२८ अक्टूबर २०१४ की तस्वीर को वर्तमान दिल्ली प्रदूषण के साथ जोड़कर फैलाया जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

४ नवम्बर २०१९ को फेसबुक पर ‘I.T & Social Media Cell Congress द्वारा की गई एक पोस्ट में एक तस्वीर साझा की गयी है | पोस्ट के विवरण में लिखा है कि, ये है – मनोज तिवारी, सांसद – उतर पूर्वी दिल्ली | मशगूल है पटाखे चलाने में, दिल्ली की इस हालात पर इन्हें बिल्कुल भी तरस नहीं आता. शर्म आती है ये कहते हुए की दिल्ली की जनता ने ऐसे व्यक्ति को ऐसा सांसद चुना है |” इस पोस्ट में यह दावा किया जा रहा है कि – ‘जब पूरी दिल्ली वायु प्रदूषण से परेशान है, तब मनोज तिवारी (सांसद) पटाखे जलाकर और प्रदूषण फैला रहे हैं |’ क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले उपरोक्त पोस्ट मे साझा तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च में ढूंढा, तो हमें DailyPioneer द्वारा २९ अक्टूबर २०१४ को प्रकाशित एक ख़बर मिली| इस ख़बर में उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर संग्लित है व ख़बर के मुताबिक २०१४ में जब सरकार द्वारा छठ पूजा को एक सार्वजनिक छुट्टी के रूप में मंजूर किया गया था, तब इस फैसले की ख़ुशी के चलते मनोज तिवारी ने पूर्वांचलियों के साथ पटाखे जलाये थे | पूरी ख़बर पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

DailypioneerPost | ArchivedLink

इसके अलावा हमें २८ अक्टूबर २०१४ को Outlookindia द्वारा प्रकाशित कुछ तस्वीरें मिली, जिसमे से २०वीं तस्वीर मनोज तिवारी की थी | इस तस्वीर के विवरण में भी यही लिखा कि बीजेपी के सांसद मनोज तिवारी दिल्ली में छठ पूजा को सार्वजनिक छुट्टी घोषित करने के उपलक्ष में जश्न मनाते हुए |

OutlookindiaPost | ArchivedLink

उपरोक्त पोस्ट मे साझा तस्वीर २०१४ से इन्टरनेट पर मौजूद है और वर्तमान से इस तस्वीर का कोई संबंध नहीं है, हमने मनोज तिवारी द्वारा २०१९ की दिवाली व छठ पूजा की तस्वीरें ढूंढी | इस अनुसंधान में हमें मनोज तिवारी के आधिकारिक ट्विटर पेज पर साझा तस्वीरें व वीडियो मिले | जब हमने इन तस्वीरों और वीडियो को देखा, तो हमने तीनो अवसर पर उनकी पोशाकों को अलग पाया, जिनकी तुलनात्मक तस्वीरें नीचे दी गई है |

Image 1 | ArchivedLinkTweet 2 | ArchivedLink
Tweet 3 | ArchivedLinkTweet 4 | ArchivedLink

इस अनुसंधान से यह बात स्पष्ट होती है कि उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीर २८ अक्टूबर २०१४ की थी और वर्तमान से इस तस्वीर का कोई संबंध नहीं है | तस्वीर को गलत विवरण के साथ लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से फैलाया जा रहा है |

जांच का परिणाम :  उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा “जब पूरा दिल्ली वायु प्रदूषण से परेशान है, मनोज तिवारी (सांसद) पटाखे जलाकर और प्रदूषण फैला रहे हैं |” ग़लत है |

Avatar

Title:२८ अक्टूबर २०१४ की तस्वीर को वर्तमान दिल्ली प्रदूषण के साथ जोड़कर फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply