भास्कर द्वारा प्रकाशित एक समाचार लेख मिला जिसमें वायरल हो रहे वीडियो में दिखाये गये दृश्य की तस्वीरें प्रकाशित की गयी है। समाचार लेख के मुताबिक, 

राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित कामां क्षेत्र के जुरहरा गाँव में लोगों ने एक पुलिसकर्मी को बेरहमी से पीटा। दरअसल जुरहरा गाँव राजस्थान और हरियाणा बोर्डर के पास स्थित है व हरियाणा के पुनहाना थाने का एक पुलिसकर्मी एक केस की जाँच करने के लिए जुरहरा आया था व उनकी गाड़ी की किसी दूसरी गाड़ी से टक्कर हो गयी जिसके चलते पहले दोनों पक्षों में कहासुनी हुई व बाद में वहाँ उपस्थित लोगों ने पुलिसकर्मी की पीटायी कर दी थी। 

समाचार लेख के मुताबिक यह घटना लगभग एक महीने पुरानी है परंतु यह लेख इस वर्ष 23 मार्च को प्रकाशित किया गया था।

आर्काइव लिंक

दैनिक भास्कर द्वारा उनके आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर प्रसारित किये गये वीडियो में आप उपरोक्त मामले की रिपोर्ट देख सकते है। वीडियो इस वर्ष 23 मार्च को प्रसारित किया गया था व इसके शीर्षक में लिखा है, “पुलिसकर्मी को बेरहमी से पीटा व नीचे दी गयी जानकारी में लिखा है, पुलिसकर्मी को बेरहमी से पीटा: पुलिस की जीप से हुई टक्कर के बाद गुस्साए लोगों ने कांस्टेबल को जमकर पीटा, वर्दी भी फाड़ी; वीडियो भी सामने आया।“

आर्काइव लिंक

इसके पश्चात इस मामले की अधिक जानकारी हासिल करने हेतु फैक्ट क्रेसेंडो ने हरियाणा के नूहं जिले में स्थित पुनहाना के डी.एस.पी शमशेर सिंह से संपर्क किया तो उन्होंने वायरल हो रहे दावे को गलत बताते हुए कहा कि, 

वायरल हो रहा दावा सरासर गलत है। इस मामले में सांप्रदायिकता की कोई भूमिका नहीं है। एक केस के सिलसिले में पुनहाना पुलिस थाने का एक पुलिसकर्मी गुरहरा गया हुआ था, वहाँ पर हमारी गाड़ी की टक्कर एक दूसरी गाड़ी से हो गयी और इसी के चलते हमारे पुलिसकर्मी की पीटायी कर दी गयी। हमने उन सभी लोगों के खिलाफ कामां के जुरहरा पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी है।

इसके पश्चात इसी मामले के बारे में बात करने हेतु फैक्ट क्रेसेंडो ने भरतपुर के एस.पी देवेंद्र बिश्नोई से संपर्क किया तो उन्होंने हमें बता कि, 

हरियाणा से एक लड़का और लड़की भाग गये थे, उस सिलसिले में हरियाणा की पुलिस जुरहरा आयी थी। ये पुलिसकर्मी पुनहाना थाने का हवलदार है और उसकी गाड़ी एक स्थानीय निवासी की गाड़ी से थोड़ी टकरा गयी थी, इतना गंभीर मामला नहीं था, परंतु दोनों, हवलदार व स्थानीय निवासी में कहा-सुनी हो गयी, जिसके बाद वहाँ उपस्थित लोगों द्वारा हमारे पुलिसकर्मी के साथ मार पिटाई की गई  । किसी ने इसका वीडियो बना लिया और इंटरनेट पर वायरल कर दिया। दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवायी थी, परंतु उसके बाद दोनों पक्षों में राजीनामा हो गया व मामला शांत हो गया है। इस पूरे मामले में किसी एक विशेष समुदाय के हाथ होने की वायरल खबर गलत व भ्रामक है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वीडियो के साथ किया जा रहा उपरोक्त दावा गलत है। वायरल हो रहा वीडियो राजस्थान के भरतपुर स्थित कामां क्षेत्र के जुरहरा गाँव का है। जिस पुलिसकर्मी को पीटा जा रहा है वह हरियाणा पुलिस से है व ये घटना एक आपसी विवाद की है इस घटना का सांप्रदायिकता से कोई संबन्ध नहीं है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. अमूल आइसक्रीम में सूअर की चर्बी इस्तेमाल होने के दावे फर्जी हैं |

२. 2016 में केलिफोर्निया के टर्लोक सीटी के एक गुरुद्वारे में हुई झडप को कनाडा व भारत से जोड़ वायरल किया जा रहा है।

३. क्या राकेश टिकैत पर गाजीपुर में लगे टेन्टों के किराये का भुगतान न करने पर उत्तरप्रदेश में एफ.आई.आर दर्ज की गई? जानिये सच…

Avatar

Title:राजस्थान के जुरहारा में आपसी विवाद को लेकर हुई झड़प को मुस्लिम समुदाई द्वारा की गई मारपीट का बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply