मेघा व्यास डॉक्टर नही थी ना ही उनकी मौत कोरोनावायरस के संक्रमण से हुई है |सच जानिए |..

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मीडिया पर एक वायरल पोस्ट के ज़रिये यह दावा किया गया है कि पुणे में एक डॉक्टर मेघा व्यास की मृत्यु कोरोना संक्रमण के कारण हो गई है | पोस्ट के साथ एक तस्वीर संग्लित करते हुये यह दावा किया जा रहा है कि यह डॉक्टर कोरोना के मरीज का इलाज करते समय संक्रमित हो गयी थी जिसके बाद उनकी मृत्यु को गयी है|

फैक्ट क्रेस्केंडो के कई पाठकों ने भी हमारे व्हाट्सएप नम्बर (९०४९०५३७७०) पर इस पोस्ट की सत्यता जाननी चाही।

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “कोरोना योद्धा डॉक्टर मेघा जी व्यास पूना में कोरोना वायरस से ज़िंदगी की जंग हार गई, जोधपुर चांदपोल चौक की रहने वाली ।भगवान इनकी महान आत्मा को शान्ति प्रदान करे |”

इस पोस्ट को एक दुसरे कथन से साथ भी साझा किया जा रहा है “रॉयल पर्सन ग्रुप की ओर से डॉक्टर मेघा व्यास पुणे से कोरोना की जंग हार गई दिवंगत आत्मा को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि – एडवोकेट अनामिका शर्मा |

फेसबुक पोस्ट | फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि..

फैक्ट क्रेसेंडो ने सोशल मीडिया पर विभिन्न कीवर्ड की मदद से ये पता लगाया कि राजस्थान के जोधपुर क्षेत्र में वाइरल हो रही तस्वीर के साथ भी कई पोस्ट किए गए थे, जो कि उनकी मृत्यु पर शोक व्यक्त करते हुये पोस्ट थे | जांच करते समय, हमें यह पता चला कि मेघा व्यास के निधन के बारे में  वाइरल पोस्टों में गलत दावे किए जा रहे थे |

सोशल मीडिया पर जानकारी के आधार पर, फैक्ट क्रेस्केंडो ने मेघा के रिश्तेदारों से संपर्क किया, जिन्होंने हमें बताया कि सोशल मीडिया पर जो पोस्ट करोना से सम्बंधित वायरल हो रहें हैं वह फर्जी हैं, मेघा की मृत्यु कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण नहीं हुई है और ना ही वो डॉक्टर थी |

फेसबुक पोस्ट

फैक्ट क्रेसेंडो ने तब मेघा के पति डॉ. श्रीकांत शर्मा से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि मेघा का निधन २२ अप्रैल को हुआ था | पुणे के जहांगीर अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था | उनकी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट भी नेगेटिव आई थी|” 

उन्होंने हमें मेघा को जहांगीर अस्पताल में चिकित्सा करने वाले डॉक्टर द्वारा एक लिखित पत्र भेजा जिसमे यह स्पष्ट रूप से कहा गया है कि उनकी पेशेंट मेघा कोरोनावायरस से संक्रमित नहीं थी और उनकी रिपोर्ट में मेघा की मौत का कारण तीव्र निमोनिया बताया गया है |

डॉक्टर श्रीकांत शर्मा (मेघा के पति) को सोशल मीडिया पर वाइरल हो रहे दावों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “मैं पुणे में एक डॉक्टर हूं | मेरी पत्नी एक गृहिणी थी | सोशल मीडिया पर उनके निधन को लेकर कई फर्जी दावे किए जा रहे हैं जिससे हमारे परिवार को मानसिक प्रताणना का सामना करना पड़ रहा है | शर्मा परिवार ने सोशल यूजर्स से मेघा के बारे में गलत पोस्ट न फैलाने की अपील की है |

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है, तस्वीर में दिख रही महिला का असली नाम मेघा श्रीकांत शर्मा (उम्र 33) है और वह डॉक्टर नहीं है, न ही उनकी मृत्यु कोरोनावायरस के संक्रमण से हुई है | वह पुणे की एक गृहिणी थीं | सोशल मीडिया पर उनके बारे में गलत सन्दर्भ में पोस्ट वायरल हो रही हैं |

Avatar

Title:मेघा व्यास डॉक्टर नही थी ना ही उनकी मौत कोरोनावायरस के संक्रमण से हुई है |सच जानिए |..

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •