ये तस्वीर २०१७ की बांग्लादेश से है जहाँ नाबालिक के साथ अभद्र व्यवहार के कारण इस लड़के को सजा मिली थी |

False International Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

३० नवम्बर २०१९ को फेसबुक पर ‘क्रान्तिकारी शान भखरा की नामक एक यूजर द्वारा एक तस्वीर साझा की गयी थी | इस तस्वीर में एक युवक को जूतों की माला पहने हुए देखा जा सकता है | पोस्ट के विवरण में लिखा है कि, “यह फोटो कोई आम फोटो नही है बल्कि एक आत्म हत्या का कारण भी है | सुबह सुबह स्कूल की प्रार्थना मे बाबा साहैब भीम जी की दो लाइन बोलने पर मनुवादी समाज ने इस बच्चे का यह हाल किया | घटना भिवरी ता , पुरंधर जिला पुणे का है |” इस पोस्ट को १८ हजार से भी ज़्यादा प्रतिक्रियाएं मिली थी | (ArchivedLink)

क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPostक्रान्तिकारी शान भखरा की | ArchivedLink

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जब हमने इस घटना के बारे में जानकारी के लिए सासवड ता- पुरंदर जि- पुणे के पोलीस ठाणे प्रभारी आण्णासाहेब घोलप से संपर्क किया, उन्होंने हमें सास्वद थाणे के पुलिस निरीक्षक प्रकाश हेके से संपर्क करवाया | पुलिस निरीक्षक प्रकाश हेके के मुताबिक, भिवरी उनके अधिकार क्षेत्र में आता है और यह तस्वीर वहाँ की नहीं है | ना ही ऐसी कोई घटना वहाँ घटी है |

इसके बाद हमने उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर ढूंढा, तो हमें बंगलादेश के दो समाचार वेबसाइट पर इस तस्वीर से सम्बंधित ख़बर २०१७ को प्रकाशित खबर मिली | इन ख़बरों के अनुसार ३० अप्रैल २०१७ को बांग्लादेश में घटाईल जिला के टंगाईल इलाके में ‘बाशा बैद उच्च विद्यालय’ की ९वीं कक्षा की एक छात्रा के साथ ‘सागर दिघी स्कूल व कॉलेज’ के १२वीं कक्षा के छात्र मुस्तफ़ा द्वारा अभद्र व्यवहार करने के लिए मुस्तफ़ा को जूतों की माला पहनाकर सज़ा दी गयी थी | पूरी ख़बर को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें | ख़बरें बंगला में प्रकाशित होने के वजह से हमने गूगल ट्रांसलेटर की मदद से इसे अंग्रेजी भाषा में बदलकर स्क्रीनशॉट हमारे पाठकों के सुविधा के लिए नीचे दिया है |

IttefaqNewsPost | ArchivedLink

MTnews24Post | ArchivedLink

इस अनुसंधान से यह बात स्पष्ट होती है कि उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर २०१७ को बांग्लादेश में एक नाबालिक के साथ अभद्रता करने के लिए लड़के को दी गयी सज़ा की थी | इस तस्वीर का भिवरी, तालुका पुरंधर, जिला पुणे का कोई संबंध नहीं है | इस तस्वीर को गलत विवरण के साथ लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से फैलाया जा रहा है |

जांच का परिणाम :  उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा “भिवरी, तालुका पुरंधर, जिला पुणे में स्कूल की प्रार्थना मे बाबा साहैब भीम जी की दो लाइन बोलने के लिए बच्चे को पहनायी गयी जूतों की माला |” ग़लत है |

Avatar

Title:ये तस्वीर २०१७ की बांग्लादेश से है जहाँ नाबालिक के साथ अभद्र व्यवहार के कारण इस लड़के को सजा मिली थी |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply