क्या राजस्थान सरकार ने अपने बजट में 100 करोड़ रुपयों को राज्य में स्तिथ एक दरगाह के लिए के आवंटित किया है? जानिये सच…

Communal False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मंचों पर अकसर समाचार पत्रों में छपे लेख व इश्तेहारों को लेकर गलत दावें किये जाते हैं। फैक्ट क्रेसेंडो ने ऐसे कई दावों की सच्चाई पूर्व में भी आप तक पहुँचायी है। इन दिनों एक समाचर लेख में छपे इश्तेहार की तस्वीर काफी वायरल हो रही है जिसमें दावा किया जा रहा है कि राजस्थान सरकार ने 2021-22 के बजट में मुस्लिम समुदाय की दरगाह के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटन किये हैं। 

वायरल हो रहे पोस्ट के शीर्षक में लिखा है,

राजस्थान सरकार ने एक दरगाह के लिए 100 करोड़ रुपए दे दिए। आगे चलकर इसी दरगाह में हिंदुओं की बर्बादी की दुआ मांगी जाएगी।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

इस तस्वीर को सोशल मंचों पर काफी तेज़ी से साझा किया जा रहा है।

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रही खबर सरासर गलत है। राजस्थान सरकार ने 100 करोड़ रुपये का आवंटन सभी धर्म के धार्मिक स्थलों के लिए किया है।

जाँच की शुरुवात हमने राजस्थान के वित्त मंत्रालय के वित्त (बजट) के सचिव डॉ. प्रिथ्वी राज से संपर्क कर की, हमने उनसे इस खबर के बारे में अधिक जानकारी मांगी, उनके द्वारा हमें बताया गया कि, वायरल हो रही खबर सरासर गलत है। राजस्थान के वित्त मंत्रालय ने 100 करोड़ रुपये का आवंटन सभी धार्मिक स्थलों के लिए किया है, ना की सिर्फ दरगाह के लिए। आप हमारी वैबसाइट पर प्रकाशित बजट के दस्तावेज़ पढ़ सकते है, उसमें साफ शब्दों में लिखा है कि सर्वधर्म समभाव को बढ़ावा देने के लिए हिंदू, जैन, सिख, मुस्लिम समुदाय के प्रमुख स्थलों के लिए 100 करोड़ रुपये का बजट आवंटन किया गया है।

उन्होंने हमें यह भी बताया कि धार्मिक स्थलों के लिए आवंटित किये गये बजट के विषय में बजट घोषणा क्रमांक 213 में लिखा गया है। उन्होंने वायरल हो रहे दावे को गलत बताते हुए व स्पष्टिकरण देते हुए बजट घोषणा क्रमांक 213 में दिया गया अनुच्छेद पढ़कर सुनाया।

आर्काइव लिंक

अधिक जाँच करने पर हमें वायरल हो रहा इश्तेहार राजस्थान पत्रिका में इस वर्ष 12 मार्च को प्रकाशित किया हुआ मिला।

आर्काइव लिंक

इस इश्तेहार में मुस्लिम समुदाई के लोगों द्वारा मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत को पहली बार मुस्लिम तीर्थ स्थलों को धार्मिक पर्यटन सर्किट से जोड़ने के लिए आभार व्यक्त किया है, हालाँकि १०० करोड़ रुपयों की मंजूरी सभी धर्मो के धार्मिक स्थलों को धार्मिक सर्किट के अंतर्गत जोड़ने की आवंटित धनराशी है 

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि उपरोक्त दावा गलत है| राजस्थान सरकार ने 100 करोड़ रुपये का आवंटन सभी धर्म के धार्मिक स्थलों के लिए किया है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. अमूल आइसक्रीम में सूअर की चर्बी इस्तेमाल होने के दावे फर्जी हैं |

२. 2016 में केलिफोर्निया के टर्लोक सीटी के एक गुरुद्वारे में हुई झडप को कनाडा व भारत से जोड़ वायरल किया जा रहा है।

३. क्या राकेश टिकैत पर गाजीपुर में लगे टेन्टों के किराये का भुगतान न करने पर उत्तरप्रदेश में एफ.आई.आर दर्ज की गई? जानिये सच…

Avatar

Title:क्या राजस्थान सरकार ने अपने बजट में 100 करोड़ रुपयों को राज्य में स्तिथ एक दरगाह के लिए के आवंटित किया है? जानिये सच…

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •