पाकिस्तान के व्यक्ति की तस्वीर को तिरुपती बालाजी मंदिर का पुजारी कहा जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

५ सितम्बर २०१९ को फेसबुक पर ‘Girish Chand Bhatt’ नामक एक यूजर ने एक पोस्ट साझा किया है | पोस्ट में कुछ तस्वीरें दी गयी है, जिसमें एक व्यक्ति और तीन लड़कियां सोने के गहनों से लदी हुई है | पोस्ट के विवरण में लिखा है – “तिरुपती बालाजी मंदिर के पंडित की तीन बेटियों की शादी की फोटो. तीनों के सोने के गहनों का बजन 125Kg है | नागरिक. …सोचो दान कहां करना चाहिए | दान मंदिर मे नही आर्मी मे करो | पूरे देश मे ये मेसेज को इतना फैलाओ की लोग मंदिर मे नही हमारे देश की सेना क लिए दान करे |” 

इस पोस्ट द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि ‘तस्वीर में दिखाया गया सोने से लदा व्यक्ति तिरुपती बालाजी मंदिर का पुजारी है |’ क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

५ जुलाई २०१९ को फैक्ट क्रिसेंडो हिंदी टीम ने उपरोक्त दावे से सामान दावे का फैक्टचेक किया था | इस फैक्टचेक के दौरान हमने ‘Gold Man’ कीवर्ड्स से कई तस्वीरें प्राप्त की थी |

इसलिए हमने सबसे पहले गूगल पर ‘Gold Man’ कीवर्ड्स से ढूंढा, तो हमें उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर में दिखने वाले व्यक्ति की तस्वीर मिली |

तस्वीर पर क्लिक करते ही हमें उपरोक्त व्यक्ति का ‘Goldman kaka 222’ नामक एक फेसबुक अकाउंट मिला | जब हमने इस अकाउंट की जांच की, तो पता चला कि इस व्यक्ति का नाम ‘अमजद सईद’ है और यह व्यक्ति पकिस्तान के रावलपिंडी शहर से है | इस फेसबुक अकाउंट में हमें इस व्यक्ति द्वारा साझा एक घंटे का एक वीडियो भी प्राप्त हुआ |

FacebookPage | ArchivedLink

इस अनुसंधान से यह साफ़ पता चलता है कि अमजद सईद नामक यह व्यक्ति पाकिस्तान से है व मुस्लिम है और किसी भी मंदिर का पुजारी होने के लिए एक व्यक्ति का ब्राह्मण होना ज़रूरी होता है | यह दावा करना कि यह व्यक्ति पुजारी है सिर्फ लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से हो सकता है |

इसके बाद हमने दावे में दी गयी तीनों युवतियों की तस्वीर को गूगल में अलग-अलग कीवर्ड्स से ढूंढा, तो हमें stomp.straitstimes.com नामक एक वेबसाइट मिली | इस वेबसाइट पर हमें २१ अक्तूबर २०१६ को एक खबर प्रसारित मिली, जिसके अनुसार बिहार के एक डाकू के बेटी की शादी बड़ी ही शानदार तरह से हुई थी | इस लेख के अनुसार, इस शादी में सोना, पैसे और बन्दूक  जैसी किसी भी चीज़ की कमी नहीं थी | इस खबर में उपरोक्त पोस्ट में साझा सोने से लदी युवतियों की तस्वीर भी हमें मिली | पूरे खबर को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

Stomp.straitstimesPost | ArchivedLink

इसके अलावा हमें फेसबुक पर Sudar Oli Malaysia नामक एक यूजर द्वारा २६ मई २०१६ को साझा एक पोस्ट मिला | इस पोस्ट में भी उपरोक्त तस्वीर साझा थी और इस पोस्ट के विवरण में लिखा था – ‘IN BIHAR STATE..ONE OF THE GANGSTER DAUGHTER’s MARRIAGE LIKE..THIS..’

FacebookPost | ArchivedLink

जब हमने इस बारे में और छान-बीन की, तो हमें ‘Hindustan Times‘ द्वारा २७ अप्रैल २०१६ को प्रसारित एक खबर मिली | इस खबर में हमें फेसबुक में मिले पोस्ट की एक तस्वीर मिली | इस खबर के अनुसार, गुजरात में कुतियाना के पूर्व MLA का परिवार जब भगवत सप्ताह के पर्व पर पोथी यात्रा कर रहा था, उस वक्त यह तस्वीरें (१२ अप्रैल २०१६) को ली गयी थी और महज़ तस्वीरें खींचने के लिए हाथ में बन्दूक पकड़ी गयीं थी| इस बात पर पुलिस द्वारा कार्यवाही भी चली थी | मगर इस खबर में शादी के जोड़े में सोने से लदी युवतियों की तस्वीर साझा नहीं थी |

HindustantimesPost | ArchivedLink

स्थानीय समाचार चैनल ‘SandeshNews’ के YouTube चैनल पर भी इस घटना से जूरी एक ख़बर प्रसारित मिली |

फेसबुक पर १ अप्रैल २०१६ को ‘Mr.गुर्जर‘ नामक एक यूजर ने यह तस्वीर साझा करते हुए कहा कि, “सतपाल खारी भाई की बेटियों की शादी में २१ किलो सोना, ७ करोड़  ५१ लाख रुपये और ३ फेरारी गाडी दी |

Facebook.com | ArchivedLink

हमने गुजरात के ही एक रहवासी ‘फ़ैयाज़ मोदासीया‘ द्वारा २२ मार्च २०१६ को इस तस्वीर को व्यंग के उद्देश्य से ट्वीट किया गया भी पाया |

Tweet | ArchivedLink

इन सोने से लदी तीन युवतियों के तस्वीर को कोई तिरुपती बालाजी के पुजारी की बेटियों के नाम से, कोई बिहार के डाकू की बेटी के नाम से, कोई गुर्जर की बेटी तो कोई गुजरात के पूर्व MLA की बेटी के नाम से २०१६ से साझा करता आ रहा है | इस अनुसन्धान से यह साफ़ पता चलता है कि यह तस्वीर कई वर्षों से इंटरनेट में अलग-अलग दावे से लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से फैलाई जा रही है और इनका तिरुपती बालाजी मंदिर से कोई सम्बंध नहीं है, उपरोक्त पोस्ट में दी गयी तस्वीरें गलत दावे के साथ भ्रम पैदा करने के लिए साझा की जा रही है |

जांच का परिणाम : इस संशोधन से हम इस निष्कर्ष पर आते हैं कि उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा ‘तस्वीर में दिखाया गया सोने से लदा व्यक्ति तिरुपती बालाजी मंदिर का पुजारी है |’ ग़लत है | उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर में दिखाया गया व्यक्ति पाकिस्तान से है और इसका बालाजी मंदिर से कोई संबंध नहीं है |

Avatar

Title:पाकिस्तान के व्यक्ति की तस्वीर को तिरुपती बालाजी मंदिर का पुजारी कहा जा रहा है |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •